न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

निर्माणाधीन हज हाउस और करमटोली तालाब का सचिव ने किया निरीक्षण, कंपनी से कहा- फरवरी 2019 तक कार्य करें पूरा, नहीं मिलेगा एक्सटेंशन

18

Ranchi : राजधानी में निर्माणधीन हज हाउस और करमटोली तालाब सौंदर्यीकरण के कार्यों का जायजा लेने सोमवार को नगर विकास सचिव अजय कुमार सिंह अधिकारियों संग पहुंचे. इस दौरान सचिव ने उक्त दोनों कार्यों में लगी कंपनियों को सख्त लहजे में निर्देश दिया कि अगले वर्ष फरवरी के अंत तक कंपनी को कार्य पूरा करना ही होगा. किसी भी हाल में संबंधित कंपनियों को किसी तरह का कोई एक्सटेंशन नहीं मिलेगा. निरीक्षण के दौरान उन्होंने कार्य की प्रगति को देख कंपनी के अधिकारियों, प्रतिनिधियों के प्रति नाराजगी भी जतायी. वहीं, उपस्थित ज्यूडको के अधिकारियों को समय-समय पर निर्माण कार्यों की मॉनिटरिंग करने और इस पर आवश्यक सुझाव देने का निर्देश भी दिया. मौके पर ज्यूडको के प्रोजेक्ट डायरेक्टर (टेक्निकल) एसके साहू,  डीजीएम पीके सिंह,  कंसल्टेंट राजीव चड्ढा,  विभागीय पीआरओ अमित कुमार संग ज्यूडको इंजीनियर तथा कई पदाधिकारी मौजूद थे.

जरूरत हो, तो तालाब की जगह पार्क को करें छोटा

करमटोली तालाब सौंदर्यीकरण कार्यों के निरीक्षण के दौरान सचिव ने कहा कि 30 नवंबर से इस दिशा में कार्य शुरू किया जायेगा. हालांकि, उन्होंने इंजीनियरों को इस बात को भी ध्यान रखने की बात कही कि सौंदर्यीकरण कार्य के दौरान राजभवन से करमटोली चौक तक किसी भी तरह का कोई यातायात बाधित न हो. साथ ही, सौंदर्यीकरण कार्य के नाम पर तालाब में किसी तरह की कटौती भी नहीं करने की बात कही. अगर कटौती करना जरूरी भी हो, तो तालाब किनारे बन रहे पार्क को छोटा करें. निरीक्षण के दौरान सचिव ने तालाब की बाउंड्री वॉल बनाने में किसी तरह के कंक्रीट का उपयोग नहीं करने की सलाह दी. निर्देश दिया कि इसकी जगह यहां आइसोलेटेड फूटिंग ग्रिल लगाने की व्यवस्था की जाये. इससे पहले जुलाई में सीएम रघुवर दास ने भी करमटोली तालाब सौंदर्यीकरण कार्य का निरीक्षण कर निर्माणाधीन संरचना को तोड़ने का निर्देश दिया था. इस आदेश के बाद सौंदर्यीकरण कार्य को रोक दिया गया था.

सोलर सिस्टम आधारित सेंट्रलाइज्ड वाटर हीटर लगायें, ताकि ठंड से मिले राहत

हज हाउस के निरीक्षण के क्रम में सचिव ने निर्माण कार्य कर रही कंपनी को प्रस्तावित मॉडल में बदलाव लाने का भी सुझाव दिया. कहा कि सोलर सिस्टम पर आधारित सेंट्रलाइज्ड वाटर हीटर लगाया जाये, ताकि ठंड के दिन में यहां ठहरनेवाले लोगों को राहत मिले. सोलर सिस्टम के लिए बिल्डिंग की छत पर सोलर प्लेट इंस्टॉल किये जायेंगे. इस दौरान सचिव ने हज हाउस के चारों ओर बन रही बाउंड्री वॉल पर आपत्ति भी जतायी. कहा कि किसी भी हाल में वॉल की ऊंचाई कम न की जाये.

कार्यों में तेजी लाने के लिए करें झारखंड अर्बन प्लानिंग मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट का दौरा

मौके पर ही उन्होंने ज्यूडको के अधिकारियों को कहा कि नगर विकास विभाग का जहां भी कार्य निर्माणाधीन है, वहां की निर्माण कंपनियां, रांची स्मार्ट सिटी में बन रहे झारखंड अर्बन प्लानिंग मैनेजमेंट इंस्टीट्यूट का भी दौरा करें. इससे इंस्टीट्यूट के कार्य को समझकर निर्माणाधीन कार्यों में तेजी लायी जा सकेगी. उन्होंने यह भी निर्देश दिया कि जो डिजाइन और ड्रॉइंग अभी निर्माण कंपनी को नहीं दिये गये हैं, वे भी जल्द से जल्द उपलब्ध करायें, ताकि काम में कोई विलंब न हो.

इसे भी पढ़ें- हाथ से निकल सकता है झारखंड का तीन कोल ब्लॉक, बनहर्दी खदान के कोयले की कीमत है 40 हजार करोड़

इसे भी पढ़ें- शहरों में राजस्व वसूली के लिए अब ज्यूडको लगायेगी जोर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: