न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

स्वच्छता कोई राजनीतिक कार्यक्रम नहीं, बल्कि एक जन आंदोलन है – वेंकैया नायडू

16 से बढ़कर 90 प्रतिशत तक पहुंचा शौचालय

118

Ranchi :  झारखंड आकर लगा की प्रधानमंत्री का सपना साकार हो रहा है. वर्ष 2014 में स्वच्छता को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जो सपना देखा था, उस झारखंड सरकार ने बखूबी अंजाम तक पहुंचाया है. 2014 में जहां मात्र 16 प्रतिशत शौचालय थे. वहीं अब यह बढ़कर 90 प्रतिशत से भी ज्यादा हो गया है, यह बड़े ही हर्ष का विषय है. ये बातें भारत के उपराष्ट्रपति एम. वेंकैया

नायडू ने रांची के एक कार्यक्रम में कहीं. श्री नायडू गुरुवार को नामकुम स्थित भुसुर फुटबॉल मैदान में आयोजित कार्यक्रम जनसंवाद सह जागरुकता कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को संबोधित कर रहे थे. श्री नायडू ने कहा कि स्वच्छता अभियान कोई राजनैतिक या सरकारी कार्यक्रम नहीं है, बल्कि यह एक जनआंदोलन है. यह सभी लोगों के सहयोग से ही संभव होगा. रांची के विषय में उन्होंने कहा कि यह बहुत ही खुबसूरत शहर है और यहां के लोग भी बहुत खुबसूरत हैं.

इसे भी पढ़ें – कास्टिज्म की बात करने पर फंसे पलामू SP, गृह विभाग ने किया शोकॉज, मांगा स्पष्टीकरण

राज्य सरकार की उपलब्धि, 14 करोड़ शौचालय का कराया गया निर्माण

उपराष्ट्रपति ने कहा कि राज्य सरकार की तारीफ करते हुए कहा कि यह  उपलब्धि की ही बात है की झारखंड में 90 प्रतिशत से भी ज्यादा शौचालय का निर्माण हो चुका है और दो अक्तूबर तक झारखंड को ओडीएफ घोषित करने का संकल्प लिया गया है. श्री नायडू ने कहा कि राज्य सरकार के अनुसार राज्य में 14 करोड़ शौचालय का निर्माण कराया गया है. जो सरकार की उपलब्धि है. आगामी दो अक्तूबर को महात्मा गांधी के 150वीं जयंती के अवसर पर स्वच्छता ही सेवा कार्यकम का आयोजन किया जायेगा. इस जनआंदोलन में हर वर्ग और आयु के लोग बढ़-चढ कर हिस्सा लें.  उपराष्ट्रपति ने सभी लोगों से तन, मन और धन से इस आंदोलन में शामिल होने का आह्वान किया. साथ ही कहा कि यह कोई सरकारी कार्यक्रम नहीं है, बल्कि एक जनआंदोलन है.

इसे भी पढ़ें – राजधानी में 8 महीनों में दुष्कर्म की 130 घटनाएं, पुलिस का ध्यान सिर्फ हेलमेट चेकिंग पर !

राज्य में चल रही है पांच हजार करोड़ की योजना : सीएम

राज्य के मुखिया रघुवर दास ने कहा कि राज्य को स्वच्छ बनाने के लिए कई योजनायें चल रही हैं. राज्यभर में कुल पांच हजार करोड़ रुपए की लागत से कार्य हो रहा है. शौचालय, स्कूल सभी स्थानों पर पानी पहुंचे , इसी  लक्ष्य के साथ सरकार काम कर रही है. राज्य में अबतक 96 प्रतिशत शौचालय का निर्माण किया जा चुका है. इसमें सबसे बड़ी भागीदारी महिलाओं की रही है. साथ ही कहा कि बगैर महिलाओं के सहयोग से इस अभियान को पूरा कर पाना मुश्किल था. सीएम ने सभी जल सहियाओं की पहचान के लिए साड़ी देने की घोषणा की.

कार्यक्रम में राज्यपाल द्रोपदी मुर्मू, सांसद रामटहल चौधरी, विधायक रामकुमार पाहन, गंगोत्री कुजूर व अन्य आला आधिकारी मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें – सुधीर त्रिपाठी को मिलेगा एक्सटेंशन या डीके तिवारी होंगे नए CS, फैसला कल !

ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना का शुभारंभ

इस मौके पर राज्य का पहले स्वजल कार्यक्रम के अंतर्गत ग्रामीण पाइप जलापूर्ति योजना का भी शुभारंभ किया गया. इस योजना के तहत नामकुम के चांद गांव में आधारशिला रखी गई. उपराष्ट्रपति ने ऑनलाइन इस योजना का शिलान्यास किया. रानी मिस्त्री व सहियाओं को किया गया सम्मानित बेहतर कार्य करने वाली रानी मिस्त्री और सहियाओं को उपराष्ट्रपति के हाथों सम्मानित किया गया. उपराष्ट्रपति ने स्वंय सहियाओं के पास जाकर उनसे योजना की जानकारी ली. इस मौके पर रानी मिस्त्री सीता कश्यप, फूलमनी देवी, किरण देवी एवं मुखिया पिंकी कुमारी, एसएचजी की अध्यक्ष लता देवी, मुखिया सुभद्रा विश्वास, जलसहिया विमला प्रसाद को सम्मानित किया गया.

इसे भी पढ़ें – 85 गांवों के 3,786 घरों में 60 दिनों में कैसे पहुंचेगी बिजली

क्या कहती हैं रानी मिस्त्री

रानी मिस्त्री लता देवी ने बताया कि मिस्त्री बनने के बाद उन्होंने 200 शौचालय का निर्माण कर दिया. लेकिन अबतक कोई राशि नहीं दी गई है. जल्द ही भुगतान किया जाने की बात कही गई है. जबकि रानी मिस्त्री किरण देवी ने बताया कि खुद से 46 शौचालय का निर्माण किये हैं और इसे लेकर ग्रामीणों को जागरुक भी कर रहे हैं. साथ ही कहा कि मिस्त्री बनने के बाद आर्थिक स्थिति में काफी बदलाव है. वहीं मुखिया पिंकी कुमारी ने कहा कि अपने क्षेत्र में 675 शौचालय का निर्माण कराया. साथ ही महिलाओं को इसपर जागरूक भी कर रही हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Comments are closed.

%d bloggers like this: