JharkhandLead NewsRanchi

जेटेट से मैथिली, अंगिका, भोजपुरी को बाहर करने पर सरयू राय का विरोध

Ranchi : जेटेट से कई ऐसी भाषाओं को बाहर कर दिया गया है जिसे बोलने, लिखने पढ़ने वालों की बड़ी तादाद राज्य में है. राजधानी रांची सहित राज्य के विभिन्न हिस्सों में ऐसे लोग अरसे से निवास करते आ रहे हैं. ऐसे में जेटेट में मैथिली, अंगिका, भोजपुरी, मगही को बाहर किये जाने से नाराजगी देखी जा रही है. इनमें विधायक सरयू राय भी शामिल हैं. सोशल मीडिया पर भी उन्होंने इस मसले पर अपनी बात रखी है. सरकार के इस फैसले को वे कानूनी रूप से भी सही नहीं मान रहे.

इसे भी पढ़ें : डॉक्टर से लेकर नर्स व स्टाफ को प्रोफेशनल बनाएगा रिम्स, मरीजों को बेहतर ट्रीटमेंट फैसिलिटी मिलेगी

विधि विभाग सरकार को दे वाजिब सलाह

सरयू राय के मुताबिक मैथिली, अंगिका, भोजपुरी जैसी भाषाएं झारखंड के बड़े क्षेत्र के निवासियों का मातृभाषा है. ऐसे में जेटेट से इन भाषाओं को बाहर रखना वैध नहीं है. विधि विभाग इस संबंध में सराकर के शिक्षा विभाग को सही परामर्श दे. इससे बड़े भू-भाग में रहने वाले लोगों और उनकी भाषाओं के साथ अन्याय नहीं होगा. साथ ही अनावश्यक मुकदमेबाजी से भी बचा जा सकेगा.

नागरिकों के बीच भेदभाव पर लगे रोक

राज्य में नियोजन में राज्य के बाहर के स्कूलों से पढ़ाई करने के बारे में अनुसूचित और गैर अनुसूचित वर्गों में भेद करने का झारखंड सरकार का निर्णय भी कानूनी तौर पर वैध नहीं. कानून की कसौटी पर यह खरा नहीं उतरेगा. संविधान भी ऐसे मामलों में नागरिकों के बीच भेदभाव वर्जित करता है. ऐसे फैसलों से कोर्ट कचहरी मुकदमेबाजी को प्रश्रय मिलता है. इस पर रोक लगाने को गंभीरता से विचार किया जाना चाहिये.

इसे भी पढ़ें : स्वच्छता सर्वेक्षण में झारखंड देश भर में अव्वल फिर भी 23 जिलों में सिर पर ढोया जा रहा मैला

Related Articles

Back to top button