Jharkhand Vidhansabha Election

#SaryuRoy का ताबड़तोड़ प्रचार अभियान, रघुवर की गैरमौजूदगी में बेटे ललित ने संभाला मोर्चा

Jamshedpur: पूर्वी जमशेदपुर में पॉलिटीकल एक्शन चरम पर है, जबकि नामांकन के बाद से अब तक रघुवर दास की चुनाव प्रचार में एंट्री नहीं हुई है.

इस बीच सरयू राय का ताबड़-तोड़ अभियान चल रहा है. रघुवर की गैरमौजूदगी में उनके बेटे ललित दास सक्रिय हो गये हैं. वे दिनों से भाजपा का झंडा गले में लपेटे हुए अपने समर्थकों के साथ गली-मुहल्लों में पापा के लिए वोट मांग रहे हैं.

सरयू-ऱघुवर गुटों की झड़प के बाद सरयू राय ने प्रचार अभियान और तेज कर दिया है और देर रात तक जनसंपर्क अभियान में चला रहे हैं. माना जा रहा है कि इसी को देखते हुए सीएम ने ललित को तत्काल मोर्चा संभालने को कहा है.

advt

इसे भी पढ़ें : जिस परीक्षा को पांच साल में पूरा नहीं करा सका जेपीएससी, उसे अब सिर्फ चार महीने में कराने का दावा

30 नवंबर से पहले नहीं आयेंगे सीएम

#SaryuRoy का ताबड़तोड़ प्रचार अभियान, रघुवर की गैरमौजूदगी में बेटे ललित प्रचार में उतरेरघुवर दास के अपने इलाके में प्रचार 30 नवंबर से पहले करने की संभावना कम ही है. 30 नंवबर को भी पहले सीएम जुगसलाई विधानसभा में आमसभा में शिरकत करेंगे. उसके बाद अपने क्षेत्र में उनके प्रचार अभियान की शुरुआत होगी.

तब तक ललित दास ही गली-मुहल्लों और बस्तियों में चक्कर लगाने का जिम्मा संभालेंगे. मंगलवार को बिरसा नगर इलाके में ललित दास ने लोगों से मुलाकात की, उनकी समस्याओं को सुना, साथ ही लोगों को भाजपा की सरकार बनने के बाद समस्याओं के समाधान का भरोसा भी दिया.

इससे पहले सोमवार को भी ललित धालभूमगढ़, भुइय़ांडीह और भालुबासा जैसे इलाके घूम चुके हैं.

adv

इसे भी पढ़ें : कोल्हान में 3 हजार से अधिक इंडस्ट्रीज होने के बावजूद पांच साल से 8 लाख रजिस्टर्ड युवा बेरोजगार

क्या कहना है ललित दास का

ललित दास ने कहा कि पिता की जीत को लेकर वे आश्वस्त हैं. उन्होंने कहा कि इस बार भी राज्य में भाजपा की ही सरकार बनने जा रही है.

पिता के लिए प्रचार करने का जिम्मा मिलने पर कहा कि उन्हें कोई जिम्मा नही मिला है. वो खुद ही पिता की गैरमौजूदगी में लोगों से मिल रहे हैं. पहले भी वो ऐसा कर चुके हैं. चुनाव के समय उनकी जिम्मेदारी और बढ़ गयी है.

क्या कहा सरयू राय ने?

सरयू राय ने दो टूक कहा कि वे तथ्यों के साथ एक परिवार के खिलाफ जनता से संवाद कर रहे हैं.

किसकों क्या जिम्मदारी मिल रही है इससे उनका कोई लेने-देना नहीं, वो बस जनता के बीच अपनी बातों को रखने में जुटे हैं.

इसे भी पढ़ें : क्या टीटीपीएस को बंद करने की ओर धकेल रहा है प्रबंधन का ये कदम!

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button