Bihar

बिहार कांग्रेस के 11 विधायक जा सकते हैं NDA में, पूर्व विधायक का सनसनीखेज दावा

प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा व अजित शर्मा के भी NDA में जाने के कयास

Patna : बिहार में कांग्रेस की राजनीति फिलहाल गरमा गई है. कांग्रेस के लालगंज के पूर्व विधायक भरत सिंह ने दावा किया है कि पार्टी के 11 विधायक कभी भी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में जा सकते हैं.

उनका दावा है कि एनडीए को तैयार खड़े नेताओं में पार्टी के प्रदेश अध्यतक्ष मदन मोहन झा व कांग्रेस विधायक दल के नेता अजित शर्मा भी शामिल हो सकते हैं. इसके साथ ही भरत सिंह ने कांग्रेस पार्टी को राष्ट्रीय जनता दल से अलग होने की भी सलाह दी है.

यहां यह भी उल्लेखनीय है कि पूर्व विधायक भरत सिंह प्रदेश अध्यअक्ष मदन मोहन झा के पुराने विरोधी रहे हैं. पिछले दिनों मदन मोहन झा समेत विभिन्न बड़े नेताओं पर गंभीर आरोप लगाते हुए धरना दिया था. भरत सिंह ने कहा है कि बिहार विधानसभा चुनाव में महागठबंधन में पार्टी को जो 70 सीटें मिलीं, उनमें अधिकांश बाहरी लोगों को बेच दी गईं. उनमें 11 जीत भी गए. उनका कांग्रेस पार्टी से कोई लगाव नहीं है. भरत सिंह के बयान से प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा कटघरे में आ गए हैं.

इसे भी पढ़ें- डीवीसी बिजली कटौती: जेबीवीएनएल ने मांगा 13 जनवरी तक का समय, सौ करोड़ किया जायेगा भुगतान

आलाकमान को एक्शन लेना चाहिए

भरत सिंह ने प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा पर भी सीधा हमला किया. कहा कि मदन मोहन झा अपनी छुट्टी को भांप चुके हैं। वे अशोक चौधरी की राह पर जा सकते हैं.

विदित हो कि कांग्रेस के अध्यटक्ष रहे अशोक चौधरी पद से हटाए जाने के बाद जनता दल यूनाइटेड (JDU) में शामिल हो गए थे. भरत सिंह ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को अब एक्शन में विलंब नहीं करना चाहिए. आलाकमान को कांग्रेस में दुकान खोलने वालों को हटाना चाहिए.

इसे भी पढ़ें- सौरव पर बनी रहेगी अडानी की कृपा, विज्ञापन से हटाने की खबरों का अडानी ग्रुप ने किया खंडन

कांग्रेस के प्रवक्ता ने किया पलटवार

भरत सिंह के बयान पर कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता ने पलटवार करते हुए कहा कि बिकाऊ या दलबदलू किस्म के लोग 2015 में ही चले गए थे. अब कांग्रेस में बिकाऊ, दलबदलू, सत्ता लोभी या लालची लोग नहीं बचे. इसपर भरत सिंह ने फिर जवाब दिया कि जब पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष ही गलत हैं तो प्रवक्ता कैसा होगा, समझा जा सकता है.

वे पार्टी में नए-नए आए हैं. अपनी बात पार्टी फोरम पर उठाने के बदले मीडिया में ले जाने पर उन्होंने कहा कि आलाकमान तक सबों की बात नहीं पहुंचती, इसलिए मीडिया का सहारा लेना पड़ा.

इसे भी पढ़ें- सीएम के काफिले पर हमलाः डीजीपी ने की High Level Meeting, दो थाना प्रभारी सस्पेंड

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: