DhanbadTop Story

बचा लीजिए जज साहिबा ! मैं पढ़ना चाहती हूं…

Dhanbad : धनबाद के न्यायालय में शनिवार को एक नाबालिग लड़की ने द्वारा न्यायाधीश के सामने ऐसा बयान दिया, जिसने सबको सन्न कर दिया. सोलह साल की नाबालिग लड़की ने प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी रितू कुजूर की अदालत में धारा 164 के तहत दिए गए बयान में कहा,  बचा लीजिए जज साहिबा !  इंसाफ कीजिए !  हुजूर… मैं पढ़ना चाहती हूं और मेरी सगी मां मुझसे गलत धंधा कराना चाहती है. आगे उसने कहा कि मेरी सगी मां, पिता और भाई का सीतारामपुर की बाइजी पाड़ा में वेश्यावृति का धंधा है. मां ने मेरा भी सौदा मुंबई के अजीत मंत्री और तमन्ना मंत्री से कर दिया है.  मुझे मेरी अपनी ही मां ने बेच दिया है बेच दिया है. मैं वहां नहीं जाना चाहती. आप इंसाफ कीजिए.

इसे भी पढ़ें – एक मरीज लाने पर एंबुलेंस चालक को 1500 रुपया देता है मेदांता अस्पताल

बड़ी बहन को भी गलत धंधे में ढकेला

सोलह वर्षीया किशोरी ने प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी रितू कुजूर की अदालत में बयान दिया कि  उसकी दो बड़ी बहने हैं. वो दोनों भी वेश्यावृति नहीं करना चाहती थीं. इसलिए मेरी बड़ी शादी कर गया चली गई थी. लेकिन बड़ी बहन को गया से जबरन उठाकर लाया गय और मुंबई के दलालों को बेच दिया गया. वे मेरी बहन से गलत धंधा कराते थे. लेकिन बहन को बीमारी हो गई और वह मर गई. इससे आगे उस नाबालिग ने बताया कि मंझली बहन सीतारामपुर से भाग कर धनबाद आयी और  यहां विवाह कर घर बसा लिया.

advt

सीतारामपुर की बदनाम गलियों से भाग कर आयी पीड़िता न्यायिक दंडाधिकारी रितू कुजूर की अदालत में दिए गए बयान में कहा कि,  वह भी किसी तरह से अरपनी मां के चंगुल से भाग निकली और बहन के पास धनबाद आ गयी. बहन और मेरे जीजा ने मुझे पढ़ने के लिए मदरसा में दाखिला कराया. लेकिन अब उसे बहन के घर से जबरन ले जाने की कोशिश की गई. जब मैं नहीं गई तो, मुझे सहारा देने वाले बहन और जीजा पर मां ने अपहरण का केस कर दिया है. बचा लीजिए जज साहिबा.

इसे भी पढ़ें – टोलों की पहचान के बगैर ही अनुसूचित जाति, जनजाति बाहुल्य इलाकों में लगाया जा रहा सोलर ट्यूबवेल

डर से धनबाद स्टेशन के सामने सोने को मजबूर

पीड़िता ने अदालत में कहा कि मां ने फोन किया था और मुझसे कहा कि मेरा सौदा अजीत मंत्री से कर दिया गया है. साथ ही फोन पर मुझसे कहा गया कि यदि वापस नहीं आयी तो मर्डर करा देंगे. इसके अलावा मौलाना साहब को भी फोन पर धमकी दी जा रही है. उसने बताया कि अजीत मंत्री ने मेरी बहन को भी फोन कर धमकी दी कि मुझे घर से निकाल दे, नहीं तो घसीट कर ले जाएंगे. लगातार धमकी देने की वजह से हमलोग कभी धनबाद स्टेशन के सामने सोते हैं, तो कभी फाटक पर.

इस तरह न्यायालय में आया मसला

दरअसल पीड़िता की मां ने भूली थाना में केस किया कि उनकी 16 साल की बेटी को उसकी बहन और जीजा कमरे में बंद कर चले गए हैं. केस करने को बाद पुलिस वहां गयी और पीड़िता को मुक्त कराया. लेकिन जब पीड़िता ने हकीकत बतायी तो पुलिस भी सन्न रह गई. चूंकि मुकदमा हो चुका था. इसलिए पीड़िता को न्यायालय लाया गया.

adv

इसके बाद सीतारामपुर की बदनाम गलियों की अमानवीय कहानी सामने आ. अब पीड़िता ने न्यायालय में अपनी मां, पिता, तीन भाइयों और मुंबई में मीरा रोड के पूनम गार्डेन में रहने वाले अजीत मंत्री और तमन्ना मंत्री के खिलाफ शिकायतवाद दर्ज कराया है.

इसे भी पढ़ें – लापरवाहीः 17 कॉलेजों में हैं मात्र 65 शिक्षक, टीचर्स की संख्या बढ़ाने की बजाय बढ़ा दी छात्रों की सीटें

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button