NEWS

मंदिर विवाद पर बोले सरयू – पूर्व सीएम, मंत्री और प्रशासन का त्रिकोण, जिसको चाहे फंसाये, पढ़ें बिदुवार खुलासा

साकची बाजार के स्थानीय लोग करेंगे लोक संकटमोचक हनुमान मंदिर निर्माण , निषेधाज्ञा हटाने की पहल करेंगे विधायक

Jamshdpur : जमशेदपुर पूर्वी के विधायक सरयू राय ने कहा है कि शहर में मंदिरों पर कब्जा करने की सुनियोनिज साजिश चल रही है. इसमें पूर्व मुख्यमंत्री, वर्तमान मंत्री और प्रशासन का त्रिकोण है. ये लोग जिसको चाहे फंसा दें और जिसे चाहे बचा लें, लेकिन हमारा भरोसा जमशेदपुर की जनता पर है. चुनाव जमशेदपुर की जनता ने जिताया है और मंदिर का फैसला भी जमशेदपुर की जनता ही करेगी. वह सही फ़ैसला करेगी. श्री राय ने कहा कि वे साकची के लोगों की सार्वजनिक सभा बुलाकर अपने निर्णय से संतुष्ट करा लेंगे. विधायर सरयू राय शुक्रवार को श्रीश्री लोक संकट मोचक हनुमान मंदिर साकची कालीमाटी की अहम बैठक को संबोधित कर रहे थे. श्री राय ने इस मंदिर विवाद को लेकर आपने ऊपर लगाये जा रहे आरोपों का बिंदुवार जवाब देते हुए इसके पीछे संलिप्त लोगों की पोल खोकर रख दी. आइये जानते हैं सरयू राय ने कहा कहा –

Sanjeevani
  • कुछ हफ्ते पहले दो लोग- चिंटू सिंह एवं हरीश राय मेरे कार्यालय में मुझसे मिले. उन्होंने स्वयं प्रस्ताव रखा कि मंदिर समिति का अध्यक्ष केशधारी सिख को बनाया जाये. स्थानीय निवासी जोगिंदर सिंह जोगी ही मंदिर के अध्यक्ष रहें. यह मंदिर हिंदू-सिख की एकता का मिसाल बने.
  • कुछ दिन बाद कुछ अनैतिक लोगों ने मंदिर समिति में हस्तक्षेप शुरू किया और जोगी के नाम पर आपत्ति जताने लगे. मैंने कहा कि गड़बड़ी लग रही है. इन लोगों का इरादा कुछ और है. मंदिर सभी मिलकर बनायेंगे, लेकिन जिनका इरादा गलत है उनके मंसूबे पूरे नहीं होंगे.
  • मंदिर में आरती आयोजित हुई. इसे अवरुद्ध करने का प्रयास हुआ. मंदिर समिति के लोगों पर हमला करने का प्रयास किया गया. किंतु महिलाओं ने उनका डट कर मुकाबला किया. तब अनैतिक लोगों को यह आभास हुआ कि ये लोग छोड़ेंगे नहीं.
  • कांग्रेस साकची मंडल अध्यक्ष राहुल गोस्वामी ने मुझसे मुलाकात की. कहा कि सुरेंद्र शर्मा मंदिर बनाना चाहते हैं और आपसे मिलना चाहते हैं. कांग्रेस के राकेश साहू ने भी दूरभाष पर बात कर मंदिर निर्माण के लिए मिलने कि बात कही.
  • इसके बाद कांग्रेस जिलाध्यक्ष विजय खान से बात हुई. भाजपा के पूर्व प्रदेश प्रवक्ता अमरप्रीत सिंह काले के साथ उनके आवास पर बैठक हुई. सभी ने एक सहमति से मुझसे कहा कि हम आपको मंदिर समिति का संरक्षक मानने को तैयार हैं.
  • मैंने उनके समक्ष संरक्षक बनने के लिए कुछ शर्त रखी. कहा कि मंदिर समाज का होगा और मंदिर का समाजिक दायित्व होगा. मंदिर की देखभाल अच्छे से करनी होगी. चढ़ावा के लिए बैंक एकाउंट होना चाहिए. समाज के आर्थिक रूप से कमजोर लोगों  के कल्याण के लिए मंदिर फंड का उपयोग होना चाहिए. पटना स्टेशन के निकट के मंदिर की तर्ज पर मंदिर समिति  संचालित हो. वहां की तरह ही मंदिर में आने वाले चढ़ावे के सहयोग से कैंसर हास्पिटल और स्कूल बनाया जाये.
  • विजय खान ने कहा 5 लोग की कमेटी बना दी जाये. सुरेंद्र  शर्मा सहित अन्य दो लोगों का नाम उनकी ओर से प्रस्तावित किया गया. विजय खान से बात हो गयी और सहमति बन गयी. लेकिन दुर्भाग्य की बात है की दूसरे ही दिन उन पर बाहरी दबाव पड़ा.
  • 24 तारीख को मंदिर के दृश्य में क्या हुआ और किसने आकर किस तरह चुनौती देते हुए उकसावे वाली बात कही, यह सब जानते हैं. इन लोगों ने कहा कि महिलाएं आती हैं, लिपट जाती हैं. 4-5 केस में मंत्री बन्ना गुप्ता ने बचाया है. इनके इन बयानों से साफ है कि इन लोगों के आपसी क्या संबंध हैं. पूर्व मुख्यमंत्री, वर्तमान मंत्री एवं प्रशासन का त्रिकोण है. जिसको चाहे फंसा दें और जिसको चाहे बचा लें.
  • बर्मामांइस मंदिर में भी कब्जा किया. 25 लाख रुपये के मंदिर फंड की हेराफेरी की. शहर में और कई जगह ऐसे हैं, जहां इन्होंने कब्जा किया है. हमारे कार्यालय के पड़ोस मे सटे हुए मंदिर जहां स्थानीय निवासी जोगिंदर सिंह जोगी ने निर्माण की पहल की. मंदिर निर्माण के लिए अपने कार्यालय से बिजली-पानी सहित अन्य सुविधाएं दी, लेकिन योजनाबद्ध तरीके से शहर के असामाजिक तत्वों ने मंदिर के आस पास की जमीन पर कब्जा करना चाहा. चौराहे पर रोजाना नये-नये लोगों को बुलाकर भाषण दिलवाया. माहौल बिगाड़ने का भरसक प्रयास किया.
  • हम लोग प्रशासन से बात करेंगे. धारा 144 निरस्त करने की मांग करेंगे. राजस्थान में किशनगढ़ में संगमरमर की मूर्ति के लिए बात हुई है. पंचमुखी हनुमान मंदिर में सारे मंत्र तांत्रिक हैं. पंचमुखी हनुमान मंदिर का विशेष रूप होता है. सार्वजनिक रूप से कोई पूजा करेगा, तो विधि के अनुसार उसका नुकसान हो सकता है.
  • लोकसंकट नामकरण का एक उद्देश्य है कि मंदिर सभी लोगों का  है, न कि व्यक्ति विशेष का. आम जनता के ऊपर कोई संकट आयेगा, तो हनुमान जी दूर करेंगे. मंदिर में हनुमान की वरदान मुद्रा की मूर्ति बैठेगी.
  • कुछ नेताओं ने आकर बयान दिया कि उन्हें मंत्री बन्ना गुप्ता ने केस से मुक्त कराया है. उनकी बात से प्रतीत होता है कि जैसे उनके लिए संकट मोचन हनुमान जी की जगह बन्ना गुप्ता हैं. कांग्रेस जिलाध्यक्ष की नैतिक जिम्मेदारी थी कि उनके साथ बैठक में जो तय हुआ है, उसे लागू करायें.
  • आज के दौर में हिंदुत्व को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है. कांग्रेस नेता सलमान खुर्शीद ने अपनी पुस्तक में हिंदुत्व को बोको हराम और आईएसआई के बराबर बताया. हमें यह समझना होगा की जयश्री राम, जय बजरंगबली के नारे का दुरुपयोग न हो. सच्चा हिंदुत्व, शास्त्रीय हिंदू, जैन,सिख सभी को लेकर चलता है. यहां जो मंदिर बनायेंगे, वह समाजिक होगा.
  • हम लोगों की मंशा शांत है. साकची बाजार की गरिमा को बनाये रखना है.समाजिक सरोकार रहना चाहिए. भरोसा रहना चाहिए. भगवान अपने भीतर है, पहले अपने ऊपर विश्वास रखें.
  • मंदिर समिति निर्माण के लिए रोज नया नाम लाया जा रहा है. इसमें कल भी एक व्यक्ति जुड़ गये हैं. ये लोग एक मनोवैज्ञानिक दबाव बनाना चाहते हैं. बाजार के लोग आगे रहें.  हम उनके समर्थन में हैं. हम यह चाहते हैं कि मंदिर आध्यात्मिक स्थल बने. सभी श्रेष्ठ विचारों से पूजा-अर्चना करें. रास्ते में कई कठिनाइयां आयेंगी .
  • हमारा भरोसा जमशेदपुर की जनता के ऊपर है. चुनाव जमशेदपुर की जनता ने जिताया है और मंदिर का फैसला भी जमशेदपुर की जनता ही करेगी. जनता सही फैसला करेगी. साकची के लोगों की सार्वजनिक सभा बुलाकर अपने निर्णय से संतुष्ट करा लेंगे.
MDLM

बैठक की अध्यक्षता श्रीश्री लोकसंकट मंदिर के अध्यक्ष जोगिंदर सिंह जोगी संचालन भाजमो के जिला अध्यक्ष सुबोध श्रीवास्तव ने किया. श्रीवास्तव ने कहा कि मंदिर की जमीन पर  भू माफिया की नजर है. जमीन हथियाना ही इनका एकमात्र मकसद है. जबसे मंदिर निर्माण कार्य प्रारंभ हुआ है ये लोग बाजार में लोगों से ईंट, बालू के नाम पर अवैध वसूली में लगे हैं. एक माह से अधिक समय से  मंदिर के समक्ष बाजार के बीच चौराहे पर अवैध जमावड़ा लगाकर क्षेत्र का माहौल बिगाड़ने की साजिश रच रहे हैं.  बैठक में मुख्य रूप से मंदिर समिति के राजू मारवाह, भाजमो केंद्रीय महासचिव संजीव आचार्या, भाजमो पूर्वी विधानसभा संयोजक अजय सिन्हा, महामंत्री कुलविंदर सिंह पन्नु, उपाध्यक्ष वंदना नामता, मंत्री राजेश कुमार झा, विकास गुप्ता, कोषाध्यक्ष धर्मेंद्र प्रसाद, विधायक प्रतिनिधि (व्यवसायि मामलों) आकाश शाह, युवा मोर्चा अध्यक्ष अमित शर्मा, अनुसूचित जनजाति  मोर्चा के अध्यक्ष प्रकाश कोया, विद्युत प्रतिनिधि विजय राव, जनसुविधा प्रतिनिधि हरेराम सिंह, जनकल्याण प्रतिनिधि मिष्टु सोना, उद्योग प्रतिनिधि इंद्रजीत सिंह, आइटी कोषांग प्रतिनिधि विकास सिंह, पेयजल सहप्रभारी शंकर कर्मकार, उलीडीह मंडल अध्यक्ष प्रवीण सिंह, मानगो मंडल अध्यक्ष कन्हैया ओझा, साकची पश्चिम अध्यक्ष राघवेंद्र प्रताप सिंह, बारीडीह मंडल अध्यक्ष विजय नारायण सिंह, बरमामाईंस मंडल अध्यक्ष नागेंद्र सिंह, गोलमुरी मंडल अध्यक्ष कैलाश झा, टेलको मंडल अध्यक्ष महेश तिवारी, लक्षमीनगर मंडल अध्यक्ष  बिनोद राय, सीतारामडेरा मंडल अध्यक्ष बिनोद यादव, साकची मंडल महामंत्री अमन सिंह, कदमा मंडल अध्यक्ष तिलेश्वर प्रजापति, पुतुल सिंह, काकोली मुखर्जी, किरण सिंह, शक्ति सिंह, अमरेश कुमार, दुर्गा राव, शंभु पांडेय, असीम पाठक, विकास कामंत, किशोर सिंह, चंदन सिंह, दीपक कुमार, मुकेश कुमार, मिठ्ठू सरकार, मनिष कुमार, गौतम धर, राजेश कुमार, संतोष रजक, मनजोत सिंह, मार्टिन लैजर्स, सौरभ सिंह, अवधेश कुमार, श्याम महानंद, सुमित शर्मा, अभिजित सेनापति, उत्तम कुमार, दीलीप नायक, त्रिलोचन सिंह, हितेश कुमार, इंदु शेखर सिंह, अर्जुन शर्मा, विनोद कुमार, शिव कुमार, राकेश कुमार सहीत अन्य उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें –पत्नी ने सुबह जल्दी खाना नहीं बनाया तो गोली से उड़ाया, फिर तमंचा लेकर पहुंचा थाना

Related Articles

Back to top button