न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सारदा चिट फंड घोटाला : कुमार और घोष को आमने-सामने बैठाकर सीबीआई ने घंटों पूछताछ की

कुमार से दूसरे दिन रविवार को सुबह साढ़े 10 बजे सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार पूछताछ शुरू हुई जो देर शाम तक चली.  सोमवार को भी इन दोनों से पूछताछ की जायेगी.

36

Shillong : कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार और तृणमूल कांग्रेस के पूर्व सांसद कुणाल घोष से सीबीआई ने सारदा चिट फंड और रोज़ वैली घोटालों के संबंध में यहां अपने कार्यालय में आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की. अधिकारियों ने यह जानकारी दी. बताया गया कि कुमार से दूसरे दिन रविवार को सुबह साढ़े 10 बजे सुप्रीम कोर्ट के निर्देश के अनुसार पूछताछ शुरू हुई जो देर शाम तक चली.  सोमवार को भी इन दोनों से पूछताछ की जायेगी. बता दें कि सीबीआई की दो सदस्यीय टीम दोपहर में यहां पहुंची. टीम में सारदा और रोज वैली घोटालों के जांच अधिकारी शामिल थे. अधिकारियों ने जानकारी दी कि कुमार और घोष से शुरुआत में सीबीआई की 10 सदस्यीय टीम ने पूछताछ की थी.  इस क्रम में सीबीआई के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमारसे मामले में महत्त्वपूर्ण साक्ष्यों से छेड़छाड़ में उनकी कथित भूमिका को लेकर शनिवार को लगभग नौ घंटे तक पूछताछ की थी.

राजीव कुमार ही वह अधिकारी थे, जिऩ्होंने पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी की तरफ से सारदा घोटाले की जांच के लिए गठित विशेष जांच दल (एसआईटी) का नेतृत्व किया था. लेकिन बाद में सुप्रीम कोर्ट ने मामले की जांच सीबीआई को सौंप दी.  अधिकारियों के अनुसार सीबीआई ने पूछताछ की वीडियोग्राफी से संबंधित कुमार की मांग नहीं मानी है.

मां सरस्वती का आशीर्वाद लेकर सीबीआई कार्यालय पहुंचे कुणाल घोष

Related Posts

कश्मीर में अपना चॉपर MI-17V5 मार गिराने वाले  वायुसेना  के पांच अधिकारी दोषी करार

ये अधिकारी 27 फरवरी को श्रीनगर में अपने ही हेलिकॉप्टर पर फायरिंग करने के मामले में दोषी माने गये हैं

SMILE

अधिकारियों ने बताया कि ऐसा हिरासत में लेकर पूछताछ के दौरान किया जाता है. हालांकि कुमार के वकीलों के अनुसार पुलिस आयुक्त के अनुरोध पर सीबीआई पूछताछ की वीडियोग्राफी कर रही है. बताया गया कि पूर्व सांसद कुणाल घोष यहां सुबह 10 बजे के बाद पहुंचे. उन्होंने पास ही के पंडाल में मां सरस्वती का आशीर्वाद लिया और फिर ओकलैंड स्थित सीबीआई के कार्यालय आये. जांच से अवगत एक अधिकारी ने गोपनीयता की शर्त पर बताया कि शुरुआत में दोनों से अलग-अलग पूछताछ की गयी और दोपहर बाद दोनों को आमने-सामने बिठाया गया.  बता दें कि टीएमसी के पूर्व सांसद को सारदा पोंजी घोटाले में 2013 में गिरफ्तार किया गया था और 2016 से वह जमानत पर बाहर हैं.  पूर्व में घोष ने भाजपा नेता मुकुल रॉय और 12 अन्य को सारदा चिटफंड घोटाले में संलिप्त बताया था.

 इसे भी पढ़ें : पश्चिम बंगाल :  2019 का रण जीतने कांग्रेस और लेफ्ट पार्टियों के बीच पक रही है खिचड़ी!  

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: