Jharkhand Vidhansabha Election

#Secondphase: 2 सीटिंग सीट के साथ कांग्रेस का सिमडेगा और पश्चिमी जमशेदपुर सीट पर है पूरा जोर

विज्ञापन

Ranchi :  दूसरे चरण की 20 सीटों में से कांग्रेस 6 सीटों पर चुनाव लड़ रही है. इन 6 सीटों में से पार्टी का 2 सीटों पर कब्जा है. वहीं अन्य 4 सीटों पर मजबूत प्रत्याशी को उतार पार्टी जीत का दंभ भर रही है.

दूसरी तरफ इन सीटों पर कांग्रेस को बीजेपी प्रत्याशियों से कड़ी टक्कर भी मिल रही है. बता दें कि 6 सीटों में पार्टी ने जगन्नाथपुर से सोना राम सिंकु, कोलेबिरा से नमन विक्सल कोंगाड़ी, सिम़डेगा से भूषण बाड़ा, मांडर से सन्नी टोप्पो, पूर्वी जमशेदपुर से गौरव वल्लभ, पश्चिमी जमशेदुपर से बन्ना गुप्ता को अपना प्रत्याशी बनाया है.

पार्टी के सूत्रों का कहना है कि सीटिंग सीट कोलेबिरा और जगन्नाथपुर के अलावा पार्टी पश्चिमी जमशेदपुर और सिमडेगा पर ज्यादा जोर दे रही है. हाल में कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी की सिमडेगा रैली, पार्टी की एकमात्र सांसद गीता कोड़ा का चुनावी दौरा पार्टी की इसी रणनीति का एक हिस्सा है.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection खूंटी सीट: बीजेपी उम्मीदवार ग्रामीण विकास मंत्री नीलकंठ की राह में कई रोड़े

जगन्नाथपुर सीट पर कांग्रेस है मजबूत स्थिति में

जगन्नाथपुर सीट की बात करें, तो प्रत्याशी सोना राम सिंकु पूर्व मुख्यमंत्री और सांसद गीता कोड़ा के पति मधु कोड़ा के काफी करीबी माने जाते हैं. जगन्नाथपुर सीट पर कांग्रेस की काफी मजबूत पकड़ दिखाती है.

इसका कारण सांसद गीता कोड़ा की क्षेत्र में मजबूत पकड़ बताया जाता है. राज्य बनने के बाद विधानसभा के लिए 2005 में कराये गये पहले चुनाव में राज्य की सियासत के प्रमुख चेहरों में शामिल मधु कोड़ा ने निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल की.

यह उनकी इस सीट पर लगातार दूसरी जीत थी. 2009 के चुनाव में यहां से जय भारत समानता पार्टी की नेता गीता कोड़ा ने जीत हासिल की. वह 2014 के चुनाव में भी यहां से विधायक चुनी गईं. उन्होंने बीजेपी के मंगल सिंह सुरेन (वोट 23935) को चुनाव हराया था.

चुनाव में जीत– हार का अंतर करीब 24,611 था. वहीं 2019 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के बावजूद गीता कोड़ा यहां से चुनाव जीती थीं.

इसे भी पढ़ें – #Jamshedpur में संबित पात्रा ने कहा- रघुवर सरकर के नाम एक दिन में लाखों नौकरी देने का, तो हेमंत सोरेन के नाम एक दिन में 16 रजिस्ट्री का रिकॉर्ड

गठबंधऩ के सहयोग बिना चुनाव जीते थे नमन विक्सल कोंगाड़ी

कोलेबिरा सीट को देखें, तो गत वर्ष दिसम्बर माह में हुए कोलेबिरा उपचुनाव में कांग्रेस प्रत्याशी नमन विक्सल कोंगाड़ी ने जीत दर्ज की थी. उन्होंने अपने करीबी प्रतिद्वंदी बीजेपी प्रत्याशी बसंत सोरेंग को 9,658 वोटों से शिकस्त दी थी.

सूत्रों का दावा है कि उस वक्त कांग्रेस ने मुख्य विपक्षी झारखंड मुक्ति मोर्चा (जेएमएम) और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) से पार्टी प्रत्याशी के सहयोग की मांग रखी थी. लेकिन दोनों ही दल ने झारखंड पार्टी की प्रत्याशी मेनन एक्का का समर्थन किया था.

इस बार चुनाव में गठबंधन प्रत्याशी के रूप में नमन विक्सल कोंगाड़ी चुनावी मैदान में हैं. जाहिर है कि बीजेपी या अन्य प्रत्याशियों के मुकाबले उनकी स्थिति काफी मजबूत है.

सिमडेगा सीट पर कांग्रेस गुटबाजी पड़ सकती है भारी

सिमडेगा सीट पर इस बार का मुकाबला कांग्रेस और बीजेपी के बीच का काफी रोमांचक माना जा रहा है. कांग्रेस प्रत्याशी भूषण बारा और बीजेपी प्रत्याशी श्रद्धानंद बेसरा क्षेत्र में लगातार चुनावी दौरा कर रहे हैं. इस सीट का आकलन करें तो पिछले 10 वर्षों से बीजेपी का यहां कब्जा है.

2014 में बीजेपी की विमला प्रधान यहां से विजयी हुई थीं. उन्होंने झारखंड पार्टी की प्रत्याशी मेनन एक्का को 3000 हजार अधिक वोटों से हराया था. इससे पहले 2009 के विधानसभा चुनाव में विमला प्रधान ने कांग्रेस के नील तिर्की को हराया था.

हालांकि इस सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी को गुटबाजी का सामना करना पड़ सकता है. बता दें कि सीट पर यूथ कांग्रेस के विशाल तिर्की भी टिकट की रेस में थे. लेकिन अंतिम वक्त में उनका टिकट काटा गया. हालांकि कोलेबिरा के साथ इस सीट पर पार्टी प्रत्याशी की जीत सुनिश्चित करने के लिए राहुल गांधी भी एक बार दौरा कर चुके हैं.

पश्चिम जमशेदपुर से कांग्रेस प्रत्याशी दिख रहे मजबूत

पिछले तीन चुनावों से दो पू्र्व मंत्रियों के बीच जंग का गवाह बनी जमशेदपुर पश्चिमी सीट पर इस बार भी कांग्रेस (बन्ना गुप्ता) और बीजेपी के बीच कांटे का मुकाबला है. लेकिन इस बार कांग्रेस के सामने बीजेपी के पूर्व मंत्री सरयू राय न होकर देवेंद्र सिंह हैं.

देवेंद्र सिंह के सामने बन्ना गुप्ता मजबूत प्रत्याशी के तौर पर माने जा रहे हैं. 2009 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बन्ना गुप्ता ने (56638 वोट) बीजेपी के सरयू राय को (52341 वोट) हराया था. हालांकि 2014 का चुनाव कांग्रेस नेता हार गये थे. फिर भी उन्होंने ( 84829 वोट) बीजेपी के सरयू राय (95346 वोट) को कड़ी टक्कर थी.

पूर्वी जमशेदपुर और मांडर पर बीजेपी की अन्य पार्टी प्रत्याशियों से दिख रही लड़ाई

उपरोक्त सीटों के अलावा दो सीटों पूर्वी जमशेदपुर और मांडर से क्रमशः गौरव वल्लभ और सन्नी टोप्पो की स्थिति कमोवेश कमजोर बतायी जा रही है. जहां पूर्वी जमशेदुपर में बीजेपी के रघुवर दास और निर्दलीय चुनाव लड़ रहे सरयू राय को बीच का मुकबला काफी जोरों से है. वहीं मांडर सीट पर बीजेपी प्रत्याशी देवकुमार धान का मुकबला जेवीएम प्रत्याशी बंधु तिर्की के बीच है.

इसे भी पढ़ें – सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को दवाओं की ऑनलाइन बिक्री रोकने का आदेश

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: