न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#SaryuRoy का आरोप: मैनहर्ट कंपनी को नजायज फायदा पहुंचाने के दोषी हैं रघुवर, रुतबे का प्रयोग कर जांच धीमी की

740

Jamshedpur : सरयू राय ने सीएम रघुवर दास पर मैनहर्ट कंपनी को नाजायज फायदा पहुंचाने और रुतबे का प्रयोग कर जांच धीमा करने का आरोप लगाया है.

सोमवार को प्रेसवार्ता में राय ने सवाल किया, मुख्यमंत्री बतायें आखिर वे कैसे कहते हैं कि वे बेदाग हैं, उन्होंने मैनहर्ट कंपनी को आर्थिक लाभ पहुंचाने की कोशिश की जिसके लिए साक्ष्य की कोई कमी नहीं.

क्या है मामला

मामला 2005 का है. सरयू राय ने कहा कि रघुवर दास ने परामर्शी कंपनी मैनहर्ट को गलत तरीके से आर्थिक लाभ पहुंचाया. उस समय रघुवर दास नगर विकास मंत्री हुआ करते थे.

प्रेसवार्ता में सरयू राय ने आगे कहा कि ओआरजी मांर्ग कंपनी को बिना नोटिस के हटा कर मैनहर्ट कंपनी को 24 करोड़ रुपये में परामर्शी बहाल कर लिया गया, वो भी उस स्थिति में जब मैनहर्ट निविदा के सभी अहर्ता के अनुसार उपयुक्त नहीं थी.

इसे भी पढ़ें : बिना बजट की मुख्यमंत्री कृषि आशीर्वाद योजना को तोरपा के ग्राम प्रधानों ने बताया जुमला, देखिये वीडियो

विधानसभा में भी उठा  था मामला

सरयू राय ने कहा कि मामला विधानसभा में उठा तो जांच के लिए उनके ही नेतृत्व में तीन सदस्यों की कमेटी गठित की गयी.

Sport House

कमेटी ने मैनहर्ट को अयोग्य करार देते हुए कार्रवाई की अनुशंसा की लेकिन रघुवर दास ने विधानसभा अध्यक्ष को दो बार पत्र लिखकर जांच रोकने की कोशिश की.

हाईकोर्ट में भी लिया था संज्ञान

सरयू राय ने ये भी कहा कि मामला हाईकोर्ट भी पहुंचा जहां मैनहर्ट मामले पर पीआइएल की सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने प्रार्थी को डीजी विजिलेंस के पास जाकर शिकायत दर्ज कराने का आदेश दिया.

आदेश में कहा गया कि शिकायत में सच्चाई के साक्ष्य मिलते हैं तो इस पर जल्द कानूनी कार्रवाई की जाये. विजिलेंस की जांच के दौरान भी मैनहर्ट की बहाली को गलत पाया गया.

इतना ही नहीं बाद में उच्च न्यायलय ने मैनहर्ट की बहाली की जांच एंटी करप्शन ब्यूरो से कराने के लिए याचिकाकर्ता को निगरानी आयुक्त के पास जाने का भी आदेश दिया.

उस वक्त निगरानी आयुक्त राजबाला वर्मा थीं जो बाद में रघुवर दास की मुख्य सचिव भी बनीं. सरयू राय ने चुटकी लेते हुए कहा कि शायद इसीलिए कोई कार्रवाई नहीं हुई.

इसे भी पढ़ें : Jamshedpur East: गूगल पर भी सबसे ज्यादा सर्च किये जा रहे हैं सरयू राय

सीएम नहीं हैं बेदाग

अंत में उन्होंने साफ कहा कि सीएम रघुवर दास बेदाग नहीं हैं क्योंकि 3 करोड़ की जगह 24 करोड़ खर्च कर मैनहर्ट को परामर्शी बहाल किया.

विधानसभा समिति, हाईकोर्ट और निगरानी विभाग की जांच में मैनहर्ट अयोग्य साबित हुआ, उसके बाद भी कोई अपने आप को बेदाग कैसे कह सकता है?

इसे भी पढ़ें : Bermo: बोकारो थर्मल में भी 16 जवानों एवं एक एएसआइ की विस्फोट में मौत मामले में भी निलंबित हुए थे इंस्पेक्टर मोहन पांडेय

Mayfair 2-1-2020
SP Jamshedpur 24/01/2020-30/01/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like