JharkhandRanchi

महाधिवक्ता अजित कुमार पर मुकदमा करेंगे सरयू राय, मिलेंगे सुब्रह्मण्यम स्वामी से

Ranchi: पूर्व मंत्री सरयू राय और महाधिवक्ता अजित कुमार के बीच का विवाद अब और बड़ी शक्ल लेने जा रहा है. इन दोनों के बीच का विवाद जगजाहिर है. सरयू राय ने 20 घंटे पहले ट्विट कर इस बात की जानकारी दी है. उन्होंने कहा है कि “झारखंड के महाधिवक्ता के विरूद्ध मुकदमा करने के लिए डॉ सुब्रमण्यम स्वामी एवं दिल्ली के कतिपय अन्य वरीय अधिवक्ताओं से कल (मंगलवार) मिलना तय हुआ है.

Catalyst IAS
ram janam hospital

भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों में महाधिवक्ता की शह पर झारखंड बार काउंसिल ने मेरे विरूद्ध पारित निन्दा प्रस्ताव पर अब क़ानूनी लड़ाई निश्चित है.” सरयू राय के इस बयान के बाद चर्चा का बाजार गर्म है. सरयू राय 2019 के विधानसभा चुनाव में जिस तरह से उभर कर सामने आए हैं. उससे उनसे जुड़ी हर बात को राजनीतिक गलियारों में गंभीरता से लिया जाने लगा है.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

इसे भी पढ़ें – DoubleEngine की सरकार का कमाल! 52 लाख में बनी, 32 लाख सालाना मेंटेनेंस वाली CMO की साइट 20 दिनों से बंद

क्या है सरयू और महाधिवक्ता के बीच का विवाद

23 नवंबर को बार काउंसिल की एक बैठक हुई. बैठक में बतौर बार काउंसिल के अध्यक्ष होने के नाते एक बयान को लेकर महाधिवक्ता अजित कुमार ने सरयू राय के खिलाफ निंदा प्रस्ताव पारित किया. जिसके बाद से सरयू राय लगातार इस बात का विरोध कर रहे हैं.

उन्होंने इसकी शिकायत तत्कालीन मुख्यमंत्री रघुवर दास से भी की थी. साथ ही बार काउंसिल को भी चिट्ठी लिखी थी. सरयू राय ने कैबिनेट की बैठक में इस बात को उठाया था. लेकिन सरकार की तरफ से किसी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की गयी थी. जिसके बाद सरयू राय ने बार काउंसिल को चिट्ठी लिखकर निंदा प्रस्ताव के पारित होने पर ऐतराज जताया.

इसे भी पढ़ें – अर्थव्यवस्था को भंवर से निकालने के लिए आरबीआइ से मदद लेगा केंद्र!

सरयू राय का बार काउंसिल से चंद सवाल

उन्होंने अपने पत्र में लिखा है कि बार काउंसिल के अध्यक्ष ने महाधिवक्ता के कंडक्ट को लेकर बैठक कैसे आहूत की, जिसमें दोनों व्यक्ति एक ही थे. उन्होंने अपने दूसरे सवाल में कहा है कि क्या बैठक में मौजूद सदस्यों के सामने बैठक से संबंधित दस्तावेज प्रस्तुत किये गये थे. सिर्फ महाधिवक्ता द्वारा कही गयी बातों को ही जारी किया गया था.

मैं यह कहना चाहता हूं कि महाधिवक्ता की ओर से एकतरफा बातें बैठक में रखी गयीं. मैं कहना चाहता हूं कि 23 नवंबर की बैठक में महाधिवक्ता की ओर से रखी गयी बातों पर काउंसिल के सदस्यों द्वारा सहमति दी गयी. ऐसे संवैधानिक और प्रशासनिक तंत्र में कई बार न्यायिक हितों का टकराव होता है.

मैं एक कैबिनेट स्तर का मंत्री हूं. मुझे लगता है कि मुख्य कानूनी सलाहकार की भूमिका में महाधिवक्ता ने कोई काम नहीं किया है. इससे झारखंड सरकार और यहां के नागरिकों को काफी नुकसान हो रहा है.

इसे भी पढ़ें – #NewsWing पड़तालः रघुवर सरकार ने मोमेंटम झारखंड को लेकर झूठ बोला, विधानसभा में दी गलत जानकारी

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button