Sci & Tech

वैज्ञानिकों ने बनायी खास खिड़की- खोलने पर कमरे की रोशनी तो बढ़ेगी लेकिन तापमान नहीं

विज्ञापन

New Delhi :  द एनर्जी एंड रिसोर्सेज इंस्टीट्यूट (टेरी) ने विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के साथ मिलकर खिड़कियों के लिए एक नया बाह्य आवरण समाधान विकसित किया है जिससे घर के अंदर आराम के लिए वातानुकूलन और रोशनी के लिए बिजली की खपत कम होगी. वैज्ञानिकों ने इसकी जानकारी दी है.

बयान में कहा गया कि शेड स्मार्ट नाम की इस प्रौद्योगिकी से घरों के अंदर ज्यादा रोशनी आएगी. लेकिन तापमान कम रहेगा. इससे घर के अंदर रहने वालों को आराम तो मिलेगा ही उनकी उत्पादकता और सेहत भी सुधरेगी.

इसे भी पढ़ेंः मनरेगाकर्मियों को सरकार ने दी चेतावनी, 48 घंटे के भीतर काम पर लौटें, नहीं तो FIR

advt

बाह्य छायांकन उपकरण आधुनिक इमारतों में आम नहीं हैं जिनमें अधिकतर ‘ग्लेज्ड’ या ‘कर्टेन वाल’ वाली इमारतें हैं. वे सामान्यत: स्थायी ढांचे हैं, जिनके साथ रखरखाव, दृश्य बाधित होने, ग्राहक की अकांक्षाओं को पूरा नहीं करने की चुनौतियां जुड़ी होती हैं.

बयान में कहा गया, “इसके विपरीत, यह प्रौद्योगिकी सूरज की स्थिति के मुताबिक अपना विन्यास बदलती है. उदाहरण के लिए जब सूरज जब पूरब दिशा में होता है तब पूरब की तरफ खुलने वाली खिड़की पर आवरण आ जाएगा और जब सूरज दोपहर में दक्षिण की तरफ होगा तब पूरब की खिड़कियों से आवरण हट जाएगा और निर्बाध दृश्य देखे जा सकेंगे तथा सूरज की चमक से भी मुक्ति मिलेगी.”

इसे भी पढ़ेंः धोनी ने मुझसे कहा था, टीम के सबसे तेज दौड़ने वाले खिलाड़ी को हराते रहने तक खेलना जारी रखेंगे: मांजरेकर

घरेलू और वाणिज्यिक इमारतों के लिए डिजाइन के पैमाने में भी बदलाव होता है क्योंकि दोनों में रहने और गतिविधि के प्रारूप अलग होते हैं.

adv

बयान में कहा गया कि प्रत्येक डिजाइन के प्रदर्शन को सॉफ्टवेयर के माध्यम से परखे जाने के साथ ही वास्तविक समय में भी वैसी ही परिस्थितियां बनाकर जांचा जाता है. इसमें कहा गया कि शेड स्मार्ट के वाणिज्यिकरण के लिए प्रयास किये जा रहे हैं. एक अन्य प्रौद्योगिकी रेडियेंट कूलिंग हैं यह भी इमारत के अंदर तापमान को नियंत्रित करने में मददगार है.

इसे भी पढ़ेंः Kerala Plane Crash: कोरोना पॉजिटिव निकला मृत यात्री, घायलों से नहीं मिल सकेंगे परिजन

advt
Advertisement

5 Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button