न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संतोष जैन की इलिका इस्टेट्स बना रहा नामकुम में अपार्टमेंट, 2015 से ही नक्शा पर चल रहा विवाद

तत्कालीन आरआरडीए उपाध्यक्ष अरविंद कुमार ने दिया था  जांच का आदेशनहीं हुई कार्रवाई

104

Ranchi : इलिका इस्टेट्स प्राइवेट लिमिटेड की तरफ से राजधानी के नामकुम में आलीशान अपार्टमेंट बनाया जा रहा है. संतोष जैन की कंपनी की तरफ से डेवलप की जा रही कालोनी की 2015 में उच्च स्तरीय कमेटी ने जांच भी की थी. आरआरडीए के तत्कालीन उपाध्यक्ष अरविंद कुमार की तरफ से करायी गयी थी. श्री कुमार ने बताया कि उनके कहने पर ही जांच करायी गयी थी. अब वे आरआरडीए में नहीं हैं. इसलिए वस्तुस्थिति की जानकारी नहीं दे सकते. उन्होंने कहा कि इलिका इस्टेट्स की तरफ से आरा गेट के पास तीन सौ से अधिक अपार्टमेंट का निर्माण कराया जा रहा है. यह क्षेत्र आरआरडीए के दायरे में आता है. इसलिए नक्शा आरआरडीए से ही पास कराया गया था.

सात एकड़ जमीन में बन रहे अपार्टमेंट में पायी गयी थी गड़बड़ी

इलिका इस्टेट्स की तरफ से नामकुम, आरा गेट के पास सात एकड़ जमीन में बन रहे अपार्टमेंट का नक्शा गलत तरीके से पास करने का आरोप लगा था. 2015 में आरआरडीए के तत्कालीन मुख्य अभियंता और सदर अनुमंडल अधिकारी चंदन कुमार ने शिकायत पर जांच की थी. जानकारी के अनुसार जांच रिपोर्ट पर कार्रवाई ही नहीं की गयी. आरआरडीए में फिलहाल परमा सिंह अध्यक्ष हैं. जांच के क्रम में पता चला कि जिस जगह पर अपार्टमेंट बनाया जा रहा था. उसे खाली जगह दिखा दिया गया. पहले इलिका इस्टेट्स इसे डेवलप कर रही थी. जांच के बाद कंपनी का नाम ही बदल दिया गया.

 27.5 लाख में टू और थ्री बीएचके फ्लैट देने का किया गया है दावा

इलिका इस्टेट्स की तरफ से नामकुम में 27.5 लाख की लागत से टू और थ्री बीएचके फ्लैट देने का लुभावना वायदा किया जा रहा है. इसमें यह भी कहा गया है कि यहां पर फ्लैट खरीदनेवालों को ओपेन स्पेस के अलावा सभी अत्याधुनिक सुविधाएं दी जायेंगी. निर्माण परिसर के अंदर जिम, बैंक्वेट हॉल, 30 प्रतिशत ग्राउंड कवरेज, लैंड स्केप, चिल्ड्रेन प्ले स्पेस और अन्य सुविधाएं देने की बातें कही गयी हैं.

silk_park

जीइएल चर्च कांपलेक्स में है इलिका इस्टेट्स का दफ्तर 

इलिका इस्टेट्स का दफ्तर गुगल मैप में जीइएल चर्च कांपलेक्स परिसर में दिखलाता है. यहां पर संतोष जैन की फर्म बिग शॉप है. गुगल मैप में इसी नक्शे को आम लोगों के लिए कांटैक्ट मैप में दिखलाया जाता है.

इसे भी पढ़ें – विवादों से घिरे पाकुड़ डीसी दिलीप झा का हुआ तबादला, जेसीईसीई के बने एग्जाम कंट्रोलर

इसे भी पढ़ें – धनबाद : बिजली का 44 करोड़ बकाया रखनेवाले ‘लापता’

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: