JharkhandLead NewsRanchi

स्कूल फीस का मामलाः आंदोलन हुआ, आदेश भी निकला, अभिभावकों की पीड़ा जस की तस

Ranchi : कोरोना के इस दौर में निजी स्कूलों ने फीस ली. बीते साल तक ट्यूशन फीस लिया फिर नये साल में 30 फीसदी तक फीस बढ़ाया और अभिभावकों से वसूल लिया. इसके बाद सोशल मीडिया पर अभिभावक संघ की ओर से आंदोलन चला. प्रशासन पर दवाब बना तो आननफानन में उपायुक्त ने आदेश जारी करते हुए स्कूलों को केवल ट्यूशन फीस लेने का आदेश दिया. आदेश के बाद निजी स्कूलों के प्रतिनिधियों ने बैठक की. उपायुक्त से मुलाकात कर अनुरोध किया और फिर आदेश को वापस ले लिया गया. चार दिनों के बीच के इस घटना क्रम के दौरान अभिभावकों की पीड़ा जस की तस रह गयी.

बीते साल जून माह में शिक्षा विभाग की ओर से आदेश जारी कर स्कूलों को ट्यूशन फीस लेने को कहा गया. इस आदेश के बाद भी स्कूलों ने मनमाना फीस वसूला. आदेश की अनदेखी स्कूल करते रहे. लगभग हर जिले के उपायुक्त ने आदेश जारी कर कहा था किसी भी स्टूडेंट्स को फीस नहीं देने की स्थिति में ऑनलाइन क्लास से वंचित नहीं किया जा सकता. इसके बाद भी स्कूलों ने फीस देने का दवाब अभिभावकों पर बनाया. स्टूडेंट्स को ऑन लाइन क्लास से अलग भी रखा.

राज्य भर में हुआ आंदोलन

निजी स्कूलों कि मनमानी को लेकर राज्य भर के अभिभावकों ने अभिभावक संघ के बैनर तले सोशल मीडिया पर आंदोलन किया. 15 दिनों का आंदोलन चला. स्कूली शिक्षा और साक्षरता सचिव से वार्ता भी हुई. आदेश भी जारी हुआ. अभिभावकों को उम्मीद जगी की कोरोना की वजह से जो आर्थिक परेशानी आयी है. उसमें केवल ट्यूशन फीस देकर राहत मिलेगी. मगर ऐसा नहीं हुआ. शिक्षा सचिव के आदेश के बाद रांची उपायुक्त ने आदेश जारी किया और आदेश वापस भी ले लिया. एक बार फिर अभिभावक खुद को ठगा महसूस कर रहे हैं. अभिभावकों का कहना है कि जब कोरोना की दूसरी लहर आयी. राज्य सरकार ने स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया तो फिर फीस निर्धारण को लेकर नया आदेश क्यों जारी नहीं किया गया.

स्कूलों ने वसूल ली फीस, अब मांग रहे मार्गदर्शन

उपायुक्त छवि रंजन ने आदेश वापस लेते हुए कहा कि विभाग से मार्गदर्शन लिया जायेगा. बताते चलें कि नये एकेडमिक इयर के 6 माह बीतने को हैं. निजी स्कूलों ने फीस भी वसूल लिए. अब निजी स्कूलों को क्या आदेश देना है इसके लिए मार्गदर्शन मांगा जा रहा है. निजी स्कूलों की ओर से ट्यूशन फीस के अतिरिक्त ट्रांसपोर्टेशन, मेंटनेंस, कंप्यूटर फीस सहित 18 अलग-अलग तरह के फीस लिए जा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें : रांची की नगड़ी में बनेगा फोरलेन आरओबी, भारत सरकार को भेजा गया प्रस्ताव

Related Articles

Back to top button