न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्कूलों ने अभिभावकों को दिया नोटिस- बच्चों को प्राइवेट वैन से नहीं भेजें स्कूल

856

Ranchi: न्यूज विंग ने- 500 से अधिक मारुति वैन व टाटा मैजिक बन गये स्कूल वैन, डीटीओ ने बताया अवैध शीर्षक से खबर प्रकाशित किया था. इसके बाद प्रशासन हरकत में आया है.

यातायात पुलिस के द्वारा स्कूलों को पत्र लिखकर ऐसे वाहनों को स्कूल वैन के रूप में चलाने पर रोक लगाने को कहा है. जिसके बाद अब स्कूल भी अभिभावकों को नोटिस भेज कर बच्चों को स्कूल प्राइवेट वैन से नहीं भेजने को कह रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- राज्य में 29 हजार की जगह बचे हैं मात्र तीन हजार DDO, इस साल से सरकार खत्म कर रही पद

डीपीएस-संत जेवियर्स स्कूल समेत कई स्कूलों को नोटिस

प्रभारी ट्रैफिक एसपी हीरालाल चौहान की ओर से एक दर्जन से अधिक स्कूलों को नोटिस भेजा गया है. इस नोटिस में आग्रह किया गया है कि वे अभिभावकों को पत्र लिखें.

प्रभारी ट्रैफिक एसपी की ओर से डीएवी ग्रुप्स, कैंब्रियन स्कूल, जेवीएम श्यामली, डीपीएस, संत जेवियर्स डोरंडा, टेंडर हर्ट, संत फ्रांसिस हरमू, सरला बिरला पब्लिक स्कूल, लॉरेटो कांन्वेंट सहित कई स्कूलों को नोटिस भेजा जा चुका है.

इसे भी पढ़ें- पीड़ितों से मिलने की प्रियंका की जिद इंदिरा की बेलछी जिद को याद दिलाती है

SMILE

स्कूल कर रहे छात्रों को डेटा तैयार

जिन स्कूलों को नोटिस भेजा गया है वे सभी स्कूल अपने यहां वैन या दूसरे माध्यम से आने वाले बच्चों को डेटा तैयार कर रहे हैं. इस संबंध में कांके रोड स्थित कैंब्रियन स्कूल की प्राचार्या नीता पांडेय ने बताया कि प्रशासन की ओर से भेजे गए नोटिस पर काम किया जा रहा है.

अभी कितने बच्चे प्राइवेट वैन से स्कूल आ रहे हैं, इसकी जानकारी इकट्ठा की जा रही है. ऐसे छात्रों की अच्छी संख्या होगी. आंकड़ा तैयार होने के बाद अभिभावकों को नोटिस भेजा जायेगा. इधर अभिभावकों से मिली जानकारी के मुताबिक कई स्कूलों ने अभिभावकों को नोटिस भेजना शुरू कर दिया है.

इसे भी पढ़ें- सिविल सोसाइटी ने उठाया सवाल, कौन दे रहा है इंजीनियर घनश्याम अग्रवाल को संरक्षण

बच्चों की सुरक्षा को लेकर उठाया गया यह कदम

इस संबंध में प्रभारी ट्रैफिक एसपी हीरालाल चौहान ने बताया कि अभी स्कूलों को इस बाबत नोटिस भेजा गया है. उनसे अनुरोध किया गया है कि अभिभावकों को प्राइवेट वैन से स्कूल भेजने से मना करें. उन्होंने कहा कि प्रशासन की ओर से यह कदम बच्चों की सुरक्षा की दृष्टि से उठाया है. किसी तरह की अप्रिय घटना न हो इसके लिए सतर्क रहना ज्यादा जरूरी है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: