West Bengal

#SaradhaChitFundScam : गिरफ्तारी से बचने के लिए राजीव कुमार हाई कोर्ट की शरण लेंगे

Kolkata : हजारों करोड़ रुपये के सारदा चिटफंड घोटाला मामले में साक्ष्यों को मिटाने के आरोपी कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव कुमार गिरफ्तारी से बचने के लिए लगातार जद्दोजहद कर रहे हैं. खबर है कि राजीव कुमार विशेष अदालत, बारासात जिला सत्र अदालत व अलीपुर जिला सत्र अदालत से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद हाई कोर्ट जाने की तैयारी कर रहे हैं. उनके करीबी सूत्रों ने बताया कि जल्द ही कोर्ट में उनकी अग्रिम जमानत याचिका लगाई जायेगी.

इसे भी पढ़ें – #AlQaeda का गढ़ तो नहीं बन रहा जमशेदपुर! अबतक गिरफ्तार हुए 12 संदिग्ध आतंकियों के जुड़ चुके हैं तार

हाई कोर्ट ने ही उनकी गिरफ्तारी पर लगी रोक हटायी थी

एफआईआर व चार्जशीट में नाम नहीं होने के बावजूद उन्हें गिरफ्तार करने की सीबीआई की मंशा को लेकर याचिका दायर की जायेगी. हालांकि पिछले सप्ताह हाई कोर्ट ने ही उनकी गिरफ्तारी पर लगी रोक हटायी थी. हाई कोर्ट ने सीबीआई को छूट दी थी कि राजीव कुमार को गवाह या आरोपी के तौर पर नोटिस भेज सकते हैं. अब उसी कोर्ट में राजीव कुमार के दोबारा पहुंचने की योजना को लेकर जानकारों का मानना है कि इससे सीबीआई एक बार मुश्किल में पड़ सकती है.

इसे भी पढ़ें – #MultiPurposeIDCard: आधार, DL, वोटर ID सब के लिए एक ही कार्ड- अमित शाह ने दिया प्रस्ताव

11 दिनों से राजीव कुमार लापता हैं

जान लें कि पिछले 11 दिनों से कोलकाता पुलिस के पूर्व आयुक्त राजीव लापता हैं. उनकी जमानत के लिए लगातार याचिकाएं विभिन्न कोर्ट में लगाई जा रही हैं. अभी दो दिन पहले ही उनकी अग्रिम जमानत याचिका खारिज करते हुए अलीपुर कोर्ट ने स्पष्ट किया था कि सीबीआई चाहे तो राजीव को गिरफ्तार कर सकती है.

इसके लिए किसी कोर्ट ऑर्डर की जरूरत नहीं होगी. अब इसके खिलाफ राजीव ने हाईकोर्ट जाने की तैयारी कर ली है. जान लें कि करीब 4000 करोड़ रुपये के सारदा पोंजी घोटाला मामले में संलिप्तों को बचाने के लिए साक्ष्यों को मिटाने का आरोप राजीव कुमार पर है. उन्हें गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई लगातार छापेमारी कर रही है.

इसे भी पढ़ें – #CoalIndia: कोल इंडिया में पीआरपी पर हुआ फैसला, ईसीएल के करीब दो हजार अधिकारी होंगे लाभान्वित

Related Articles

Back to top button