न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जेल की व्यवस्था से संतुष्ट, लेकिन जश्न की जांच होगी: जेल आईजी

जेल में जश्न की खबर पर पर न्यायलय व उपायुक्त ने जेल प्रशासन से मांगा स्पष्टीकरण

29

Hazaribagh: जयप्रकाश नारायण केंद्रीय कारा, हजारीबाग में बंदी इकबाल खान का जन्मदिन मनाने के मामले की जांच करने जेल आईजी बीरेंद्र भूषण और एआईजी पंकज कुमार विद्यार्थी की टीम सोमवार को हजारीबाग पहुंची. जेल पहुंचकर सबसे पहले बाहर से लेकर अंदर तक की सुरक्षा व्यवस्था की जानकारी ली. कारा अधीक्षक हामिद अख्तर ने जेल की सभी व्यवस्था और सुविधाओं की जानकारी अधिकारियों को दी. जेल आईजी ने कहा कि जेल की व्यवस्था अच्छी है. तकनीकी रुप से अपग्रेड की प्रक्रिया चल रही है. जेल आईजी ने जन्मदिन के जश्न के हर एक पहलू की जांच की.

क्रिसमस गैदरिंग थी, पार्टी नहीं

जानकारी के अनुसार जांच टीम को पार्टी होने की बात सही निकली, लेकिन पार्टी बंदी इकबाल की नहीं. टीम को बताया गया कि पार्टी जैप के सिपाहियों की थी. जो क्रिसमस गैदरिंग के दौरान हुई. जांच में उस सेल का भी निरीक्षण किया गया, जहां पार्टी मनाने की बात सामने आयी. जेल में लगे सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया. फुटेज में कहीं से भी बंदियों द्वारा पार्टी मनाने के साक्ष्य नहीं मिले.

जन्मदिन को लेकर कहा गया था कि 50 सेट ट्रैक सूट, बीस जोड़े जूते और केक व मटन मंगाये थे. इन सब बातों की जांच की गयी. जिस कंपनी के ट्रैक सूट और जूते मंगवाने की बात कही गयी थी, उसकी भी तहक़ीकात बंदियों-वार्डों की तलाशी लेकर की गयी. फिर सीसीटीवी फुटेज को देखा गया. इन सबसे भी जन्मदिन के जश्न की पुष्टि नही हो सकी.

सीसीटीवी जांच के दैरान जरूर कुछ लोगों को एक साथ बैठकर खाना खाते देखा गया. जिसपर जेल अधिकारियों ने बताया कि विचाराधीन बंदियों के लिए जेल मैन्युअल के अनुसार बाहर से खाना आ सकता है. उसे ही बंद खा रहे थे. जेल मैन्युअल के खिलाफ कोई भी भोज्य पदार्थ या वैसा समान नही मिला जो नियम संगत न हो.

देर शाम तक चलती रही जांच

जांच टीम विशेष तौर पर इस बिंदु की तहकीकात कर रह थी कि आखिर किस आधार पर दूसरे जेल से आये हुए बंदी को सेल से निकालकर जेनरल वार्ड में रखा गया. इधर जेल में जश्न के मामले को लेकर काराधीक्षक से हज़ारीबाग़ न्यायलय व उपायुक्त ने स्पष्टीकरण मांगा है.

इसे भी पढ़ें: पेथाई तूफान का असर: झारखंड में स्‍कूल बंद रखने का निर्देश जारी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: