JharkhandLead NewsRanchi

30 नवंबर को मंत्री मिथिलेश ठाकुर के आवास का घेराव करेंगे एसबीएम अनुबंध कर्मी

1118 एसबीएम कर्मी 21 नंवबर से हैं अनिश्चितकालीन हड़ताल पर

Ranchi :   समायोजन की मांग को लेकर आंदोलनकारी एसबीएम अनुबंध कर्मियों 30 नंवबर को मंत्री आवास का घेराव करेंगे. कर्मचारी इस दौरान शांतिपूर्ण धरना प्रदर्शन करेंगे. इसकी जानकारी  स्वच्छ भारत मिशन ग्रामीण अनुबंध कर्मचारी महासंघ के मीडिया प्रभारी अनुज श्रीवास्तव ने दी.

उन्होंने कहा कि संघ की ओर से आंदोलन तेज किया जा रहा है. सरकार की ओर से पूर्व में भी समायोजन की बात की गयी थी. जबकि विभाग की ओर से दिसंबर तक नयी नियुक्ति करते हुए तीन सौ पद सृजित किये गये है. वहीं, अंकाउंटेंट समेत कई पदों को खत्म कर दिया गया.

advt

वहीं, फेज दो के तहत विभाग कर्मियों से काम भी ले रही है. ऐसे में सरकार से समयोजन की मांग है. जब तक समायोजन नहीं किया जाता आंदोलन जारी रहेगा.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS :  Reliance Jio ने भी बढ़ाई प्रीपेड रिचार्ज की कीमतें, जानें क्या होंगे नये टैरिफ प्लान

मंत्री से मुलाकात में मिला आश्वासन

बीतें रविवार को कर्मियों ने मंत्री मिथिलेश ठाकुर से मुलाकात की थी. इस दौरान मंत्री को ज्ञापन सौंपा गया. साथ ही मंत्री को अन्य राज्यों छत्तीसगढ़, राजस्थान तथा  बिहार में समायोजन की जानकारी भी दी गयी. मंत्री ने अन्य राज्यों से पत्र से संबंधित सचिव को कदम उठाने की सलाह देते हुए एसबीएम कर्मी को आश्वस्त किया. बता दें कि राज्य के 1118 एसबीएम कर्मी 21 नंवबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर हैं.

इसे भी पढ़ें :जमीन के दस्तावेजों में हेराफेरी कर घूस मांगने में फंसे बलियापुर CO और राजस्व निरीक्षक पर गिरेगी गाज

तीन- तीन महीने के एक्सटेंशन पर कर्मी

स्वच्छ भारत मिशन फेज एक के तहत 1118 कर्मी वर्तमान में कार्यरत हैं. ये कर्मी पिछले साल से तीन- तीन महीने के एक्सटेंशन पर है. इस साल सिंतबर में कर्मियों को तीन महीने का एक्सटेंशन दिया गया. जबकि इन्हीं कर्मियों से सरकार एसबीएम फेज एक और जल जीवन मिशन के तहत काम ले रही है.

वहीं, केंद्र सरकार ने दो फरवरी 2021 को सभी राज्यों को नया आदेश दिया है. इसमें जल जीवन मिशन के तहत नयी नियुक्तियां नहीं करने को कहा गया है. केंद्र सरकार ने कर्मियों को रिप्लेस नहीं करने का भी आदेश दिया. इसके बाद अप्रैल और फिर मई में पेयजल विभाग की ओर से जिला स्तर पर नियुक्ति संबधी पत्र जारी किया गया.

इसे भी पढ़ें :हंगामे से हुआ संसद के शीतकालीन सत्र का आगाज, कृषि कानून वापसी बिल लोकसभा से पारित

advt

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: