न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सेंसेक्स में 100 अंक से अधिक की गिरावट, रुपया भी 16 पैसे टूटा

आइएमएफ की ओर से भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाये जाने के बीच निवेशकों की धारणा कमजोर पड़ने से बीएसई सेंसेक्स में गिरावट

667

Mumbai : अंतरराष्ट्रीय मुद्राकोष (आइएमएफ) की ओर से भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान घटाये जाने के बीच निवेशकों की धारणा कमजोर पड़ने से बीएसई सेंसेक्स में बुधवार को शुरुआती कारोबार में 100 अंक से अधिक की गिरावट देखने को मिली.

कारोबारियों का कहना है कि बड़े पैमाने पर विदेशी मुद्रा की निकासी का असर भी बाजार पर देखने को मिला. बीएसई का 30 शेयरों पर आधारित संवेदी सूचकांक 250 अंक से अधिक की गिरावट के साथ खुला. लेकिन इसके बाद उसमें थोड़ा सुधार दर्ज किया गया.

निफ्टी 0.34 प्रतिशत टूटा

आधे घंटे के कारोबार के बाद बीएसई 104.13 अंक यानी 0.27 प्रतिशत की गिरावट लिए 37,878.61 अंक पर था. वहीं एनएसई का निफ्टी 38.30 अंक यानी 0.34 प्रतिशत टूटकर 11,292.75 अंक पर बंद हुआ.

पिछले सत्र में सेंसेक्स 48.39 अंक यानी 0.13 प्रतिशत की गिरावट के साथ 37,982.74 अंक पर बंद हुआ था. निफ्टी भी 15.15 अंक यानी 0.13 प्रतिशत टूटकर 11,331.05 अंक पर बंद हुआ.

इन कंपनियों की शेयरों में रहा उतार-चढ़ाव

शुरुआती कारोबार में वेदांता, इंड्सइंड बैंक, एमएंडएम, मारुति, बजाज ऑटो, भारती एयरटेल, आईसीआईसीआई बैंक, बजाज फाइनेंस, टाटा स्टील के शेयरों में 1.99 प्रतिशत अंक तक की गिरावट देखने को मिली.

वहीं, एचडीएफसी बैंक, येस बैंक, पावरग्रिड, टेकएम, एचयूएल, एसबीआई और एचडीएफसी बैंक के शेयर 1.69 फीसदी तक चढ़ गए. इसी बीच शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़े के मुताबिक मंगलवार को विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुद्ध आधार पर 2,607.97 अंक के शेयरों की बिकवाली की.

दूसरी ओर घरेलू संस्थागत निवेशकों ने 2,625.10 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर खरीदे. अन्य एशियाई बाजारों की बात करें तो शंघाई कम्पोजिट इंडेक्स, हांग सेंग, निक्की और कोस्पी में शुरुआती सत्र में बढ़त देखने को मिली.

रुपया 16 पैसे कमजोर

विदेशी मुद्रा की सतत निकासी एवं कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों के बीच बुधवार को शुरुआती कारोबार में रुपया अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले 16 पैसे फिसलकर 69.10 के स्तर पर पहुंच गया.

विदेशी मुद्रा से जुड़े कारोबारियों का कहना है कि घरेलू शेयर बाजारों में सतर्क शुरुआत और अन्य विदेशी मुद्राओं के मुकाबले डॉलर को मजबूती मिलने से भी रुपये पर दबाव बढ़ गया.

अंतरबैंक विदेशी मुद्रा बाजार में रुपया बुधवार को 16 पैसे टूटकर 69.10 रुपये प्रति डॉलर के स्तर पर खुला. इससे पहले मंगलवार को भारतीय मुद्रा डॉलर के मुकाबले 68.94 के स्तर पर बंद हुई थी.

Related Posts

अमेरिकी उद्योग जगत ने भारत में # CompanyTax घटाने की सराहना की

अमेरिकी उद्योग जगत का कहना है कि यह आर्थिक नरमी को पलट देगा और वैश्विक कंपनियों को भारत में विनिर्माण का केंद्र शुरू करने में मदद करेगा.

style="display:block; text-align:center;" data-ad-layout="in-article" data-ad-format="fluid" data-ad-client="ca-pub-4464267052229509" data-ad-slot="3747040069">

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
झारखंड की बदहाली के जिम्मेदार कौन ? भाजपा, झामुमो या कांग्रेस ? अपने विचार लिखें —
झारखंड पांच साल से भाजपा की सरकार है. रघुवर दास मुख्यमंत्री हैं. वह हर रोज चुनावी सभा में लोगों से कह रहें हैं: झामुमो-कांग्रेस बताये, राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
झामुमो के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन कह रहें हैं: 19 साल में 16 साल भाजपा सत्ता में रही. फिर भी राज्य का विकास क्यों नहीं हुआ ?
लिखने के लिये क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: