BokaroGoddaJharkhandLead NewsNEWSRanchiTOP SLIDERTRENDING

सत्ता पलट साजिश प्रकरण:  बयानों के वार में ‘पोर्न’ से लेकर रिश्तों तक के उधेड़े जा रहे तार

गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे और बेरमो विधायक जयमंगल सिंह आमने-सामने

Akshay Kumar Jha

Ranchi: बीते चार दिनों से झारखंड की राजनीति का पारा हाई है. सत्ता पलटने की साजिश में झारखंड पुलिस ने तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. आरोप-प्रत्यारोप का दौर जारी है. बीजेपी की तरफ से निशिकांत दुबे, बाबूलाल मरांडी, दीपक प्रकाश सरीखे तमाम बड़े-कद्दावर नेताओं के बयान लगातार आ रहे हैं, तो जेएमएम की तरफ से सुप्रियो और कांग्रेस की तरफ से रामेश्वर उरांव ने कमान संभाल रखी है.

इस बीच सोशल मीडिया पर एक दूसरी किस्म की बयानबाजी भी चल रही है, जिसमें तमाम मर्यादाओं की धज्जियां उड़ रही है. इस लड़ाई के किरदार गोड्डा सांसद निशिकांत दुबे और बेरमो विधायक जयमंगल सिंह उर्फ अनूप सिंह हैं. सोशल मीडिया पर सार्वजनिक हो चुकी इस प़ॉलिटिकल वॉर में अब रिश्तों की बखिया उधेड़ी जा रही है. ईंट का जवाब पत्थर से देने के चक्कर में मामला बिलो द बेल्ट होता नजर आ रहा है.

advt

इसे भी पढ़ें :पहली सोमवारी पर बाबा बैद्यनाथ मंदिर में की गई विशेष पूजा, आम श्रद्धालुओं पर रोक

ओपनिंग की निशिकांत ने तो जयमंगल ने दागा यॉर्कर

शुरुआत सांसद निशिकांत दुबे ने की. 25 जुलाई की उन्होंने एक ट्विट किया कि “कुमार गौरव कौन हैं? कहीं विधायक अनूप सिंह जी के भाई तो नहीं? दो भाई की लड़ाई में मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी व झारखंड पुलिस मूर्खतापूर्ण कार्रवाई कर ठेका मजदूरों व सब्जी बेचने वाले से सरकार तो नहीं गिरा रही?”

इसे भी पढ़ें :मार्च में पटना से राजगीर तक पहुंच जाएंगी ‘गंगा’

इस ट्विट के साथ मीडिया में छपी एक रिपोर्ट को निशिकांत ने टैग किया. उस रिपोर्ट में लिखा था कि 15 जुलाई को सत्ता पलटने की साजिश करने के आरोपी निवारण प्रसाद महतो, अमित सिंह और कुमार गौरव नाम का शख्स एक ही पीएनआर पर रांची से इंडिगो फ्लाइट से रांची से दिल्ली गए थे. उसी फ्लाइट में विधायक उमाशंकर अकेला. अमित यादव और इरफान अंसारी दूसरी पीएनआर पर सफर कर रहे थे. निशिकांत दुबे ने आरोप लगाया कि विधायक जयमंगल के भाई कुमार गौरव भी सत्ता परिवर्तन की साजिश का हिस्सा हैं.

25 जुलाई को ही निशिकांत ने दूसरा ट्विट किया. उन्होंने लिखा कि “मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी, जब एक ही टिकट पर कुमार गौरव दिल्ली गए तो झारखंड पुलिस ने उनको गिरफ़्तार क्यों नहीं किया? पिछड़े वर्ग को आरक्षण नहीं देने के बाद विधायक उमाशंकर यादव व अमित यादव को चोर, मुसलमान फुरकान अंसारी का टिकट काटकर अब इरफान अंसारी को चोर बता कर बेइज्जत…”

 

इसे भी पढ़ें :कांग्रेस MLA का अपनी पार्टी के मंत्री पर आरोप, कहा- CM बनने के लिए मारना चाहते हैं TS देव

जयमंगल आए फ्रंटफुट पर

निशिकांत दुबे के दोनों ट्विट का जवाव देने आये बेरमो के विधायक जयमंगल सिंह आक्रामक बल्लेबाजी करने लगे. उन्होंने ट्विट किया कि “आपको (निशिकांत दुबे) सरकार व परिवार तोड़ने में महारत हासिल है, यह बात पूरा राज्य भली-भांति जानता है. बस आपने इस बार यह सरकार व परिवार तोड़ने में चूक कर दी. आपकी तिलमिलाहट लाजमी है. रही बात मेरे भाई की, वह मेरा गुरुर है।”

 

निशिकांत दुबे कहां चुप रहने वाले थे. उन्होंने जयमंगल सिंह को भी लपेटे में लिया. रांची के एक शादी समारोह का जिक्र करते हुए निशिकांत दुबे ने ट्विट किया कि “निर्लज्ज सरकार गरीब सब्ज़ी बेचने वाले व दिहाड़ी मज़दूर जैसे गरीब लोगों को पकड़कर जगहंसाई कर रही है,  हेमंत सोरेन जी, कल रात ही अनूप सिंह जी, बाबूलाल मरांडी जी, सुनील तिवारी जी,  रवि केजरीवाल जी व मेरे साथ रांची में बैठे थे,  असली सरकार तो वहां तोड़ी जा रही थी.”

 

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympics Day-4:  टेनिस में भी टूटी आशा , सीधे सेटों में हारे सुमित नागल

प्रकारांतर से इस बार निशिकांत दुबे ने झारखंड में सत्ता परिवर्तन की साजिश में विधायक जयमंगल को भी निशाने पर ले लिया. इसके बाद जयमंगल सिंह ने निशिकांत को निशाना बनाते हुए ताबड़तोड़ हमले किये. जयमंगल ने इस प्रकरण में एक-एक कर पांच ट्विट किए. पहले ट्विट में उन्होंने निशिकांत के आरोपों को खारिज करते हुए लिखा कि “बीएनआर होटल में, मैं पारिवारिक समारोह में हिस्सा लेने गया था. जहां आपसे दुर्भाग्यवश मुलाकात हुई, आपके कहे अनुसार BNR में सरकार गिराने की साज़िश हो रही थी. आप मेरे इस बात का जवाब दे दीजिए कि आपके परिवार के सदस्य संदीप शर्मा के साथ दुबई में कौन-सी सरकार बना रहे थे.”

 

बता दें कि संदीप शर्मा कौन है और निशिकांत के किस पारिवारिक सदस्य के साथ वो दुबई गए थे,  इसका खुलासा जयमंगल ने नहीं किया. जाहिर है, वाक् युद्ध आगे बढ़ा तो बात दूर तलक जायेगी.

निशिकांत को निशाना बनाते हुए दूसरे ट्विट में जयमंगल ने लिखा कि “आपको तो पता चल गया कि कुमार गौरव नहीं बल्कि गौरव कुमार वह शख्स था. हम दोनों भाइयों को हमारे पूज्य पिता स्वर्गीय राजेन्द्र प्रसाद सिंह जी के संस्कार मिला है. हम रिश्ते और विचारधारा दोनों को बखूबी संभालना जानते हैं. खैर आपसे भाई-बहन का रिश्ता के बारे में क्या बात करना” इस ट्विट में भी जयमंगल सिंह ने यह साफ नहीं किया कि वो किस भाई-बहन के रिश्ते की बात कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :Ranchi: एक अगस्त से बढ़ी दरों पर होगी जमीन की रजिस्ट्री, जानिए किस इलाके में कितनी बढ़ जायेंगी कीमतें

तीसरे ट्विट में उन्होंने लिखा कि “आपके वह मोहरे,जिन्हें आप सब्जी वाला और दिहाड़ी मजदूर बता रहे थे, आज साबित हो गया वह भाजपा के कार्यकर्ता थे. एक साजिश के तहत उन्हें वहां कार्य को अंजाम देने के लिए लगाया गया था. आप लोगों की मानसिकता रही है, पकड़े गए तो बलि का बकरा कार्यकर्ता और सफल हुए तो सेहरा अपने सर पर बांध लेंगे.”

चौथे ट्विट में जयमंगल ने लिखा कि “माफी के साथ कहना चाहता हूं, आपका हनुमान तो नहीं लेकिन लंगूर तिवारी और उनके आका का बंगाल प्रवास का प्रीमियर जल्द आप लोग देख पाएंगे. क्योंकि आप लोगों ने व्यक्तिगत और पारिवारिक रेखा को पार कर आरोप लगाए हैं.”यहां भी जयमंगल सिंह ने यह साफ नहीं किया कि वो किस हनुमान,  लंगूर तिवारी और आका की बात कर रहे हैं.

 

जयमंगल सिंह ने अपने पांचवें ट्विट में एक बंगाली पोर्न फिल्म का पोस्टर लगाया है. यूट्यूब में इसे सर्च करने पर BISH Trailer. Bengali Movie. Surjya Saha. Ashadeep Pictures. Pradip Bhardwaj & Sunil Tiwary का नाम लिखा आ रहा है. इस फिल्म के शक्रीन शॉट के साथ जयमंगल ने ट्विट कर लिखा है कि “निशिकांत जी इस पिक्चर से आपके लंगूर तिवारी जी की कुछ यादें ताजा हो गई होंगी. ये तो एक ट्रेलर है, जनता के सामने उनका अश्लील चेहरा सामने लाने का वादा करता हूं और उनकी आका के साथ झारखण्ड की जनता पूरी फिल्म देखेगी”

 

जयमंगल सिंह ने फिर से एक बार इस ट्विट के बारे नहीं बताया कि वो लंगूर तिवारी और किस आका की बात कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें :कर्नाटक के CM बीएस येदियुरप्पा ने इस्तीफे का किया ऐलान, कहा हमेशा अग्निपरीक्षा से गुजरा

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: