BusinessCorona_UpdatesLead News

कोरोना के इलाज के लिए SBI दे रहा है 5,00,000 रुपये तक का लोन, जानिये कैसे ले सकते हैं

Delhi Bureau

New Delhi : देश के सबसे बड़े वाणिज्यिक बैंक भारतीय स्टेट बैंक ने कवच पर्सनल लोन  नाम से ऋण सुविधा शुरू की है. आप यह लोन बिना किसी गारंटी के ले सकते हैं. यह लोन ग्राहक  स्वयं और परिवार के सदस्यों के कोरोना इलाज के खर्चों को कवर करने के लिए प्राप्त कर सकता है. एसबीआई ने कहा कि कोलैटरल फ्री लोन का उद्देश्य ग्राहकों को कोरोना उपचार के लिए स्वयं और परिवार के सदस्यों के चिकित्सा खर्चों को पूरा करने में सक्षम बनाना है.

लोन की यह सुविधा ग्राहकों को 60 महीने के लिए 8.5 प्रतिशत प्रति वर्ष की प्रभावी ब्याज दर पर दी जाएगी . ग्राहक 5 लाख रुपये तक का लोन ले सकते हैं. कवच योजना के तहत ऋण बिना गारंटी व्यक्तिगत ऋण श्रेणी के तहत और इस खंड के तहत सबसे सस्ती ब्याज दर पर पेश किए जा रहे हैं.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :पहले से अधिक ख़तरनाक हुआ कोरोना का डेल्टा वैरिएंट, जानिए-इसे लेकर क्यों चिंतित हैं वैज्ञानिक ?

The Royal’s
Pushpanjali
Pitambara
Sanjeevani

ऋण लेने के लिए कोई जमानत नहीं

SBI KAVACH व्यक्तिगत ऋण योजना स्वयं या परिवार के सदस्यों के कोविड -19 उपचार के लिए है जो 1 अप्रैल, 2021 को या उसके बाद कोविड -19 पॉजिटिव पाए गए हैं. लोन का लाभ बैंक ग्राहक उठा सकते हैं जो वेतनभोगी या गैर- वेतनभोगी या पेंशनभोगी हो सकते हैं. बैंक से ऋण लेने के लिए कोई जमानत नहीं होगी. बैंक ने स्पष्ट किया कि योजना के तहत कोविड से संबंधित चिकित्सा खर्चों के लिए पहले से किए गए खर्चों की प्रतिपूर्ति यानी रिमबर्समेंट की भी सुविधा मिलेगी.

इसे भी पढ़ें :75 दिन बाद देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के सबसे कम मामले,  लेकिन मौत के आंकड़े चिंताजनक

SBI KAVACH व्यक्तिगत ऋण योजना की खास बातें

  1. 5 लाख रुपये तक की राशि के लिए पर्सनल लोन 8.5 प्रतिशत प्रति वर्ष की दर से उपलब्ध है.
  2. लोन की अवधि 5 वर्ष है जिसमें तीन महीने की मोहलत शामिल है. 60 महीने के ऋण के लिए, राशि को 57 ईएमआई में चुकाना होगा, जिसमें मोराटोरियम के दौरान लिया गया ब्याज भी शामिल है.
  3. लोन लेने वाले की पात्रता के अनुसार न्यूनतम ऋण राशि 25,000 रुपये है, जबकि अधिकतम 5 लाख रुपये है.
  4. लोन प्राप्त करते समय कोई प्रोसेसिंग फीस नहीं है, कोई सुरक्षा जमा नहीं है, कोई पूर्व भुगतान जुर्माना नहीं है और कोई फौजदारी शुल्क नहीं है.
  5. प्रतिपूर्ति सुविधा शाखा चैनल के माध्यम से भी उपलब्ध है और ऋण मौजूदा ऋणों, यदि कोई हो, से अधिक होगा.

इसे भी पढ़ें :रांची में आर्थिक तंगी से क्षुब्ध युवक ने फंदे से झूलकर खुदकुशी की

Related Articles

Back to top button