JamshedpurJharkhand

देशभक्ति की अलख जगाने में नमन कर रहा ऐतिहासिक कार्य, शहीदों के स्मृति स्थल निर्माण को नमन को दूंगा जमीन : आरसी

राष्ट्रप्रेम की भावना ह्रदय में रखना व राष्ट्रहित में योगदान देना हर भारतीय का कर्तव्य : काले

Jamshedpur : शहर की सामाजिक संस्था नमन की ओर से शनिवार को महान क्रांतिकारी बलिदानी शहीद बैकुंठ शुक्ला को उनकी पुण्यतिथि पर नमन करते हुये श्रद्धा सुमन अर्पित की गई. इस मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित शिक्षाविद हरिवल्लभ सिंह आरसी ने श्रद्धा सुमन अर्पित किया. इस अवसर पर वरिष्ठ पत्रकार बृजभूषण सिंह, राघवेंद्र शर्मा, विपिन झा, केशव तिवारी, महेंद्र सिंह, आशीष पांडेय, मनोज कावांटिया, संतलाल पाठक, सुखविंदर सिंह निक्कु, जसवंत सिंह भौमा, लता सिन्हा, अंकिता सिन्हा, ममता पुष्टि, डी. मणि, लखी कौर, नमिता उपाध्याय, कमलजीत कौर, मिनी सिंह, पुतूल सिंह, हरप्रीत कौर, वंदना नामता, श्रेया सिंह सहित सैकड़ों की संख्या में युवा उपस्थिति थे.

शहीदों की कुर्बानी के चलते हम आजाद भारत में सांस ले रहेंः आरसी

हरिवल्लभ सिंह आरसी ने कहा कि देश को स्वतंत्र कराने में लाखों वीरो ने अपना सर्वस्व अर्पित कर दिया था. उनकी कुर्बानी का परिणाम है कि हम आज आजाद भारत में सांस ले पा रहें हैं, उन्होंने आजादी की जो सौगात हमें सौंपी उसे सहेज कर रखना हम सभी की जिम्मेवारी है. उनके सपनों का जो भारत था, उसी भारत का निर्माण हो. यह सबका सपना होना चाहिए. साथ ही आरसी ने नमन संस्था की भूरि भूरि प्रशंसा करते हुए कहा कि यह संस्था लोगों में शहीदों के प्रति जागरण और देशप्रेम का जो जज्बा जगा रही है. इसके लिए संस्था के सभी सदस्यों का और विशेष कर संस्थापक अमरप्रीत सिंह काले का हम सभी लौहनगरीवासी आभार व्यक्त करते हैं. उन्होंने संस्था के कार्यों पर गर्व जताया. साथ ही देश के लिए शहीद हुए बलिदानियों के लिए जमीन देने की घोषणा की और नमन संस्था से अनुरोध किया कि उस जमीन पर स्मृति स्थल का निर्माण करे.

शहीद को नमन करते अपने अंदर अद्भुत उर्जा का अनुभवः काले

नमन के संस्थापक अमरप्रीत सिंह काले ने कहा कि आज जब हम देश के लिए अपना सर्वस्व कुर्बान करने वाले शहीदों को नमन करते है, तो हम अपने अंदर एक अद्भुत ऊर्जा एवं शक्ति का अनुभव करते हैं. श्री काले ने युवाओं से आह्वान किया कि वे अपने अंदर की ताकत एवं स्वाभिमान को पहचानने की कोशिश करें. राष्ट्रहित की भावना ह्रदय में रख राष्ट्रहित के विकास के लिये प्रयासरत रहना हर भारतीय का परम कर्तव्य है.

बैकुंठ शुक्ला जैसे हजारों शहीदों की कुर्बानी गुमनाम रह गईः बृजभूषण

संस्था के संरक्षक बृजभूषण सिंह ने अपनी श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि बैकुंठ शुक्ला का भारत के स्वतंत्रता संग्राम में महत्पूर्ण योगदान रहा है, लेकिन इनकी और इनके जैसे हजारों शहीदों की कुर्बानी गुमनाम रह गई या कहीं दबी रह गई, जरूरत है सभी शहीदों की शहादत और उनके विचारों और जीवन की जानने की है और उन्हें सम्मान देने की. इस दिशा में नमन अपना कार्य निरंतरता के साथ कर रहा है. इस मौके उपस्थित सभी प्रबुद्धजनों ने देश की आजादी में बैकुंठ शुक्ला के योगदान को नमन करते हुए उन्हें अपनी श्रद्धांजलि अर्पित की भुलाया नहीं जा सकता.

ये थे उपस्थित

कार्यक्रम में संस्था के अमरेंद्र कुमार, नारायण चंद्र महतो, जीवन सिंहदेव, दीपक सिंह, पिंटू साव, कंचन बाग, संतोष यादव, सुबोध मोहंती, रविंद्र गिल, अनिल शर्मा, कैलाश झा, ललन पांडेय, अभिषेक दूबे, मुक्तेश्वर प्रसाद, प्रीतीश शुक्ला, संदीप महतो, विकास गुप्ता, मनोरंजन पुष्टि, एम. प्रशांत, जय मुखी मनीष दास, रवि रंजन सिंह, सौरभ चटर्जी, राजीव कुमार आदि उपस्थित थे.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur : बिष्टुपुर में महिला का मोबाइल छीनकर भाग रहे बदमाश को लोगों ने दौड़ाकर पकड़ा, एक फरार- VIDEO

Advt

Related Articles

Back to top button