lok sabha election 2019

झारखंड के दूसरे चरण के मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम, सुरक्षाबलों की 225 कंपनियां तैनात

विज्ञापन

Ranchi: झारखंड के दूसरे चरण के चुनाव के लिए 6 मई को वोट डाले जायेंगे. इसके लिए निर्वाचन आयोग के निर्देश पर सुरक्षा के पुख्ता प्रबंध किये गये हैं. झारखंड के रांची, खूंटी, कोडरमा और हजारीबाग में 6 मई को मतदान होना है. इन चारों लोकसभा संसदीय क्षेत्र में सुरक्षा व्यवस्था में सुरक्षाबलों की 225 कंपनियां तैनात की गयी हैं.

इसे भी पढ़ें – जेवीएम नेता का यौन-उत्पीड़न, प्रदीप यादव और बाबूलाल मरांडी का अनैतिक हो जाना

रांची और खूंटी अतिनक्सल प्रभावित जिले की श्रेणी में हैं शामिल

चार लोकसभा संसदीय क्षेत्रों में जहां रांची और खूंटी अति नक्सल प्रभावित जिले की श्रेणी में आते हैं तो वहीं हजारीबाग संवेदनशील और कोडरमा कम संवेदनशील जिले के श्रेणी में आता है. अति संवेदनशील बूथों पर सीआरपीएफ के जवानों की तैनाती की जायेगी.

advt

इसे भी पढ़ें – राफेल डील : गोपनीय दस्तावेज सार्वजनिक करने से देश पर खतरा , SC में केंद्र सरकार का जवाबी हलफनामा

8834 मतदान केंद्रों पर डाले जायेंगे वोट

रांची, खूंटी, हजारीबाग और कोडरमा लोकसभा सीटों पर 6 मई को मतदान होना है. जिसमें सुबह सात बजे से दिन के चार बजे तक वोट डाले जायेंगा. राज्‍य के दूसरे चरण में 65 लाख 45 हजार मतदाता अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे. जिसके लिए कुल 8834 मतदान केंद्र बनाये गये हैं.

इसे भी पढ़ें – मुजफ्फरपुर शेल्टर होम मामलाः ब्रजेश ठाकुर और उनके साथियों ने 11 लड़कियों की कथित रूप से की हत्या: CBI

शनिवार शाम से निषेधाज्ञा लागू

शनिवार शाम से रांची, खूंटी, हजारीबाग और कोडरमा में निषेधाज्ञा लागू हो जायेगी, जो सात मई की सुबह 8 बजे तक लागू रहेगी. इसके तहत मतदान कार्य में लगे पदाधिकारियों, पुलिस अफसरों व कर्मचारियों को छोड़ कर पांच व उससे अधिक व्यक्तियों के मतदान केंद्र भवन की 100 मीटर की परिधि में जमा होने या चलने पर प्रतिबंध रहेगा.

adv

इसे भी पढ़ें – सरायकेला-खरसावांः प्रमाणिक दस्ते ने विस्फोट कर उड़ाया था बीजेपी कार्यालय

नक्सलियों की एक भी साजिश कामयाब नहीं हो पायी थी

29 अप्रैल को झारखंड में हुए प्रथम चरण चुनाव के तहत तीन लोकसभा सीट चतरा, पलामू और लोहरदगा क्षेत्र के पलामू, गढ़वा, लातेहार, चतरा, लोहरदगा और गुमला जैसे अतिनक्सल प्रभावित इलाके में लगभग 63 प्रतिशत मतदान कर मतदाताओं ने नक्सल आतंक को  करारा जवाब दिया है. बता दें कि चुनाव से पहले नक्सलियों ने जहां पोस्टरबाजी कर चुनाव बहिष्कार की धमकी दी थी, वहीं भवन उड़ा कर और मशीनों में आग लगा कर चुनाव को प्रभावित करने की कोशिश भी की थी, लेकिन कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच नक्सलियों की एक भी साजिश कामयाब नहीं हो पायी थी.

इसे भी पढ़ें – सामाजिक न्याय आंदोलन की दिशा तय करेगा यह आमचुनाव

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button