Education & CareerJharkhandRanchi

अभिभावकों को CBSE पैटर्न के नाम पर गुमराह कर रहे स्कूल, राज्य में मात्र 453 को ही मान्यता

Ranchi: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन ने सूचना जारी कर नये शैक्षणिक सत्र में अभिभावकों को अलर्ट किया है. दरअसल सीबीएसई को पटना जोन सहित देश के दूसरे जोन से शिकायत मिली है कि बिना सीबीएसई की मान्यता वाले स्कूल अभिभावकों को गुमराह कर नामांकन ले रहे हैं.

ऐसे स्कूलों में नामांकन लेने से पहले मान्यता की जांच कर नामांकन लेने को कहा है. साथ ही सीबीएसई ने जोन और स्टेट के अनुसार मान्यता प्राप्त स्कूलों की सूची जारी की है.

इसे भी पढ़ें- कमलनाथ सरकार को गिराने की कोशिशों से BJP का इनकार, शिवराज बोले- मामला उनके घर का, आरोप हम पर लगाते हैं

झारखंड में मात्र 453 मान्यता प्राप्त स्कूल

गौरतलब है कि देशभर में सीबीएसई के 16 जोन हैं. झारखंड और बिहार के स्कूल पटना जोन में आते हैं. सीबीएसई की ओर से जारी सूची के अनुसार झारखंड में सीबीएसई से मान्यता लिए हुए स्कूलों की संख्या केवल 453 है. जबकि एक हजार से अधिक स्कूल केवल राज्य सरकार की मान्यता लेकर संचालित किये जा रहे हैं.

जिलावार आंकड़े के मुताबिक बोकारो में 65, चतरा में 04, देवघर में 23, धनबाद में 62, दुमका में 05, पूर्वी सिंहभूम में 40, गढ़वा में 10, गिरीडीह में 17, गोड्डा में 05, गुमला में 07, हजारीबाग में 56, जामताड़ा में 06, कोडरमा में 12, लातेहार में 01, लोहरदगा में 03, पाकुड़ में 06, पलामू में 12, रामगढ़ में 4, रांची में 82, साहेबगंज में 02, सरायकेला-खरसावां में 11, सिमडेगा में 04, पश्चिमी सिंहभूम में 16 स्कूल हैं.

इसे भी पढ़ें- रांची: ओरमांझी जू में शेरनी के बाड़े में गिरा युवक, रेस्क्यू के पहले ही बना निवाला

सीबीएसई पैटर्न के नाम पर ले रहे एडमिशन

अभिभावकों की ओर से सीबीएसइ को जो जानकारी दी गयी है, उसके अनुसार कई स्कूल अभिभावकों को सीबीएसई पैटर्न के नाम पर गुमराह कर नामांकन ले लेते हैं. सीबीएसई ने अपनी सूचना में बताया कि स्कूलों की मान्यता की जांच कर नामांकन लें.

जिन स्कूलों को सीबीएसई की ओर से मान्यता दी जाती है, उन्हें एक एफिलिएशन नंबर दिया जाता है. अभिभावक इस नंबर की मांग कर सीबीएसई की वेबसाइट पर जा कर स्कूल की मान्यता देख सकते हैं. साथ ही नामांकन से पहले यह भी जांच लेनी चाहिए कि स्कूल को किस स्तर पर मान्यता दी गयी है. सीबीएसई की ओर से प्राइमरी से प्लस टू स्तर तक की मान्यता स्कूलों को दी जाती है.

Advt

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button