न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पॉलीटेक्निक कोर्स में साईनाथ विश्वविद्यालय बेहतर, कोर्स एआईसीटीई से है मान्य

विश्वविद्यालय में संचालित हो रहा पॉलीटेक्निक कोर्स झारखंड के विद्यार्थियों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है

255

Ranchi : झारखंड में साईनाथ विश्वविद्यालय इन दिनों डिप्लोमा के विद्यार्थियों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. साईनाथ विश्वविद्यालय राज्य का ऐसा निजी विश्वविद्यालय है, जिसने अपने सभी कोर्स एवं पाठ्यक्रमों में संबंधित नियामक संस्थाओं से मान्यता प्राप्त कर लिया है. इस विश्वविद्यालय में संचालित हो रहा पॉलीटेक्निक कोर्स झारखंड के विद्यार्थियों के लिए आकर्षण का केंद्र बना हुआ है, क्योंकि इस कोर्स को एआईसीटीई, नई दिल्ली से मान्यता प्राप्त है.

यूजीसी, नई दिल्ली के नियमों के अनुरुप कोर्स होने के साथ ही एआईसीटीई एवं अन्य नियामक संस्थाओं से मान्यता प्राप्त होने के कारण झारखंड के विद्यार्थी यहां संचालति हो रहे कोर्स को काफी पंसद कर रहे हैं. विश्वविद्यालय के डिप्टी रजिस्ट्रार डॉ मोहन लाल साहू ने बताया कि विश्वविद्यालय विद्यार्थियों की वर्तमान आवश्यकता के अनुरुप कोर्स बनाकर एआईसीटीई एवं अन्य नियामक संस्थाओं से मान्यता प्राप्त कर चुकी है. ताकि विद्यार्थियों की डिग्रियां देश के हर कोने में मान्य हो और उन्हें बेहतर रोजगार प्राप्त हो सके.

इसे भी पढ़ें- तीन तलाक पर कानून बनाना बेहतर प्रयास, कुप्रथा से मिलेगी मुक्ति : मिस्फिका हसन

मैट्रिक एवं इंटरमीडिएट पास विद्यार्थियों की पंसद है पॉलीटेक्निक कोर्स

झारखंड में मैट्रिक एवं इंटर पास विद्यार्थियों की पहली पसंद है पॉलीटेक्निक कोर्स, क्योंकि इसके माध्यम से छात्र डिप्लोमा की डिग्री प्राप्त कर उद्योग जगत में रोजगार के अवसर प्राप्त करते हैं.

ज्ञातव्य हो कि झारखंड के छात्र रेलवे, सेल, सीसीएल, मेकॉन जैसी संस्थाओं में डिप्लोमा की डिग्री के आधार पर सबसे ज्यादा योगदान करते हैं. इन्हीं छात्रों के भविष्य को संवारने के उदेश्य से साईंनाथ विश्वविद्यालय डिप्लोमा(पॉलीटेक्निक) कोर्स को आकर्षक बना रही है, ताकि उन्हें रोजगारपरक शिक्षा दी जा सके.

इसे भी पढ़ें – भूख लगने पर महिला ने रोटी चुराकर खा ली, तो मालिक ने नंगा कर बांध दिये हाथ-पैर, पूरे बदन पर लगाया मिर्च पाउडर का लेप

क्या कहते हैं विश्वविद्यालय के प्रो-चांसलर

साईनाथ विश्वविद्यालय के प्रो-चांसलर प्रो (डॉ) एसपी अग्रवाल ने बताया कि यह विश्वविद्यालय झारखंड के विद्यार्थियों के बीच अपनी विशेष पहचान स्थापित करना चाहती है. इसी उदेश्य से यहां रोजगारपरक एवं रोजगारसृजक पाठ्क्रम संचालित किये जा रहे हैं. यहां सभी पाठ्यक्रम एआईसीटीई एवं अन्य नियामक संस्थाओं से मान्यता प्राप्त है तथा निकट भविष्य में विश्वविद्यालय का नैक से मूल्यांकन भी कराया जायेगा.

silk_park

साथ ही इस विश्वविद्यालय में पीसीआई, नई दिल्ली द्वारा मान्यता प्राप्त डी- फार्मा, एनसीटीई से मान्यता प्राप्त डीएलएड, बीएड, एमएड, बीएड, बीए-बीएड, बीएसी-बीएड तथा शारीरिक शिक्षा में डीपीईएड एवं बीपीएड पाठ्यक्रम संचालित हो रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – रांची के अपराधी नहीं लगाते हैं हर दिन थाने में हाजिरी

इसके अलावे बार कौंसिल ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त एलएलबी, बीए-एलएलबी, बीबीए-एलएलबी एवं एलएलएम के पाठ्यक्रम भी संचालित हो रहे हैं.

कृषि के क्षेत्र में झारखंड को अग्र्रणी संस्थान दिलाने एवं स्वावलंबी बनाने के उदेश्य से इस विश्वविद्यालय द्वारा कृषि के क्षेत्र में बीएएसी का कोर्स भी संचालित किया जा रहा है.

साईनाथ विश्वविद्यालय झारखंड का एकमात्र निजी विश्वविद्यालय है, जिसकी अपनी जमीन, सुसज्जित शैक्षणिक भवन, अत्याधुनिक प्रयोगशाला, समृद्ध पुस्तकालय, खेल के मैदान तथा छात्र-छात्राओं के लिए अलग-अलग पूर्ण सुविधायुक्त छात्रावास सबकुछ एक ही कैंपस में उपलब्ध है. यही कारण है कि इसमें झारखंड के अलावे अन्य राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों के विद्यार्थी अध्ययनरत हैं.

इसे भी पढ़ें – राजधानी में अपराधी हुए बेलगाम, पुलिस से हथियार छीन भागा युवक

विश्वविद्यालय प्रबंधन ने केवल विद्यार्थियों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा ही प्रदान करता है, बल्कि उनके कैंपस सेलेक्सन पर भी सबसे ज्यादा ध्यान देकर उन्हें रोजगार दिलाता है. इसी क्रम में बीते दिनों इस विश्वविद्यालय के डिप्लोमा कोर्स के अंतिम सेमेस्टर के तथा वर्ष 2018 तक उत्तीर्ण लगभग सभी विद्यार्थियों का कैंपस सेलेक्शन राज्य तथा देश के कई प्रतिष्ठित कंपनी में हुआ है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: