न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नियोजनालयों और आइटीआइ में बाह्य एजेंसियों से सिक्युरिटी गार्ड और सुपरवाइजर होंगे बहाल

श्रम नियोजन और प्रशिक्षण विभाग की तरफ से मांगा गया आवेदन

46

दो वर्ष बाद फिर से शुरू हुई आउटसोर्सिंग की प्रक्रिया, 594 लोगों को मिलेगी नियुक्ति

mi banner add

Ranchi : श्रम नियोजन और प्रशिक्षण विभाग की तरफ से राजकीय नियोजनालयों (इंपलायमेंट एक्सचेंज) और औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान (आइटीआइ) में बाह्य एजेंसियों के जरिये मैनपावर की कमी को पूरा करने का निर्णय लिया गया है. विभाग के विशेष सचिव ने इसके लिए आवेदन मंगाया है. विभाग से मिली जानकारी के अनुसार सरकार की तरफ से कुल 594 मैनपावर आउटसोर्स होंगे. 68 सुपरवाइजर, 361 सुरक्षाकर्मी, 118 पिउन और 37 पार्ट टाइम स्वीपर की बहाली आउटसोर्सिंग के जरिये की जायेगी. इसको लेकर विभागीय मंत्री राज पालिवाल ने भी अपनी सहमति प्रदान कर दी है. दो वर्ष बाद नियोजनालयों और आइटीआइ में आउटसोर्सिंग से मैनपावर की कमी को पाटने की शुरुआत की गयी है. इससे पहले भी दक्ष अनुदेशकों, लिपिक, सफाई कर्मी और अन्य की नियुक्ति आउटसोर्सिंग से करने की प्रक्रिया शुरू की गयी थी, जो सफल नहीं हो सकी.

10 लाख रुपये की परफारमेंस बैंक गारंटी, बोनस, इएसआइ भी देना जरूरी

सरकार की ओर से चयनित एजेंसियों के लिए 10 लाख की परफारमेंस बैंक गारंटी देने की बाध्यता तय की गयी है. इतना ही नहीं बोनस और कर्मचारी भविष्य निधि की राशि की कटौती भी उनके मानदेय में देना जरूरी किया गया है. सरकार की शर्तों में आउटसोर्सिंग कंपनियों के लिए आइएसओ-9001-2015 का होना जरूरी किया गया है. इसके अलावा सुरक्षा प्रदान करनेवाली एजेंसियों को पसारा का निबंधन जरूरी किया गया है. अन्य दस्तावेजों में इपीएफ, इएसआइ रजिस्ट्रेशन, कंपनी एक्ट रजिस्ट्रेशन, आर्टिकल और मेमोरेंडम ऑफ एसोसिएशन, शाप्स एंड इस्टैबलिशमेंट एक्ट की प्रति और तीन वर्ष का अंकेक्षित बैलेंस शीट देना भी जरूरी किया गया है.

राज्य भर में हैं 100 से अधिक आइटीआइ और 45 नियोजनालय

राज्य भर में 100 से अधिक राजकीय आइटीआइ और 42 नियोजनालय हैं. सरकार की तरफ से संचालित आइटीआइ में 22 से 23 हजार युवक-युवतियों का नामांकन प्रत्येक वर्ष लिया जाता है. राजकीय ब्वायज आइटीआइ हेहल और राजकीय ब्वायज आइटीआइ दुमका को सरकार ने मॉडल आइटीआइ का दरजा दिया है.

आउटसोर्स होनेवाले कर्मियों की व्यवस्था

Related Posts

गिरिडीह : बार-बार ड्रेस बदलकर सामने आ रही थी महिलायें, बच्चा चोर समझ लोगों ने घेरा

पुलिस ने पूछताछ की तो उन महिलाओं ने खुद को राजस्थान की निवासी बताया और कहा कि वे वहां सूखा पड़ जाने के कारण इस क्षेत्र में भीख मांगने आयी हैं

कर्मचारी कैडर का मान संख्या दक्षता

सुपरवाईजर                                   68      स्किल्ड

सिक्युरिटी गार्ड (आइटीआइ)           272    अनस्किल्ड

सिक्युरिटी गार्ड (नियोजनालय)         99      अनस्किल्ड

पियून (चपरासी)                           118    अनस्किल्ड

पार्ट टाइम स्वीपर                           37      अनस्किल्ड

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: