न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वैज्ञानिकों की चेतावनी, हिमालय क्षेत्र में कभी भी आ सकता है 8.5 की तीव्रता का भूकंप

वैज्ञानिकों के अनुसार वर्तमान में जिस तरह की भौगोलिक घटनाएं  हो रही हैं, उसे देखते हुए  इस इलाके में 8.5 तीव्रता का भूकंप कभी भी आ सकता है.

22

NewDelhi : वैज्ञानिकों ने हिमालय क्षेत्र के आसपास 8.5 या उससे अधिक की तीव्रता का भूकंप आने की आशंका जताई है. वैज्ञानिकों के अनुसार वर्तमान में जिस तरह की भौगोलिक घटनाएं  हो रही हैं, उसे देखते हुए  इस इलाके में 8.5 तीव्रता का भूकंप कभी भी आ सकता है. जवाहरलाल नेहरू सेंटर के भूकंप  विशेषज्ञ सीपी राजेंद्रन के अनुसार इस क्षेत्र में भारी मात्रा में तनाव भविष्य में केंद्रीय हिमालय में 8.5 या उससे अधिक की तीव्रता के भूकंप की कहानी गढ़़ रहा है. जियोलॉजिकल जर्नल में प्रकाशित अध्ययन के अनुसार शोधकर्ताओं ने दो नयी खोजी गयी जगहों के आंकड़ों के साथ पश्चिमी नेपाल और चोरगेलिया में मोहन खोला के आंकड़ों के साथ मौजूदा डेटाबेस का मूल्यांकन किया. यह भारतीय सीमा के अंदर आता है. बता दें कि शोधकर्ताओं ने इसरो के कार्टोसैट -1 उपग्रह से गूगल अर्थ और इमेजरी का उपयोग करने के अलावा भूगर्भीय सर्वेक्षण के भारत द्वारा प्रकाशित स्थानीय भूविज्ञान और संरचनात्मक मानचित्र का उपयोग किया है. शोधकर्ताओं के अध्‍ययन के अनुसार केंद्रीय हिमालय के 15 मीटर की औसत से सरकने के कारण 1315 और 1440 मीटर के बीच खिंचाव 8.5 या उससे अधिक तीव्रता का एक बड़ा भूकंप क्षेत्र लगभग 600 किमी तक फैला है.

रिएक्टर पैमाने पर आठ-साढ़े आठ तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आने का खतरा बरकरार

इससे पूर्व नानयांग टेक्नोलॉजिकल यूनिवर्सिटी (एनटीयू) की अगुवाई में एक रिसर्च टीम ने भी पाया था कि मध्य हिमालय क्षेत्रों में रिएक्टर पैमाने पर आठ से साढ़े आठ तीव्रता का शक्तिशाली भूकंप आने का खतरा बरकरार है. शोधकर्ताओं ने एक बयान में कहा कि सतह टूटने संबंधी खोज का हिमालय पर्वतीय क्षेत्रों से जुड़े इलाकों पर गहरा असर हो रहा है. अमेरिका के भू-वैज्ञानिक रोजर बिल्हम जिनका पूरा जीवन भूंकप और इससे जुड़ी चीजों की खोज पर ही बीता है ने भी भारतयी वैज्ञानिकों की इस चेतावनी का समर्थन किया है.उन्होंने कहा कि भारत के वैज्ञानिकों ने जो संभावना जताई है उसपर किसी भी तरह का शक नहीं किया जा सकता. हालात को देखते हुए यह साफ है कि हिमालय क्षेत्र में कभी भी अधिक तीव्रता का भूकंप आ सकता है. बता दें कि हिमालय क्षेत्र स्थित नेपाल में आये भूकंप ने भयंकर तबाही मचाई थी. उस समय नेपाल में आये दो भयंकर भूकंपों के कारण 8635 लेाग मारे गये थे,  89 विदेशियों समेत 300 से अधिक लोग लापता हो गये थे.

इसे भी पढ़ें : नोटबंदी उच्च वर्ग के नहीं, भ्रष्ट लोगों के खिलाफ थी  : नीति आयोग उपाध्यक्ष

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: