न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पानी की विकराल समस्या : पानी का टैंकर देखते ही दौड़ पड़ते हैं वाल्मीकि बस्ती के लोग

दर्द भरी आवाज में महिला की अपील, भैया बस्ती में एक बोरिंग करा दीजिए

36

Ranchi : रांची नगर निगम क्षेत्र में जल समस्या कितनी भयावह रूप ले चुकी है, इसका जीता जागता उदाहरण राजधानी के वीआईपी मार्ग कहे जाने वाले हरमू रोड के वार्ड 27 स्थित वाल्मीकि बस्ती में देखने को मिल जाता है. सोमवार करीब पौने बारह बजे न्यूज विंग रिपोर्टर अपनी बाइक से उस इलाके से गुजर रहा था. अचानक निगम का एक टैंकर वहां पहुंचा. जिससे पानी लेने के लिए बस्ती के लोगों के बीच होड़ मच गयी.

mi banner add

बड़े सहित छोटे-छोटे बच्चे  टैंकर की तरफ ऐसे भाग रहे थे, मानो कई दिनों से पानी से वंचित रहे हों.  जब  इस संवाददाता ने  बाइक रोक कर इस  मुद्दे पर बस्ती के लोगों से बातचीत की, तो कई तरह की जानकारी मिली.   टैंकर से पानी ले रहे स्थानीय युवक ने दिखाया कि बस्ती में निगम द्वारा पाइप तो बिछाये गये हैं, लेकिन उसमें पानी नहीं आता है.

इसे भी पढ़ें – धनबाद में पेयजल संकट गहराया, तोपचांची झील में मात्र सात दिनों का पानी है शेष

 500 -600 की आबादी है प्रभावित

टैंकर से पानी भर रहे एक युवक ने बताया कि वाल्मीकि बस्ती में करीब 80 से 90 परिवार रहते हैं.  आबादी करीब 500-600 के बीच है. दिहाड़ मजदूरी और शहर की गंदगी को साफ करने वाले यहां के लोगों के लिए सबसे बड़ी समस्या पानी की किल्लत है. निगम के द्वारा बस्ती में पानी का पाइप तो बिछाये गये है, लेकिन  पानी नहीं आता है. बस्ती के मुख्य द्वार पर पाइप का गुच्छा  देखते हुए युवक ने कहा कि जब इसमें पानी ही नहीं आता है, तो इसे यहां बिछाने का क्या फायदा हुआ.

इसे भी पढ़ें –  प्रदीप यादव की गिरफ्तारी नहीं होने के पीछे सरकार के मंत्री का हाथ : रिंकी झा
Related Posts

रेल लाइन का निर्माण कार्य जारी, सात दिन में मकान खाली करने का नोटिस, किसानों ने और समय देने की उपायुक्त से गुहार लगायी

भंडारगढा गांव की सड़क बंद होने के कगार पर पहुंच गयी है. रेलवे प्रशासन द्वारा जल्द नयी सड़क का निर्माण नहीं कराया गया तो लोगों तथा छात्र छात्राओं को अस्पताल एवं स्कूल आना-जाना मुश्किल हो जायेगा

पार्षद से कहते-कहते थक गये, पर कोई असर नहीं

एक युवक ने कहा कि पानी की समस्या के बाद भी स्थानीय पार्षद ओमप्रकाश उनके इलाके में कभी भी नहीं आते. पाइप से पानी आ रहा है कि नहीं, इसकी जानकारी भी वे नहीं लेते छोटी गलियों में नालियों की स्थिति खराब है.  लोग कीड़े-मकौड़ों के बीच रहने को विवश है. आदमी यहां बीमारी से मर रहा है. पानी भर रही एक महिला ने  दर्द भरी आवाज में कहा कि भैया बस्ती में एक बोरिंग करवा दीजिए, ताकि  पानी की समस्या  खत्म हो सके.

बिछे हुए पाइप अवैध कनेक्शन हैं, तीन टैंकर पानी भेजते है : पार्षद

इस मामले में वार्ड पार्षद ओमप्रकाश ने बताया कि वाल्मीकि  नगर इलाके में जितने भी पाइप बिछे हैं, सभी के कनेक्शन अवैध हैं. पाइप में पानी नहीं आने के बाद भी वहां के लोग पीएचडी विभाग में शिकायत नहीं कर सकते हैं. जहां तक पानी की बात है, तो वे प्रतिदिन यहां पर तीन टैंकरपानी भेजने का काम करते है, ताकि यहां के लोगों की परेशानी कम हो.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: