न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#धारा 370: राज्यसभा में पास होने के बाद आज लोकसभा में पेश होगा जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल

मंगलवार को श्रीनगर में होंगे राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, अलर्ट पर सुरक्षाबल

713
Related Posts

राहुल गांधी ने कहा,  कॉर्पोरेट टैक्स घटायें या, #HowdyModi इवेंट करें,  देश की खस्ता आर्थिक हालत छिपा नहीं सकते

राहुल गांधी ने तंज कसते हुए ट्वीट किया, #हाउइंडियनइकॉनमी के बीच नीचे जाते शेयर बाजार के लिए मोदी ने जो किया वह शानदार है.

New Delhi : जम्मू-कश्मीर को मिला विशेष दर्जा अब खत्म हो गया है. गृह मंत्री अमित शाह ने सोमवार को  राज्यसभा में चार संकल्प पेश करते हुए आर्टिकल 370 को समाप्त करने का प्रस्ताव रखा था. जिसे एक लंबी बहस के बाद पास कर दिया गया.

राज्यसभा में पास होने के बाद मंगलवार को लोकसभा में जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन बिल को पेश किया जायेगा. लोकसभा से पास होने के बाद इस नये प्रस्ताव को लागू कर दिया जायेगा. गौरतलब है कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल मंगलवार को श्रीनगर में होंगे. ऐसे में जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों को भी अलर्ट पर रखा गया है.

क्या हैं कश्मीर के हालात

धारा 370 के राज्यसभा में पास होने के बाद से पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस इसका विरोध कर रही हैं. इसी वजह से सोमवार की देर रात को पूर्व सीएम और पीपल्स डेमोक्रैटिक पार्टी (पीडीपी) चीफ महबूबा मुफ्ती और नैशनल कॉन्फ्रेंस नेता उमर अब्दुल्ला को हिरासत में ले लिया गया है. दोनों को हिरासत में लेने के बाद सरकारी गेस्त हाउस में रखा गया है. फिलहाल घाटी में सुरक्षा बढ़ा दी गयी है और हर तरह की स्थिति पर नजर रखी जा रही है.

क्या-क्या बदल जायेगा कश्मीर में

कोई भी खरीद सकेगा जमीनः पहले जम्मू-कश्मीर में बाहर को कोई व्यक्ति जमीन नहीं खरीद सकता था, इस फैसले से देश का कोई भी नागरिक अब जम्मू-कश्मीर में जमीन खरीद सकेगा.

अब अलग झंडा नहींः भारत के झंडे के साथ ही जम्मू-कश्मीर का अपना अलग झंडा भी था. वहां सरकारी दफ्तरों में भारत के झंडे के साथ-साथ जम्मू-कश्मीर का झंडा भी लगा रहता था. धारा 370 हटने के साथ ही अब जम्मू-कश्मीर में अलग झंडा नहीं रहेगा. यानी अब सिर्फ राष्ट्रध्वज तिरंगा रहेगा.

दोहरी नागरिकता खत्म: जम्मू-कश्मीर में अब दोहरी नागरिकता भी खत्म हो गयी. धारा 370 के कारण जम्मू-कश्मीर में सिर्फ वहां के स्थायी नागरिक ही वोट दे सकते थे. दूसरे राज्य के व्यक्ति वहां चुनाव में उम्मीदवार भी नहीं बन सकते थे. अब भारत का कोई भी नागरिक वहां के वोटर और प्रत्याशी बन सकते हैं.

अन्य राज्यों की तरह जम्मू-कश्मीर में लागू होगा देश का हर कानूनः धार 370 के कारण देश की संसद को जम्मू-कश्मीर के लिए रक्षा, विदेश मामले और संचार के सिवा अन्य किसी विषय में कानून बनाने का अधिकार नहीं था. जम्मू-कश्मीर को अपना अलग संविधान बनाने की अनुमति दी गयी थी. लेकिन अब यह सब बदल गया है. जम्मू-कश्मीर में भी भारत के अन्य राज्यों की तरह देश का हर कानून मान्य होगा.

खत्म हुआ राज्यपाल का पदः धारा 370 हटने के साथ ही राज्यपाल का पद खत्म हो जायेगा. यहां अब लेफ्टिनेंट गवर्नर रहेंगे. राज्य की पुलिस केंद्र के अधिकार क्षेत्र में रहेगी.

नहीं लागू होती थी धारा 356: जम्मू-कश्मीर राज्य पर संविधान की धारा 356 लागू नहीं होती थी. इस कारण राष्ट्रपति के पास राज्य सरकार को बर्खास्त करने का अधिकार नहीं था. यानी, वहां राष्ट्रपति शासन नहीं, बल्कि राज्यपाल शासन लगता था. लेकिन चूंकि जम्मू-कश्मीर अब केंद्र शासित राज्य होगा, तो अब यह स्थिति भी बदल गयी है.

कश्मीर का अलग से कोई संविधान नहीं: अनुच्छेद 370 के हटाने के बाद जम्मू-कश्मीर को मिले विशेष अधिकार पूरी तरह से खत्म. केंद्र सरकार के इस फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर में भारतीय संविधान पूरी तरह से लागू होगा. इस फैसले के बाद जम्मू-कश्मीर का अपना अलग से कोई संविधान नहीं होगा.

कश्मीर अब केंद्र शासित प्रदेशः जम्मू-कश्मीर में अभी तक विधानसभा की 87 सीटें थीं. लेकिन अब राज्य का बंटवारा किया गया है. जम्मू-कश्मीर केंद्र शासित प्रदेश होगा.

केंद्र शासित जम्मू-कश्मीर की होगी विधानसभाः कश्मीर विधानसभा वाला केंद्र शासित प्रदेश होगा. विधानसभा का कार्यकाल 6 साल की जगह 5 साल होगा.

लद्दाख चंडीगढ़ जैसा केंद्र शासित प्रदेशः अभी तक जम्मू कश्मीर का हिस्सा रहे लद्दाख को अलग केंद्र शासित प्रदेश बनाया जायेगा। यहां जम्मू-कश्मीर की तरह विधानसभा नहीं होगी. इसका प्रशासन चंडीगढ़ की तरह चलाया जायेगा.

RTI कानून भी चलेगाः जम्मू-कश्मीर में आरटीआइ और सीएजी जैसे कानून भी लागू होंगे.

बाहरी राज्य के लोगों को भी नौकरी मिल सकेगीः जम्मू-कश्मीर में देश का कोई भी नागरिक अब नौकरी पा सकता है.

वित्तीय आपातकाल भी लग सकेगाः भारतीय संविधान की धारा 360 जिसके अंतर्गत देश में वित्तीय आपातकाल लगाने का प्रावधान है, वह धारा 370 के कारण जम्मू-कश्मीर पर लागू नहीं होती थी. लेकिन अब ऐसा नहीं होगा. जम्मू कश्मीर भी इसके दायरे में होगा.

जम्मू-कश्मीर की महिलाओं से भेदभाव होगा खत्मः आर्टिकल 370 के खत्म होने के बाद अब अगर जम्मू-कश्मीर की महिला किसी अस्थायी निवासी से शादी कर लेती है तो उसे संपत्ति का अधिकार मिलेगा.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: