Education & CareerJharkhandRanchi

#LockDown के बाद एक घंटे अधिक चलेंगे स्कूल, सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक होंगे क्लास

Ranchi: कोरोना वायरस की वजह से पूरे देश में 3 मई तक लॉकडाउन लागू है. इसे देखते हुए राज्य के स्कूलों की टाइमिंग में बदलाव करने पर विचार चल रहा है. इस बाबत शिक्षा विभाग के प्रधान सचिव एपी सिंह ने शिक्षा परियोजना को इसकी तैयारी करने को कहा गया है.

सचिव की ओर से दिये गये निर्देश में कहा गया है कि लॉकडाउन के बाद स्कूल की टाइमिंग को एक घंटा बढ़ाया जाये. जहां स्कूल पहले सुबह 10 बजे से चलते थे, उसे अब सुबह के 9 बजे किया जाए.

इसे भी पढ़ें- #CoronaVirus से देश में 414 मौत, संक्रमितों की संख्या 12,380, 1,488 लोग हुए स्वस्थ

शनिवार को भी फुल डे रहेगा स्कूल

प्रधान सचिव के निर्देश में इस बात का भी जिक्र है कि लॉकडाउन की वजह और गर्मी छुट्टी के हिसाब से स्कूल लंबा बंद हो जा रहा है. उन्होंने कहा है कि अगर 3 मई को लॉकडाउन खत्म होगा तो उसके बाद गर्मी छुट्टी शुरू हो जायेगी. ऐसे में एकेडमिक इयर छोटा हो जायेगा. सिलेबस को पूरा करना संभव नहीं हो पायेगा.

इसलिए जैसे ही स्कूल खोला जायेगा तो स्कूल अवधि में एक घंटे की बढ़ोतरी रहेगी. अब तक शनिवार को स्कूलों में आधे दिनों की पढ़ाई होती थी, जिसे समाप्त करते हुए शनिवार को भी स्कूल हाफ डे की बजाय फुल डे होगा. वहीं स्कूल का समय सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक का होगा. शनिवार को भी अन्य दिनों की तरह पूरी क्लासेस ली जायेगी. शिक्षा सचिव ने इस बाबत तारीख निर्धारण करने को कहा है.

इसे भी पढ़ें- गुजरात में कोविड-19 से तीन की मौत, राज्य में मृतक संख्या 36 हुई, आंध्रप्रदेश में नौ नये मामले सामने आये

मध्याह्न भोजन प्राधिकरण को भी दिनया निर्देश

वहीं मध्याह्न भोजन प्राधिकरण को भेजे गये निर्देश में कहा गया है कि लॉकडाउन के बाद बच्चों को फिर से चावल और कुकिंग कॉस्ट की राशि दें. लॉकडाउन में घर से काम हो रहा है, ऐसे में डाइट नियुक्ति नियमावली, प्रारंभिक शिक्षक नियुक्ति नियमावली और जेसीईआरटी नियुक्ति नियमावली पर काम किया जाए. इन सभी नियमावली को लॉकडाउन की अवधि में ही पूरा कर लिया जाये ताकि इसके खत्म होते ही आगे की प्लानिंग की जा सके.

इसे भी पढ़ें- समय रहते जांच की स्पीड नहीं बढ़ायी गयी तो देश को कोरोना से बचाना मुश्किल होगा : एक्सपर्ट

कई प्रस्तावों पर काम करने का आदेश

लॉक डाउन की अवधि में ही निजी स्कूलों से लॉकडाउन अवधि की फीस नहीं लेने को लेकर प्रस्ताव बनाने को कहा है. इसके अलावा लॉकडाउन के दौरान मिड डे मील के अच्छे कार्य, नियमों के उल्लंघन समेत व्हाट्सएप के जरिए डिजिटल एजुकेशन, नये शिक्षकों के वेतन भुगतान संबंधी मामलों पर भी अधिकारियों को काम करने को कहा है. साथ ही लॉकडाउन में शिक्षकों की ऑनलाइन ट्रेनिंग देने पर भी विचार चल रहा है.

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: