JharkhandLateharLead News

पंचायत चुनाव पर टाना भगतों की आपत्ति पर मुख्यमंत्री सहित वरिष्ठ अधिकारी रखे हुए हैं नजर

Ranchi :  टाना भगत पंचायत चुनाव का विरोध कर रहे हैं. पांचवीं अनुसूची का हवाला देते वे पारंपरिक व्यवस्था को अपनाए जाने की मांग कर चुके हैं. इस पर सीएम सहित राजभवन की भी नजर है. टाना भगतों ने चुनाव के विरोध में अलग ही रास्ता अख्तियार कर रखा है.

इसे भी पढ़ें :पलामू : ड्यूटी कर रात में सोये रेलकर्मी की सुबह मिला शव, मुंह से आया था ब्लड

लातेहार समाहरणालय तीन दिन तक ठप रखा था

Chanakya IAS
SIP abacus
Catalyst IAS

इसे लेकर उन्होंने लातेहार समाहरणालय को भी 26 अप्रैल से तीन दिनों से अधिक समय तक ठप कर दिया था. समाहरणालय में धरना की वजह से वहाँ कामकाज प्रभावित हो रहा था. 30 अप्रैल को आखिरकार लातेहार डीसी अबू इमरान सामने आये थे और उनसे संवैधानिक तरीके से अपनी मांग को रखने की बात कही थी. साथ ही सरकार तक उनकी बातों को ले जाने को आश्वस्त किया था.

The Royal’s
Sanjeevani
MDLM

इधर टाना भगतों के जोरदार आंदोलन की खबर पर खुद सीएम हेमन्त सोरेन, पंचायती राज मंत्री आलमगीर आलम समेत राज्य के कई उच्च अधिकारियों ने टाना भगतों के मांगों के सम्बन्ध में जानकारी ली थी. मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, राज्यपाल के प्रधान सचिव डॉ नितिन मदन कुलकर्णी, मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार अभिषेक प्रसाद ने भी अबु इमरान से फोन पर जानकारी ली थी.

इससे पता लगता है कि मुख्यमंत्री समेत राज्य के उच्च अधिकारी हालात पर लगातार नजर रख रहे थे. टाना भगतों का धरना समाप्त कराने को सहमत कराने में विधायक लातेहार बैद्यनाथ राम की भी महत्वपूर्ण भूमिका रही थी. अब टाना भगत उम्मीद कर रहे कि उनकी मांगों पर सरकार नये सिरे से विचार जरूर करेगी.

इसे भी पढ़ें :केंद्र सरकार राज्य का एक लाख 30 हजार करोड़ रुपये बकाया भुगतान कर दे तो 24 घंटे मिलेगी बिजली : सीएम

Related Articles

Back to top button