न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें
bharat_electronics

एससीओ सम्मेलन : पीएम मोदी ने कहा, आतंकवाद को पनाह देने वालों के खिलाफ मिल कर लड़ना होगा

पीएम मोदी ने पाकिस्तान का नाम नहीं लिया लेकिन साफ कर दिया कि जो लोग आतंकवाद को पनाह देते हैं उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए

25

NewDelhi : समाज को आतंक से मुक्त करना जरूरी है. इसके लिए मानवतावादी ताकतों को एकजुट होना होगा.  एससीओ देशों को मिलकर आतंक के खिलाफ लड़ना होगा और आतंकवाद के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन होना चाहिए. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शंघाई सहयोग संगठन शिखर सम्मेलन (एससीओ) की बैठक को शुक्रवार को संबोधित करते हुए यह बात कही. इस क्रम में  उन्होंने कहा कि लोगों का आपसी संपर्क अहम है. बता दें कि पीएम मोदी दो दिवसीय एससीओ सम्मेलन के लिए गुरुवार को बिश्केक पहुंचे थे. एससीओ चीन के नेतृत्व वाला आठ सदस्यीय आर्थिक एवं सुरक्षा समूह है जिसमें भारत और पाकिस्तान को 2017 में शामिल किया गया था. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, भारत आतंकवाद से निपटने के लिए अंतरराष्ट्रीय स्तर के सम्मेलन का आह्वान करता है.

eidbanner

इसे भी पढ़ेंः  चेन्नई  : ऑफिस में पानी नहीं है, घर पर रह कर काम करें, आईटी कंपनियों का अपने कर्मचारियों से आग्रह

पीएम मोदी ने नया फॉर्मूला HEALTH दिया

एससीओ देशों के सम्मेलन में भले ही पीएम मोदी ने पाकिस्तान का नाम नहीं लिया लेकिन ये साफ कर दिया कि जो लोग आतंकवाद को पनाह देते हैं उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई होनी चाहिए. कहा कि समाज को आतंकवाद मुक्त करना है और इसके लिए एससीओ देशों को इसके खिलाफ खड़ा होना होगा. पीएम मोदी ने सम्मेलन में अफगानिस्तान का भी जिक्र किया. उन्होंने कहा कि अफगानिस्तान में शांति जरूरी है और इसके लिए भारत अफगानिस्तान के साथ खड़ा है. पीएम मोदी ने कहा कि आतंकवाद पर अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन होना चाहिए. साथ ही शंघाई सहयोग संगठन  शिखर सम्मेलन के दौरान अपने संबोधन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा,  हमारा लक्ष्य स्वस्थ सहयोग को मजबूत करना है.

उन्होंने इसके लिए नया फॉर्मूला HEALTH भी दिया, जिसका अर्थ है – H – स्वास्थ्य के क्षेत्र में सहयोग (Health Cooperation), E – आर्थिक सहयोग (Economic Cooperation), A – वैकल्पिक ऊर्जा (Alternative Energy), L – साहित्य तथा संस्कृति (Literature and Culture), T – आतंकवाद-मुक्त समाज (Terrorism-free Society) तथा H – मानवीय सहयोग (Humanitarian Cooperation).

Related Posts

डोनाल्ड ट्रंप को यूएफओ पर यकीन नहीं,  नेवी  पायलटों  ने आसमान में हाइपरसोनिक गति से यूएफओ को उड़ते देखा था

नौसेना के पायलटों द्वारा यूएफओ देखे जाने की जानकारी मिलने के बाद भी ट्रंप ने इनके अस्तित्व के लिए संदेह होने की बात स्वीकार की है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एससीओ परिषद् के राष्ट्र प्रमुखों की बैठक से पहले किर्गिस्तान के राष्ट्रपति सूरोनबे जीनबेकोव से शुक्रवार को मुलाकात की. जीनबेकोव एससीओ शिखर सम्मेलन 2019 के मौजूदा अध्यक्ष भी हैं. प्रधानमंत्री मोदी शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) परिषद् के राष्ट्र प्रमुखों की बैठक से पहले अला अरचा प्रेजीडेंशियल पैलेस पहुंचे , जहां किर्गिस्तान के राष्ट्रपति ने उनका स्वागत किया.

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट किया, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह एससीओ परिषद के राष्ट्र प्रमुखों की बैठक से पहले अला अरचा प्रेंजीडेंशियल पैलेस पहुंचे, जहां किर्गिज गणराज्य के राष्ट्रपति एवं एससीओ शिखर सम्मेलन 2019 के मौजूदा अध्यक्ष सूरोनबे जीनबेकोव ने उनका गर्मजोशी से स्वागत किया. भाजपा को हाल में लोकसभा चुनाव में मिली जीत के बाद मोदी के दोबारा प्रधानमंत्री बनने के पश्चात् दोनों नेताओं के बीच यह पहली वार्ता है.

इसे भी पढ़ेंः   एमनेस्टी इंटरनेशनल इंडिया को जम्मू कश्मीर प्रशासन ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की इजाजत नहीं दी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

dav_add
You might also like
addionm
%d bloggers like this: