BusinessWorld

#SaudiArabia भारत में 100 अरब डॉलर के #Invest की तैयारी में

विज्ञापन

NewDelhi : सऊदी अरब भारत में आर्थिक वृद्धि की संभावनाओं को देखते हुए पेट्रो रसायन, बुनियादी संरचना और खनन समेत अन्य क्षेत्रों में 100 अरब डॉलर निवेश करने की संभावनाएं देख रहा है.

खबरों के अनुसार सऊदी अरब के राजदूत डॉ सऊद बिन मोहम्मद अल साती ने कहा कि भारत एक आकर्षक निवेश गंतव्य है.  सऊदी अरब तेल, गैस और खनन जैसे क्षेत्रों में दीर्घकालिक भागीदारी पर गौर कर रहा है.

अल साती ने एक इंटरव्यू में कहा कि सऊदी अरब ईंधन, परिशोधन, पेट्रो रसायन, बुनियादी संरचना, कृषि, खनिज और खनन जैसे क्षेत्रों में 100 अरब डॉलर निवेश करने के अवसरों पर विचार कर रहा है.

राजदूत अल साती ने कहा कि सऊदी अरब की सबसे बड़ी तेल कंपनी अरामको की भारत की रिलायंस इंडस्ट्रीज के साथ प्रस्तावित भागीदारी से दोनों देशों के बीच ऊर्जा संबंधों की रणनीतिक प्रकृति का पता चलता है.

इसे भी पढ़े: #Congress का तंज, भारत का कर्ज 88 लाख करोड़ हुआ, #PMModi कहते हैं, भारत में सब अच्छा है

 युवराज मोहम्मद बिन सलमान का विजन 2030

राजदूत के अनुसार भारत के तेल आपूर्ति, खुदरा ईंधन बिक्री, पेट्रोरसायन और लुब्रिकैंट बाजार में अरामको की निवेश की योजना इन क्षत्रों में कंपनी के वैश्विक विस्तार की रणनीति का हिस्सा है.

अल साती ने कहा कि सऊदी अरब के युवराज मोहम्मद बिन सलमान के विजन 2030 से भी दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में व्यापार व कारोबार में उल्लेखनीय विस्तार होगा.  सऊदी अरब विजन 2030 के तहत पेट्रोलियम उत्पादों पर आर्थिक निर्भरता कम करने के लिए प्रयासरत है.

इसे भी पढ़े:  #Hinduism को राजनीतिक रूप से पेश करना हिंदू धर्म पर प्रहार है : #ShashiTharoor

सऊदी अरब व भारत के बीच 34 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार 

जान लें कि भारत सऊदी अरब से अपनी जरूरत का 17 प्रतिशत कच्चा तेल और 32 प्रतिशत एलपीजी खरीदता है.  राजदूत ने कहा कि 2019 में दोनों देशों के बीच विभिन्न क्षेत्रों में संयुक्त भागीदारी और निवेश के 40 से अधिक अवसरों की पहचान की गयी है.  उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच 34 अरब डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार होता है और इस बात में कोई शक नहीं कि इसमें वृद्धि ही देखने को मिलेगी.

दोनों देशों के बीच संबंध आगे बढ़ चुके हैं

अरामको के आईपीओ के बारे में पूछे जाने पर कहा कि यह कंपनी को विस्तृत दुनिया के संपर्क में लायेगा. भारत के साथ भविष्य के संबंधों के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध पहले ही कच्चा तेल, पेट्रोलियम उत्पादों और एलपीजी की आपूर्ति से आगे बढ़ चुके हैं.

पेट्रो रसायन और खोज जैसे क्षेत्रों में संयुक्त भागीदारी और निवेश पर ध्यान दिया जा रहा है. उन्होंने कहा, भारत द्वारा सऊदी अरब को रणनीतिक पेट्रोलियम भंडार में निवेश करने का निमंत्रण दिया जाना दोनों देशों के बीच आपसी भरोसे का सबूत है.

इसे भी पढ़े: मोदी सरकार #ReserveBank से ले सकती है 30 हजार करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: