न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

ट्रक हड़ताल का दूसरा दिन, राजमार्गों पर लगा भारी जाम, जल्द बढ़ सकते हैं सामानों के दाम

फेडरेशन आफ वेस्ट बंगाल ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने इस हड़ताल का आह्वान किया  है.

813

Kolkata : पश्चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता समेत राज्य भर में पुलिस अत्याचार, वसूली बंद करने समेत अन्य मांगों को लेकर सोमवार से शुरू हुए ट्रक चालकों के अनिश्चित हड़ताल का मंगलवार को दूसरा दिन था.

राज्य के करीब सात लाख ट्रकों के चक्के थम गये जिसकी वजह से राजधानी कोलकाता के बड़ाबाजार, कोलकाता पोर्ट ट्रस्ट क्षेत्र, खिदिरपुर डक के अलावा राज्य के विभिन्न हिस्सों में राष्ट्रीय राजमार्गों पर ट्रकों की लंबी कतार लगी रही. इससे कई क्षेत्रों में राजमार्ग जाम हो गये.

आशंका व्यक्त की जा रही है कि इस हड़ताल का व्यापक असर होगा. बहुत जल्द विभिन्न सामानों के दाम बढ़ सकते हैं. अगर ट्रक हड़ताल लंबी चली तो इसका रोजमर्रा की खाद्य सामग्रियों के दाम पर व्यापक असर पड़ सकता है.

इसे भी पढ़ें : जगुआर हिट एंड रन मामले का थ्री डी वीडियो तैयार कर रही पुलिस, दो बांग्लादेशी नागरिकों की हुई थी मौत

एसोसिएशन ने किया है आह्वान

फेडरेशन आफ वेस्ट बंगाल ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन ने इस हड़ताल का आह्वान किया  है. एसोसिएशन के महसचिव सुभाष चंद्र बोस ने बताया कि सरकार की उदासीनता के करण बाध्य होकर एसोसिएशन ने हड़ताल का रास्ता अख्तियार किया है.

दिल्ली व बांबे हाई-वे पर ट्रक मालिकों व चालकों ने चक्का जाम कर विरोध प्रदर्शन किया. इस दौरान हावड़ा, हुगली, नदिया, बीरभूम, बांकुड़ा, ब‌र्द्धमान, आसनसोल समेत राज्य भर में ट्रक मालिकों ने सेवा ठप कर अपना विरोध जताया है.

प्रदर्शन कर रहे ट्रक मालिकों ने कहा कि आए दिन ओवर लोडिंग और पुलिसिया अत्याचार से वे तंग हैं। मालिकों का‌ कहना है कि यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी जब तक कि समस्याओं के स्थायी समाधान की दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाए जाते हैं.

सरकार ध्यान नहीं देती, तब तक जारी रहेगी हड़ताल

Related Posts

Sanktoria: 24 सितंबर की एक दिवसीय हड़ताल टालने के लिए कोयला मंत्रालय हुआ सक्रिय

19 सितंबर को केंद्रीय कोयला मंत्री प्रहलाद जोशी की अध्यक्षता होगी बैठक

एसोसिएशन के संयुक्त सचिव सजल घोष ने कहा कि जब तक सरकार हमारी समस्याओं पर ध्यान नहीं देगी तब तक हमारा यह हड़ताल जारी रहेगी. उन्होंने कहा कि इस हड़ताल को परिवहन से जुड़े सभी संगठनों ने समर्थन दिया है.

हड़ताल का असर महानगर कोलकाता के मछुआ व पोस्ता में भी देखने को मिला, जहां बड़ी संख्या में ट्रकों को रोक ट्रक मालिकों ने विरोध जताया. इसके अलावा हावड़ा के शालीमार, कोल डिपो, सांतरागाछी समेत दिल्ली व बांबे हाई-वे पर भी ट्रकों की लंबी कतारें देखने को मिली. वहीं नदिया के रानाघाट स्थित 34 नंबर नेशनल हाई-वे पर ट्रक सेवा ठप होने से जाम जैसे हालात उत्पन्न हो गये.

इसे भी पढ़ें : धनबादः पत्रकार की पुत्री पर बदमाशों ने किया एसिड से हमला, पीएमसीएच में चल रहा इलाज

बढ़ती जा रही पुलिस की मनमानी

इधर, फेडरेशन ऑफ वेस्ट बंगाल ट्रक ऑपरेटर्स एसोसिएशन के महासचिव सुभाष चंद्र बोस ने कहा कि लगातार समस्याओं से अवगत कराए जाने के बावजूद राज्य की मुख्यमंत्री, परिवहन मंत्री, परिवहन विभाग के सचिव व पुलिस प्रशासन की ओर से कोई सकारात्मक पहल न होने की सूरत में हम इस निर्णय को मजबूर थे और अब हमारी  यह हड़ताल तब तक जारी रहेगी, जब तक सरकार हमारी समस्याओं के निराकरण की दिशा में कोई ठोस कदम नहीं उठाती.

उन्होंने कहा कि पुलिस की मनमानी लगातार बढ़ती जा रही है. अन्य राज्यों में एक्सेस लोड लागू होने के बावजूद पश्चिम बंगाल में इसकी अनुमति नहीं दी जा रही है.  ऐसे में ट्रक ऑपरेटरों के सामने गंभीर समस्याएं उत्पन्न हो गयी हैं. सरकार की उदासीनता के करण बाध्य होकर एसोसिएशन ने हड़ताल का रास्ता अख्तियार किया है.

इसे भी पढ़ें :जमशेदपुरः एक दिन में हुई 153 एमएम की बारिश से शहर बेहाल, एमजीएम अस्पताल समेत कई अपार्टमेंट में घुसा पानी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: