Dhanbad

समीर मंडल हत्याकांडः दो अलग-अलग पिस्टल से जमीन कारोबारी को मारी गयी सात गोली

Dhanbad: जिले के सरायढेला थाना क्षेत्र में जमीन कारोबारी समीर मंडल की हत्या में दो अलग-अलग पिस्टलों का प्रयोग किया गया था. उसे महज छह इंच की दूरी से सात गोलियां मारी गई थी. यह खुलासा पोस्टमार्टम के दौरान डॉक्टरों ने किया है.

गौरतलब है कि गत मंगलवार कार्मिक नगर स्थित वीर कुंवर सिंह कॉलोनी में रहनेवाले समीर की गोली मारकर हत्या की गयी थी. उसके सिर और कान के पास एक गोली लगी.

इसे भी पढ़ेंःऔरंगाबाद में माओवादियों और सुरक्षाबलों के बीच मुठभेड़, चार माओवादियों के मारे जाने की खबर

advt

मारी गयी थी सात गोलियां

कान के पास मारी गई गोली भी सिर की ओर चली गई थी. इस कारण पोस्टमार्टम के दौरान सिर के अंदर दो गोली फंसी मिली.
वहीं दाहिनी टुड्डी के पास दो गोली लगकर फंस गयी थी.

बायीं बांह में भी एक गोली लगी थी. यह गोली बांह को चीरते हुए सीने में जा धंसी थी. दाहिने कंधे से तीन गोली निकाली गयी. अत्याधिक खून बहने और अंदरुणी अंगों को नुकसान पहुंचने के कारण तत्काल समीर की जान चली गयी थी.

पोस्टमार्टम रिपोर्ट से साफ हो गया है कि हत्यारों की मंशा किसी भी शर्त पर समीर की हत्या करने की थी. यह भी साफ हो गया है दो शूटरों ने समीर पर गोली दागी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह भी बताया गया कि समीर के शरीर से निकाली गयी सात गोलियों में दो अलग-अलग पिस्टल से चली थी.

जांच के लिए एसआइटी गठित

जमीन कारोबारी समीर मंडल हत्याकांड की जांच के लिए एसएसपी किशोर कौशल के निर्देश पर एसआइटी का गठन कर दिया गया है. टीम का नेतृत्व ग्रामीण एसपी अमन कुमार कर रहे हैं.

adv

छह सदस्यीय टीम में डीएसपी लॉ एंड ऑर्डर मुकेश कुमार, डीएसपी सीसीआर जगदीश प्रसाद, धनबाद थाना प्रभारी नवीन कुमार राय, साइबर थाना प्रभारी निरंजन तिवारी, सरायढेला थाना प्रभारी कन्हाई राम व तकनीकी सेल के अधिकारी शामिल हैं.

एसआइटी ने सरायढेला थाना में हिरासत में लिए गए लोगों से अलग-अलग पूछताछ की है. पूछताछ में पुलिस ने मृतक से उनके संबंधों और कारोबार के बारे में गहन पड़ताल की.

सूत्र बताते हैं कि दो लोगों पर पुलिस को शक है. पुलिस उनके कॉल डिटेल रिकॉर्ड (सीडीआर) खंगाल रही है. पुलिस ने समीर का मोबाइल फोन जब्त किया है. सीडीआर से पुलिस संदिग्ध नंबरों की पहचान कर रही है.

इसे भी पढ़ेंःJBVNL में हुए 15 करोड़ के TDS घोटालेबाज को बचाने में फंसे डिप्टी एकाउंटेंट जनरल

समीर के पार्टनर के साथ संदेहास्पद लोगों के मोबाइल की सीडीआर भी खंगाली जा रही है. पुलिस की जांच जमीन विवाद में की गयी हत्या के पहलू से ही आगे बढ़ रही है.

खबर है कि गोविंदपुर की एक जमीन को लेकर डेढ़ माह पहले पाथरडीह निवासी संजय से विवाद हुआ था. वीर कुंवर सिंह कॉलोनी की जमीन को लेकर भी कुछ विवाद सामने आया है.

उल्लेखनीय है कि हत्या के बाद मंगलवार की देर रात काशीटांड़ गांव के पूर्व मुखिया खेमनारायण सिंह, हाउसिंग कॉलोनी निवासी संजय जायसवाल, बरटांड़ निवासी विकास कुमार सिंह, झरिया निवासी व विश्व हिंदू परिषद के जिला उपाध्यक्ष पंकज प्रसून तिवारी, मुकेश कुमार व विकास कुमार को पुलिस ने हिरासत में लिया है.

इसे भी पढ़ेंःबकरी बाजार का कैसे हो इस्तेमाल, इसपर राज्यसभा सांसद, नगर विकास मंत्री और डिप्टी मेयर का अलग-अलग राग

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button