JharkhandLead NewsRanchiTOP SLIDER

Jharkhand: रूर्बन मिशन की योजनाएं 31 दिसंबर तक हर हाल में चालू करने का सचिव का निर्देश

Special correspondent

Ranchi: ग्रामीण विकास सचिव डॉ. मनीष रंजन ने राज्य के गैर कृषि क्षेत्र में आर्थिक रूप से विकसित हो रहे ग्रामों के समूह की पहचानकर उन्हें  नगरीय सुविधा उपलब्ध कराने के उदेश्य से केंद्र सरकार के द्वारा शुरू की गयी श्यामा प्रसाद मुखर्जी रूर्बन मिशन योजनाओं पर अविलंब काम प्रारंभ करने का निर्देश संबंधित जिलों को दिया है.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद में भीषण सड़क दुर्घटना, 200 मीटर नीचे गिरी कार, रामगढ़ के पांच लोगों की मौत

Catalyst IAS
ram janam hospital

धनबाद, खूंटी, गुमला, हजारीबाग, प.सिंहभूम, चतरा, दुमका, लातेहार, पाकुड़, सिमडेगा, रांची, रामगढ़, पूर्वी सिंहभूम, गिरिडीह जिलों के उपायुक्त व उपविकास आयुक्तों को संबंधित निर्देश दिया गया है. इस संबंध में भारत सरकार ग्रामीण विकास मंत्रालय के संयुक्त सचिव ने भी झारखंड को पत्र भेजा है. केंद्रीय संयुक्त सचिव ने  कहा है कि निर्धारित समय अवधि में लक्ष्य की प्राप्ति के लिए कार्य प्रगति में तेजी लाने की आवश्यकता है. क्रिटीकल गैप फंड (सीजीएफ) के तहत स्वीकृत सभी योजनाओं का क्रियान्वयन 31 दिसंबर तक निश्चित रूप से करने का निर्देश दिया है. केंद्रीय संयुक्त ने यह भी कहा है कि अगर 31 दिसंबर के पहले योजनाओं पर काम प्रारंभ नहीं हुआ तो सीजीएफ की राशि भारत सरकार के द्वारा रोक दी जायेगी.

 

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

केंद्र के इस निर्देश के बाद विभागीय सचिव डॉ.मनीष रंजन ने सभी जिलों को कहा है कि रूर्बन मिशन अंतर्गत सीजीएफ की अवशेष राशि के विरूद्ध लंबित डीपीआर विभाग को एक सप्ताह के अंदर निश्चित रूप से अवगत कराएं. रूर्बन मिशन के अंतर्गत सीजीएफ के तहत स्वीकृत सभी योजनाओं का क्रियान्वयन अविलंब प्रारंभ किया जाए. सचिव ने स्पष्ट कहा है कि योजना प्रारंभ नहीं हुआ और भारत सरकार के द्वारा राशि की रोक दी जाती है तो इसकी सारी जवाबदेही संबंधित जिलों की तय की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःGood News: झारखंड की टीम को संतोष ट्रॉफी में खेलने की मिली अनुमति, एक दिन पूर्व लगी थी रोक

क्या है योजना

दरअसल,रूर्बन मिशन के तहत झारखंड के 15 जिलों के एक या दो ग्राम पंचायतों का चयन किया गया है,जिसमें नगरीय सुविधाएं उपलब्ध करानी है. चयनित रूर्बन कलस्टरों के व्यवस्थित नगरीय विकास तथा वहां नागरिक सेवाओं,आर्थिक सेवाओं,उत्पादनर एवं आजीविका की वृद्धि के लिए उपलब्ध योजनाओं से अभिषरण तथा अन्य योजनाओं के लिए क्रिटिकल गैप  फंड की राशि का उपयोग किया जाता है. इसके तहत पहचाने गये कार्यो के तहत योजनाओं पर काम करना है.

Related Articles

Back to top button