न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#SaudiAramco बनी विश्व की नंबर वन कंपनी, बाजार पूंजीकरण 142 लाख करोड़ रुपये पहुंचा,  सऊदी अरब की जीडीपी से ढाई गुना ज्यादा  

142 लाख करोड़ रुपये का यह आंकड़ा सऊदी अरब की जीडीपी से ढाई गुना ज्यादा है. सऊदी अरब की जीडीपी 779.29 अरब डॉलर है.

90

Riyadh : सऊदी अरब की सरकारी तेल कंपनी सऊदी अरामको ने एक नया मुकाम हासिल किया है.  अरामको सबसे ज्यादा बाजार पूंजीकरण वाली दुनिया की पहली कंपनी बन गयी है.  गुरुवार को सऊदी अरामको का बाजार पूंजीकरण दो ट्रिलियन डॉलर यानी करीब 142 लाख करोड़ रुपये हो गया.  जान लें कि सऊदी अरामको  भारत में  में पेट्रो रसायन, बुनियादी संरचना और खनन समेत अन्य क्षेत्रों में 100 अरब डॉलर निवेश करने जा रहा है.  भारत की रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ सऊदी अरामको की  भागीदारी होगी.

142 लाख करोड़ रुपये का यह आंकड़ा सऊदी अरब की जीडीपी से ढाई गुना ज्यादा है. जान लें कि  सऊदी अरब की जीडीपी 779.29 अरब डॉलर है. साथ ही गुरुवार को सऊदी अरामको के शेयर में 10 फीसदी की बढ़ोतरी हो गयी, जिसके बाद यह 38.70 रियाल यानी 10.32 डॉलर पर शेयर खुला.  शेयर में आयी बढ़त से कंपनी की बाजार हैसियत दो ट्रिलियन डॉलर हो गयी.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इसे भी पढ़ें :  #CitizenshipAmendmentBill : #Congress का  #PMModi पर कटाक्ष, असम के लोग पीएम का संदेश नहीं पढ़ सकते, इंटरनेट बंद है

अरामको का मार्केट कैप एपल और अमेजन के बराबर

दो ट्रिलियन डॉलर का यह आंकड़ा एपल और अमेजन के कुल मार्केट कैप के बराबर है.  एपल का बाजार पूंजीकरण 1,190 बिलियन डॉलर है और अमेजन का 867 बिलियन डॉलर.  खबरों के अनुसार  2018 में कंपनी ने 111 अरब डॉलर का लाभ कमाया था. यह एपल और गूगल की कंपनी एल्फाबेट के कुल सालाना लाभ से भी अधिक है.

जान लें कि अक्तूबर माह में अरामको के आईपीओ में थोड़ा विलंब हुआ था.  हाल ही में सऊदी अरामको के क्रूड ऑयल फैसिलिटी सेंटर्स पर ड्रोन हमला हुआ था.  जिसकी वजह से 28 साल बाद कच्चे तेल में एक दिन की सबसे ज्यादा तेजी आयी थी.

Related Posts

#Vodafone_Idea ने कहा, माली हालत ठीक नहीं, सरकार की मदद के बिना बकाया नहीं चुका पायेंगे

कंपनी पर 53,000 करोड़ रुपये से अधिक का सांविधिक बकाया है. जबकि वह अभी तक इसका मुश्किल से सात प्रतिशत ही अदा कर पायी है. कंपनी ने कहा, उसकी माली हालत ठीक नहीं है.

इसे भी पढ़ें :   #CitizenshipAmendmentBill : #PMModi ने हिंसक प्रदर्शन पर ट्वीट कर असम के लोगों से कहा, आपके अधिकार कोई नहीं छीन सकता

सऊदी अरब तेल पर अर्थव्यवस्था की निर्भरता को कम करना चाहता है

सूत्रों के अनुसार सऊदी अरब तेल पर अर्थव्यवस्था की निर्भरता को कम करना चाहता है.  आईपीओ लाने के पीछे सऊदी राजघराने के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की सुधारों को बढ़ाने की सोची समझी रणनीति है.   2016 में पहली बार मोहम्मद बिन सलमान ने आईपीओ बनाये जाने के बारे में घोषणा की थी.  सलमान आईपीओ से पहले ही अरामको का वैल्यूएशन दो ट्रिलियन डॉलर चाहते थे.

जान लें कि सऊदी अरामको  भारत में  में पेट्रो रसायन, बुनियादी संरचना और खनन समेत अन्य क्षेत्रों में 100 अरब डॉलर निवेश करने जा रहा है.  भारत की रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ प्रस्तावित भागीदारी से दोनों देशों के बीच ऊर्जा संबंधों को नयी गति मिलेगी.  भारत के तेल आपूर्ति, खुदरा ईंधन बिक्री, पेट्रोरसायन और लुब्रिकैंट बाजार में अरामको की निवेश की योजना इन क्षत्रों में कंपनी के वैश्विक विस्तार की रणनीति का हिस्सा है.

इसे भी पढ़ें : #Citizenship Amendment Bill  : सरकार ने राष्ट्रविरोधी सामग्री के प्रसारण को लेकर टीवी चैनलों को निर्देश दिया, विपक्ष का विरोध

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like