Crime NewsLead NewsNational

पति की फोटो दूसरी महिला संग देख भड़की पत्नी, 5 नाबालिग बच्चों को मौत के घाट उतार कर कूद गयी ट्रेन के आगे

छह बच्चों में से सिर्फ एक ही बच पाया क्योंकि वो उस दिन घर से था बाहर

New Delhi : अक्सर ऐसा सुनने को मिलता है कि अवैध संबंध के शक में पति या पत्नी में से किसी की हत्या हो जाती है. अब ऐसा मामला सामने आया है कि एक महिला अपने 5 बच्चों को मारने के बाद आत्महत्या के लिए ट्रेन के सामने कूद गई, लेकिन संयोग से वह बच गई.

इस मामले में जांच कर रही टीम का दावा है कि महिला ने अपने पति की तस्वीर दूसरी महिला के साथ देख ली थी. उसे पति के दूसरी महिला से संबंध होने का शक था.

इसे भी पढ़ें : बेल मिलने के बाद पहली बार NCB के सामने पेश हुए शाहरूख खान के बेटे आर्यन खान, जानें कोर्ट ने किन शर्तों पर दी थी जमानत

क्या है पूरा मामला

जानकारी के अनुसार जर्मनी में एक महिला ने अपने पांच बच्चों की हत्या (Mother Killed Her Kids) कर दी. वह अपने पति के दूसरी महिला के साथ अफेयर (Husband Affair) से नाराज थी. बच्चों को मारने (Children Murder) से पहले उसने पति को मैसेज किया कि वो अब उन्हें कभी नहीं देख सकेगा. कोर्ट ने इस मामले में महिला को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है.

‘मिरर यूके’ के मुताबिक, दूसरी महिला के साथ अपने पति की तस्वीर देखने के बाद 28 वर्षीय क्रिस्टियन (Christiane K) भड़क उठी. उसने 3 सितंबर, 2020 को जर्मनी के सोलिंगन (Germany, Solingen) में अपने पांच बच्चों का गला घोंट दिया. क्रिस्टियन के कुल 6 बच्चे थे.

इसे भी पढ़ें : सोलर पंप वितरण : राज्य सरकार की एजेंसियों में बदलाव के आग्रह को केंद्र ने ठुकराया

 

सभी बच्चों की उम्र 11 वर्ष से कम

कोर्ट में बताया गया कि सभी बच्चों की उम्र 11 वर्ष से कम थी. पांच बच्चों की बाथटब में डूबने या दम घुटने से मौत हुई. इससे पहले बच्चों को नशीला पदार्थ खिलाया गया था. हत्याओं को अंजाम देने के बाद क्रिस्टियन ने उनके शवों को तौलिये में लपेटकर बिस्तर में रख दिया. उसका सबसे बड़ा बेटा, जो उस समय 11 वर्ष का था, बच गया क्योंकि वह उस समय घर से बाहर था.

इसे भी पढ़ें : भारत के खिलाफ टेस्ट सीरीज के लिये न्यूजीलैंड टीम में पांच स्पिनर, किया टीम का ऐलान

कोर्ट ने सुनाई सजा

बीते दिनों कोर्ट ने क्रिस्टियन को दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई. मुकदमे के दौरान कोर्ट ने 40 से अधिक गवाहों को सुना. कोर्ट ने उसके इकलौते जीवित बेटे को उसकी दादी की देखरेख में भेज दिया गया है.

Related Articles

Back to top button