BiharCrime NewsNEWS

गया में दिनदहाड़े SBI में 16 लाख की लूट, हथियारबंद अपराधियों ने वारदात को दिया अंजाम

Gaya: जिले के गुरारु थाना क्षेत्र में गुरुवार को बैंक डकैती हुई है. सुबह साढ़े 10 बजे छह हथियार बंद अपराधी स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से 16 लाख रुपये लूट लिए. अपराधियों ने बैंक में मौजूद कस्टमर और बैंक के कर्मियों के मोबाइल अपने कब्जे में ले लिया. यही नहीं बैंक कर्मियों की डकैतों ने पिटाई भी की. अचरज की बात है कि बाजार में बैंक डकैती की घटना को अंजाम देकर अपराधी बाइक से बड़े ही आसानी से चलते भी बने. लेकिन इस बात का अंदाज बैंक के बाहर आते-जाते लोग या आसपास के दुकान के लोगों को नहीं हुई.

पुलिस मामले की जांच में जुट गई है. वह बैंक व सड़क मार्ग पर लगे सीसीटीवी कैमरों का फुटेज निकलवाने में जुट गई है. साथ ही बैंक कर्मियों व अधिकारियों से पूछताछ में जुटी है. गुरारु थानाध्यक्ष पुलिस बल के साथ मौके पर पहुंच कर छानबीन-पूछताछ में जुट गए हैं. पुलिस के वरीय अधिकारी भी जिला मुख्यालय से गुरारु के लिए रवाना हो चुके हैं. फिलहाल कोई भी अधिकारी इस घटना के बाबत कुछ भी बताने से इंकार कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :  राज्यसभा उपचुनाव के लिए जदयू प्रत्याशी अनिल हेगड़े के नामांकन में शामिल हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

Catalyst IAS
SIP abacus

गुरुआ बाजार स्थित एसबीआई के कैशियर जयंत कुमार ने बताया कि बैंक में गुरुवार को अक्सर भीड़ रहती है. हमलोग सेफ से करीब 16 लाख रुपये निकाल कर काउंटर पर रख कर काम कर रहे थे. करीब साढ़े दस बजे छह की संख्या में हथियार बंद बदमाश सीधे हमारे पास आए सेफ की चाबी मांगने लगे. इस पर हमने कहा कि चाबी हमारे पास नहीं रहती है. इस पर वे कहने लगे कि चाबी नहीं दोगे तो गोली मार देंगे. फिर हमने चाबी नहीं दी तो वे मार-पिटाई करने लगे.

MDLM
Sanjeevani

अपराधियों के कुछ साथी बैंक के दूसरे कैशियर के पास चले गए और उससे भी चाबी मांगी लेकिन उसने भी चाबी नहीं दी. जयंत ने बताया कि इस बीच सेफ की चाबी को हमलोगों ने फेंक कर छिपा दिया था. इसकी वजह से डकैत सेफ की चाबी नहीं ले सके. सेफ की चाबी जब नहीं मिली तो वे कैश काउंटर पर रखे रुपये ही उठा ले गए. इस घटना को अंजाम देने के दौरान अपराधियों ने बैंक के अंदर मौजूद ग्राहकों का मोबाइल भी छीन लिया था. बैंक के अंदर वे न तो किसी को आने दे रहे थे और न ही जाने दे रहे थे. डकैतों ने पूरी घटना को सात मिनट के अंदर अंजाम देकर चलते बने.

इसे भी पढ़ें : पुलिस पदाधिकारियों की कमी, पंचायत चुनाव तक 198 आरक्षी बनेंगे एएसआई

Related Articles

Back to top button