न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बीजेपी में सीटिंग विधायकों का टिकट कटने की आशंकाओं के बीच दावेदार शीर्ष नेताओं के आगे दंडवत

1,566

Pravin Kumar

Ranchi: झारखंड में विधानसभा चुनाव को लेकर बीजेपी एक साथ कई मोर्चे पर काम कर रही है. पार्टी ने विधानसभा चुनाव में 65 प्लस का लक्ष्य रखा है. पार्टी के इंटरनल सर्वे में पार्टी के 20 सीटिंग विधायकों का परफॉर्मेंस संतोषजनक नहीं पाया गया.

इनके टिकट कटने की भी आशंका जतायी जा रही है. वहीं 12 विधायकों को अगर दोबारा टिकट मिला तो उन्हें कड़ी चुनैती मिलने की संभावना है. जबकि 10 विधायकों का परफॉर्मेंस बेहतर है जो दोबारा चुनाव जीत सकते हैं.

वहीं आरएसएस के पुष्कर में संपन्न हुई बैठक में आदिवासी इलाकों में बीजेपी के कमजोर होने पर चिंता जतायी गयी है. 65 प्लस के लक्ष्य के लिए पार्टी के सहमना संगठन ने भी रणनीति तेज कर दी है.

इसे भी पढ़ें – #JPSC की कार्यशैली पर लगातार प्रतिक्रिया दे रहे हैं छात्र, पढ़ें-क्या कहा छात्रों ने…. (छात्रों की प्रतिक्रिया का अपडेट हर घंटे)

टिकट के लिए दिल्ली गुहार

कई सीटिंग विधायक टिकट कटने की अशंका को देखते हुए बीजेपी के केंद्रीय पदाधिकारियों के सामने दंडवत भी हो रहे हैं.

हाल के दिनों में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव अरुण सिंह, बीएन संतोष राष्ट्रीय महामंत्री (संगठन), केंद्रीय सचिव महेंद्र पांडे, सौदान सिंह, राष्ट्रीय सह संगठन महामंत्री के साथ-साथ प्रदेश संगठन महामंत्री धर्मपाल के पास अपनी जुगाड़ लगाने में लग गये हैं.

वहीं टिकट की चाह रखनेवाले दावेदार नागपुर का भी रुख कर रहे हैं. आरएसएस के प्रांत प्रचारक रविशंकर व सह प्रांत प्रचारक प्रदीप से भी संपर्क साधने की कोशिश भी कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – धनबाद : डिनोबली स्कूल के बाहर अभिभावकों का हंगामा, #Rape के आरोपियों को फांसी देने की मांग

सभी चाहते हैं शहरी इलाके में टिकट लेना

सीटिंग सीटों के दावेदार भी लॉबिंग में लगे हुए हैं. जिनमें शहरी क्षेत्र की सीटों के लिए ज्यादा जोर दिया जा रहा है. पुष्कर में संपन्न हुई आरएसएस की बैठक में आदिवासी इलाकों में बीजेपी के कमजोर होने पर चिंता व्यक्त की गयी थी.

साथ ही इन इलाकों में घटती लोकप्रियता को देखते हुए आरएसएस ने भी रणनीति में बदलाव करने का मन बनाया है. इसके लिए आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के आप्त सचिव रहे आरएसएस के झारखंड सह प्रंत प्रचारक प्रदीप जो कोल्हान से आते हैं, उन्हें विशेष जिम्मेदारी दिये जाने की सूचना है.

बीजेपी चुनाव को लेकर कर रही मंथन

केंद्रीय स्तर पर पार्टी कई मोर्चों पर चुनाव जीतने की रणनीति के लिए मंथन कर रही है. अगले 1-2 दिनों में पार्टी के द्वारा उम्मीदावरों का पैनल तैयार करने का कार्य खत्म हो जाने की संभावना है. वहीं पार्टी सूत्रों के अनुसार कई सीटों पर नये चेहरे को उम्मीदवार बनाया जा सकता है.

पार्टी सीटिंग एमएलए के परफॉर्मेंस की समीक्षा भी कर चुकी है. विधायकों के परफॉर्मेंस को लेकर सर्वे भी कराये जा चुके हैं.

65 प्लस लक्ष्य को पाने के लिए बीजेपी ने सरकार के प्रति एंटी इनकंबेंसी को कम करने के लिए पार्टी के कुशल चुनाव प्रबंधक ओम माथुर को झारखंड विधानसभा चुनाव का प्रभारी बनाया है और नंदकिशोर यादव को सह प्रभारी बनाया है. इन दोनों को वहीं भेजा जाता है जहां पार्टी को क्राइसिस नजर आता है.

इसे भी पढ़ें – घर-घर रघुवर का नारा नहीं, घर-घर भाजपा, घर-घर कमल का नारा देकर सरयू राय ने शुरू किया जनसंपर्क अभियान

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है कि हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें. आप हर दिन 10 रूपये से लेकर अधिकतम मासिक 5000 रूपये तक की मदद कर सकते है.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें. –
%d bloggers like this: