न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सेंसेक्स 200 अंक से अधिक लुढ़का, 41 पैसे गिरा रुपया 

583

Mumbai : विदेशी निवेशकों की जारी बिकवाली के बीच मुख्य औद्योगिक वृद्धि दर सुस्त पड़ने से बृहस्पतिवार को शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 200 अंक से अधिक टूट गया.

बीएसई का 30 शेयरों वाला संवेदी सूचकांक सेंसेक्स 205.69 अंक यानी 0.55 प्रतिशत गिरकर 37,275.43 अंक पर चल रहा था. एनएसई का निफ्टी भी 16.15 अंक यानी 0.44 प्रतिशत गिरकर 11,069.25 अंक पर चल रहा था.

इसे भी पढ़ें- आपके अखबार ने दी यह सूचना !! स्टील, कोयला समेत आठ कोर सेक्टर में ग्रोथ रेट सिर्फ 0.2 प्रतिशत, 2015 के बाद सबसे कम

मुख्य उद्योगों की वृद्धि दर जून महीने में गिरकर 0.20 फीसदी

इससे पहले बुधवार को सेंसेक्स में 83.88 अंक यानी 0.22 प्रतिशत और निफ्टी में 32.60 अंक यानी 0.29 प्रतिशत की गिरावट में था. शुरुआती आंकड़ों के अनुसार, बुधवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 1,497.07 करोड़ रुपये की शुद्ध बिकवाली की.

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, आठ मुख्य उद्योगों की वृद्धि दर जून महीने में गिरकर 0.20 प्रतिशत पर आ गयी. विशेषज्ञों ने कहा कि बुधवार को औद्योगिक वृद्धि के आधिकारिक आंकड़ों के जारी होने के बाद निवेशकों की धारणा प्रभावित हुई है.

इस बीच सरकार का राजकोषीय घाटा पहली तिमाही में 4.32 लाख करोड़ रुपये पर पहुंच गया. यह पूरे वित्त वर्ष के बजटीय अनुमान का 61.40 प्रतिशत है. अमेरिका के फेडरल रिजर्व ने एक दशक से भी अधिक समय बाद मुख्य ब्याज दर में 0.25 प्रतिशत की कटौती की है. एशियाई बाजारों में जापान का निक्की, चीन का शंघाई कंपोजिट, हांग कांग का हैंग सेंग और दक्षिण कोरिया का कोस्पी कारोबार के दौरान गिरावट में चल रहे थे. बुधवार को अमेरिका वाल स्ट्रीट में भी गिरावट रही थी.

इसे भी पढ़ें- जीएसटी पर कैग रिपोर्ट में गड़बड़ी की आशंकाः दो सालों में भी 2.11 लाख करोड़ का सेटलमेंट नहीं

शुरुआती कारोबार में 41 पैसे गिरा रुपया

कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों तथा विदेशी निवेशकों की जारी बिकवाली से गुरुवार को शुरुआती कारोबार में रुपया 41 पैसे गिरकर 69.20 रुपये प्रति डॉलर पर आ गया. बुधवार को यह 68.79 रुपये प्रति डॉलर पर बंद हुआ था.

कारोबारियों ने कहा कि अन्य प्रमुख मुद्राओं की तुलना में डॉलर के मजबूत होने तथा घरेलू शेयर बाजारों के सतर्कता में खुलने से भी रुपये पर दबाव रहा. प्राथमिक आंकड़ों के अनुसार, बुधवार को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) ने 1,497.07 करोड़ रुपये की शुद्ध बिकवाली की. इस बीच कच्चा तेल 0.70 प्रतिशत मजबूती में 65.17 डॉलर प्रति बैरल पर चल रहा था.

style="display:block; text-align:center;" data-ad-layout="in-article" data-ad-format="fluid" data-ad-client="ca-pub-4464267052229509" data-ad-slot="3747040069">

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: