न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

SC की चेतावनी, आरबीआई  बैंकों की निरीक्षण रिपोर्ट आरटीआई एक्ट के तहत खुलासा करे

कोर्ट ने आरबीआई को चेतावनी दी कि भविष्य में आरटीआई के किसी भी तरह के उल्लंघन को गंभीरता' से लिया जायेगा

41

NewDelhi :   SC ने आरबीआई को चेताते हुए कहा है कि वह आरटीआई एक्ट का किसी भी तरह के उल्लंघन नहीं करे. बता दें कि सुप्रीम कोर्ट ने आरटीआई एक्ट के तहत बैंकों की वार्षिक निरीक्षण रिपोर्ट के बारे में आरबीआई को सूचना का खुलासा करने का निर्देश दिया है,  जब तक कि उन्हें कानून के तहत इससे छूट ना मिल जाये.   कोर्ट ने आरबीआई को चेतावनी दी कि भविष्य में आरटीआई के किसी भी तरह के उल्लंघन को गंभीरता’ से लिया जायेगा.

साथ ही आरबीआई से आरटीआई के तहत सूचना के खुलासे पर अपनी नीति की समीक्षा करने के लिए कहा. जस्टिस एल नागेश्वर राव तथा जस्टिस एमआर शाह की पीठ ने आरबीआई को चेतावनी भी दी कि SC के आदेश की अब अवहेलना होने पर गंभीर अवमानना कार्यवाही की जायेगी. SC ने आरबीआई से अपनी नॉन-डिस्क्लोज़र पॉलिसी को खारिज करने के लिए कहा है, जो कोर्ट के आदेश का उल्लंघन करती है

इसे भी पढ़ेंः सीजेआई यौन उत्पीडन  मामला : आरोप लगाने वाली महिला का पैनल को पत्र, बिना उसकी बात सुने चरित्र हनन  किया गया

आरबीआई को अवमानना नोटिस जारी किया था

Related Posts

देश को दानव भूमि बना रहे मोदी,  तारीफ करने वाले कांग्रेसियों को  बाहर निकालें :  केके तिवारी

 केके तिवारी ने यह बयान  कांग्रेस नेता जयराम रमेश, शशि थरूर और अभिषेक सिंघवी द्वारा मोदी को  खलनायक की तरह पेश करने को गलत करार दिये जाने को लेकर दिया है.

SMILE

पीठ ने कहा कि अगर आरबीआई ने आरटीआई के तहत सूचना देने से इनकार किया तो वह इसे गंभीरता से लेगी. पीठ ने कहा, किसी भी तरह का उल्लंघन गंभीरता से लिया जायेगा. इस साल जनवरी में SC  ने आरटीआई के तहत बैंकों की वार्षिक निरीक्षण रिपोर्ट का खुलासा ना करने के लिए आरबीआई को अवमानना नोटिस जारी किया था.    इससे पहले सुप्रीम कोर्ट और केंद्रीय सूचना आयोग ने कहा था कि आरबीआई तब तक पारदर्शिता कानून के तहत मांगी गयी सूचना देने से इनकार नहीं कर सकता जब तक कि उसे कानून के तहत खुलासे से छूट ना प्राप्त हो.

आरबीआई ने अपने बचाव में कहा था कि वह सूचना का खुलासा नहीं कर सकता क्योंकि बैंक की वार्षिक निरीक्षण रिपोर्ट में  न्यासीय  जानकारी निहित है.  बता दें कि पीठ आरबीआई के खिलाफ आरटीआई कार्यकर्ता एस सी अग्रवाल की अवमानना याचिका पर सुनवाई कर रही थी

इसे भी पढ़ेंःबिलक़ीस का किस्सा हर हिंदुस्तानी को सुनना और उसके मायने समझना ज़रूरी है

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: