National

तीन तलाक के नये कानून के खिलाफ SC ने केंद्र से मांगा जवाब

New Delhi : मुस्लिम समुदाय में एक साथ तीन तलाक को दंडात्मक अपराध बनाने वाले कानून की वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट विचार करने के लिए सहमत हो गया है. नये कानून के तहत ऐसा करने वालों को तीन साल तक की जेल की सजा हो सकती है.

इसे भी पढ़ें- टेरर फंडिंग : FATF से पाकिस्तान को बड़ा झटका, किया ब्लैक लिस्ट

तीन तलाक के खिलाफ तीन याचिकाएं दाखिल

Catalyst IAS
ram janam hospital

तीन तलाक कानून के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में तीन याचिकाएं दाखिल की गई थीं. न्यायमूर्ति एन वी रमण और न्यायमूर्ति अजय रस्तोगी की एक पीठ ने इस मामले में याचिकाओं के समूह पर केंद्र सरकार को नोटिस जारी किया है.

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

याचिकाओं में मुस्लिम महिला (विवाह अधिकार संरक्षण) अधिनियम 2019 को संविधान का कथित तौर पर उल्लंघन के आधार पर इसे ‘असंवैधानिक’ करार देने की मांग की है.

इसे भी पढ़ें- बिना सोचे-समझे दिये गये कर्ज से बिगड़े देश के आर्थिक हालात : नीति आयोग

सुप्रीम कोर्ट को विचार करने की जरूरत : खुर्शीद 

पीठ ने वरिष्ठ वकील सलमान खुर्शीद से कहा कि वह ‘इस पर विचार करेंगे. गौरतलब है कि खुर्शीद एक याचिकाकर्ता की ओर से पेश हुए थे. खुर्शीद ने पीठ से कहा कि एक साथ तीन तलाक को दंडात्मक अपराध बनाने और करीब तीन साल की सजा होने सहित इसके कई आयाम है.

इसलिए सुप्रीम कोर्ट को इस पर विचार करने की जरूरत है. उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार ने कानून बनाकर मुस्लिमों में एक बार में तीन तलाक को अवैध करार दिया है. ऐसा करने पर तीन साल कैद की सजा का प्रावधान किया गया है.

Related Articles

Back to top button