न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरायकेला मॉब लिंचिंग मामले में एसडीओ ने डॉक्टरों और पुलिस को दोषी पाया

779

Ranchi: सरायकेला में हुई कथित मॉब लिंचिंग मामले में एसडीओ डॉ बसारत क्यूम के नेतृत्व में गठित एसआइटी की रिपोर्ट में चिकित्सकों के साथ-साथ सरायकेला व खरसावां पुलिस को दोषी पाया गया है. रिपोर्ट में कहा गया है कि तबरेज अंसारी के सिर पर गंभीर चोट लगी थी, जिसके कारण सिर की नस फट गयी थी. ब्रेन हैमरेज हुआ था. एसडीओ ने बताया कि 18 जून को जब घटना के बाद तबरेज को पुलिस सदर अस्पताल लायी. वहां उस वक्तउसकी दो चिकित्सकों ने जांच की थी.

इसे भी पढ़ें – RRDA-NIGAM: कौन है अजीत, जिसके पास होती है हर टेबल से नक्शा पास कराने की चाबी

Trade Friends

सुबह में चिकित्सक द्वारा जांच के नाम पर सिर्फ खानापूर्ति की गयी थी, जबकि जांच में उसे कहां चोट लगी है, इसका विस्तार से वर्णन नहीं किया गया था. जैसे कि उसका उस वक्त ब्लड प्रेशर कितना था, जहां चोट लगी थी वहां पर कितनी साइज की चोट थी, कहां-कहां चोट थी यह अंकित नहीं किया गया था.

Related Posts

#Durgapur  : चोरी हुई 17 मोटरसाइकिलें वीरभूम से बरामद, दो आरोपी गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों में बीरभूम निवासी शेख राजा उर्फ शेख अशरफुद्दीन एवं बीरभूम के दुबराजपुर के इलाका निवासी शेख बाबर अली शामिल हैं.

WH MART 1

इसे भी पढ़ें – सुब्रमण्यम स्वामी ने अपने ट्वीट से चौंकाया, लिखा, भाजपा का बढ़ता जनाधार लोकतंत्र के लिए खतरा   

पुलिस द्वारा जब शाम में मेडिकल के लिए तबरेज अंसारी को फिर से सदर अस्पताल ले जाया गया तो अस्पताल में तैनात दूसरे चिकत्सिक द्वारा घुटने का एक्स-रे कर छोड़ दिया गया, जो चिकित्सकों की कोताही को उजागर करता है. एसडीओ ने बताया कि जांच में पाया गया कि घटना 17 जून की रात्रि एक से दो बजे के बीच की है.

इसे भी पढ़ें – सरकारी अफसर से मारपीट के मामले में BCCI के कार्यकारी सचिव व पूर्व IPS अमिताभ चौधरी की अग्रिम जमानत याचिका खारिज

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

kohinoor_add

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like