न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

फरवरी से रुका है पारा शिक्षकों का मानदेय, मुख्यमंत्री से मिले हो गया एक माह, अब तक नहीं हुआ भुगतान

राज्य में कुल 67,000 पारा शिक्षक हैं, जल्द भुगतान नहीं होने पर आंदोलन कर सकते हैं

373

Ranchi: पारा शिक्षकों ने मानदेय बढ़ाने को लेकर आंदोलन किया. सरकार ने इनकी मांग मानी भी. लेकिन अब इन पारा शिक्षकों को ससमय मानदेय नहीं मिल पा रहा है. फरवरी से इन शिक्षकों का मानदेय रुका हुआ है. जबकि इस संबंध में पारा शिक्षकों ने कई बार शिक्षा परियोजना समेत मुख्यमंत्री से मुलाकात की. हर स्तर से इन शिक्षकों को सिर्फ आश्वासन ही मिल रहा है. एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के सदस्यों ने संबंध में आठ अप्रैल को मुख्यमंत्री से मुलाकात की. इसके बाद भी इन शिक्षकों के मानदेय का भुगतान नहीं किया गया. राज्य में पारा शिक्षकों की संख्या 67,000 है.

इसे भी पढ़ें – स्पंज आयरन फैक्टरी की बढ़ेगी मुश्किल, 24 मई से ओड़िशा के ट्रक और ट्रेलर को झारखंड में आने से रोकेगा एसोसिएशन

दस से पंद्रह हजार है पारा शिक्षकों का मानदेय

लंबे आंदोलन के बाद राज्य सरकार ने पारा शिक्षकों के मानदेय में वृद्धि की. जो 2200 रुपये से लेकर पांच हजार रुपये तक है. जबकि वर्तमान में पारा शिक्षकों को दस से पंद्रह हजार मानदेय दिया जा रहा है. एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा के संयोजक संजय दुबे ने कहा कि पारा शिक्षक सुदूर क्षेत्रों में रह कर बच्चों को शिक्षित कर रहे हैं. जबकि सरकारी शिक्षकों को अच्छा वेतन दिया जाता है, जिसके सामने पारा शिक्षकों का वेतन कुछ भी नहीं है. ऐसे में पारा शिक्षकों को वेतन नहीं देना सरकार का पारा शिक्षकों के प्रति गैर जिम्मेदाराना नजरिये को दिखाता है.

इसे भी पढ़ें – महेश पोद्दार ने JBVNL को दिखाया आईना, कहा- बिजली पर्याप्त, डिस्ट्रीब्यूशन ठीक नहीं, लोड बढ़ना और कम उत्पादन सिर्फ बहाना

फिर से आंदोलन कर सकते हैं पारा शिक्षक

मानदेय रुकने के को लेकर पारा शिक्षकों में आक्रोश है. अगर सरकार पारा शिक्षकों के मानदेय का भुगतान जल्द से जल्द नहीं करती है तो पारा शिक्षकों की ओर से फिर से आंदोलन की रणनीति तैयार की जायेगी. संजय दुबे ने कहा कि यदि पारा शिक्षक फिर से आंदोलन करते हैं तो इसकी जिम्मेवारी राज्य परियोजना की होगी. वहीं उन्होंने मुख्यमंत्री, शिक्षा मंत्री, प्रधान सचिव, राज्य परियोजना निदेशक से आग्रह किया है कि जल्द से जल्द पारा शिक्षकों के रुके मानदेय भुगतान कर दें.

इसे भी पढ़ें – समीक्षा बैठक में बोले सीएम रघुवर दास – 30 लाख नए कनेक्शन से बिजली की खपत बढ़ी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है. कारपोरेट तथा सत्ता संस्थान मजबूत होते जा रहे हैं. जनसरोकार के सवाल ओझल हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्तता खत्म सी हो गयी है. न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए आप सुधि पाठकों का सक्रिय सहभाग और सहयोग जरूरी है. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें मदद करेंगे यह भरोसा है. आप न्यूनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए का सहयोग दे सकते हैं. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता…

 नीचे दिये गये लिंक पर क्लिक कर भेजें.
%d bloggers like this: