न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीनियर कैप्टन का महिला पायलट से सवाल: क्या तुम्हें हर दिन सेक्स की जरूरत नहीं पड़ती?

535

New Delhi : एयर इंडिया में एक अजीब सा मामला सामने आया है. जिसमें एक महिला पायलट ने अपने सीनियर कैप्टन पर यौन शोषण का आरोप लगाया है. इस मामले में पायलट ने प्रबंधन को अपनी शिकायत दर्ज करवायी है. जिसकी जानकारी एयर इंडिया के एक प्रवक्ता ने दी है.

प्रवक्ता ने इस बारे में बताया कि महिला पायलट की ओर से प्रबंधन को शिकायत की गयी है. जिसमें पायलट ने अपने सीनियर कैप्टन पर उससे आपत्तिजनक सवाल करने का आरोप लगाया है.

महिला ने शिकायत में कहा है कि, हमारी ट्रेनिंग सेशन खत्म होने के बाद हैदराबाद में हम दोनों को  इंस्ट्रक्टर ने एक रेस्टोरेंट में डिनर करने की सलाह दी.

महिला पायलट की शिकायत में लिखीं बातें  

इससे आगे महिला पायलट ने लिखा है कि, चूंकि कई उड़ानों के दौरान मैं उनके साथ थी औ र उस दौरान उनका स्वभाव भी शालीन था. जिससे में भी डिनर के लिए राजी हो गयी. हम दोनों रात के करीब आठ बजे रेस्टोरेंट गये, लेकिन वहां पहुंचते ही मेरे साथ बद्तमीजी शुरू हुई.

महिला पायलट ने बताया कि, डिनर के दौरान कैप्टन ने मुझे बताना शुरू किया कि वह अपनी शादीशुदा जिंदगी से परेशान और निराश है. जिससे वह दुखी भी रहता है. फिर इससे आगे कैप्टन ने मुझसे मेरे पति के बारे में पूछा कि मैं उनके साथ कैसे रहती हैं.

कुछ जवाब देने से पहले ही कैप्टन ने पूछा कि क्या मुझे हर दिन सेक्स की जरूरत नहीं पड़ती. इसपर मैंने उनका विरोध किया और कहा कि मैं इन मुद्दों पर बात नहीं करना चाहती और फिर मैंने कैब बुलाया और चली लगी.

इसे भी पढ़ें – तेजी से घट रहा झारखंड का जलस्तर, एक साल में गिरा औसतन साढ़े छह फीट

Related Posts

चार जजों की नियुक्ति के साथ 11 साल में पहली बार SC के जजों की संख्या 31 हुई

राष्ट्रपति द्वारा चार जजों को शपथ दिलाने के बाद 2009 के बाद पहला मौका है जब  SC  के जजों की कुल संख्या 31 हो गयी है.

 पद से हटाये गये प्रोफेसर

वहीं दूसरी ओर से एक अन्य घटना भी कुछ ऐसी ही सामने आयी है. जो सिक्किम विश्वविद्यालय की छात्रा से जुड़ी हुई है. छात्रा ने अपने विभाग के एक प्रोफेसर के खिलाफ यौन उत्पीड़न की शिकायत की. शिकायत आते ही मंगलवार को प्रोफेसर को उसके पद से हटा दिया गया.

एसयू के रजिस्ट्रार प्रोफेसर टी के कौल ने इउस बारे में एक अधिसूचना में बताया है कि जिस प्रोफेसर पर आरोप लगा है, वो जन संचार विभाग का अध्यक्ष है. साथ ही बताया कि प्रोफेसर के विभाग में जाने के अलावा उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन करने पर भी रोक लगा दी गई है.

इसके अलावा प्रोफेसर कौल ने बताया कि, जन संचार विभाग के विभागाध्यक्ष को  एक छात्रा द्वारा उनपर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया है और उसकी जांच पूरी होने तक उन्हें पद से हटा दिया गया है. रजिस्ट्रार ने बताया कि पीड़िता ने लिखित में रविवार को ही शिकायत की थी और इसपर विश्वविद्यालय की आंतरिक शिकायत समिति की ओर से की गयी सिफारिशों के आधार पर ही ये फैसला लिया गया है.

कौल ने बताया कि, आंतरिक शिकायत समिति की ओर से इस मामले में प्रारंभिक जांच की गयी और उसके बाद ही आरोपी प्रोफेसर के खिलाफ कार्रवाई की सिफारिश की गयी.

इसे भी पढ़ें – आरएमएसडब्ल्यू को हटाने का निगम का एक और प्रयास,  टर्मिनेट करने का सरकार को भेजा प्रस्ताव

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

hosp22
You might also like
%d bloggers like this: