DhanbadJharkhand

सेल कोलियरी ने लॉकडाउन में भी देशहित में मजदूरों से करवाया काम लेकिन नहीं दिया वेतन, उत्पन्न हुई भुखमरी की स्थिति

Dhanbad : सेल की चासनाला अपर सिम खदान में काम करने वाले आउटसोर्सिंग मजदूरों को लॉकडाउन के दौरान किये गये काम का भुगतान अभी तक नहीं मिला है जिस कारण इनके समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गयी है.

वेतन नहीं मिलने से नाराज मजदूरों ने इस माह की 19 तारीख को ही खान के अंदर ही भूख हड़ताल की थी. इस दौरान सेल प्रबंधन की ओर से यह घोषणा कर दी गयी थी कि दो दिनों के अंदर इन लोगों के वेतन का भुगतान कर दिया जायेगा. लेकिन अभी तक इन मजदूरों को वाली वेतन नहीं मिल पाया है.

इसे भी पढ़ेंः भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व स्टार बल्लेबाज और हेड कोच रवि शास्त्री मना रहे हैं अपना 58वां जन्मदिन

advt

भूख हड़ताल पर बैठने के बाद भी नहीं बनी बात

सेल प्रबंधन ने लॉकडाउन 1.0 के  बाद पावर प्लांट में कोयले की मांग बढ़ने से कोयला का उत्पादन  करने का निर्णय लिया था लेकिन लंबे समय तक खान बंद रहने से खान को सुचारू रूप से चलाने के लिए मजदूरों से ज्यादा काम लिया जा रहा था.

इसके बदले मजदूरों को इस काम के बदले तत्काल मजदूरी का भुगतान करने की बात कही गयी थी लेकिन लंबे समय बाद भी जब मजदूरों की मजदूरी का भुगतान नहीं किया गया तो मजदूर खान के अंदर ही भूख हड़ताल पर बैठ गये थे. अब एक बार फिर मजदूर वेतन भुगतान के लिए खान के अंदर ही भूख हड़ताल पर बैठने का मन बना रहे हैं.

इसे भी पढ़ेंः #Dumka: जोरिया से अपनी प्यास बुझाने को मजबूर टोला के 70 परिवार

… तो सेल प्रबंधन करेगा वेतन का भुगतान

वहीं इस मामले में सेल के सीजीएम ने बताया कि लॉकडाउन के कारण केंद्र सरकार के निर्देश पर कोयले का उत्पादन करवाना जरूरी था. इसलिए मजदूरों की सहमति के बाद कोयला उत्पादन करवाया जा रहा था. काम के बदले ठेकेदार को मजदूरों  को समय पर वेतन भुगतान की शर्

त रखी गयी थी लेकिन ठेकेदार द्वारा मजदूरों का भुगतान नहीं किया जा रहा है. ऐसे में सेल प्रबंधन ने ठेकेदार को जल्द वेतन भुगतान करने का निर्देश दिया था पर वह भी  विफल रहा. इसलिए मजदूर पुनः आंदोलन की राह अख्तियार कर सकते हैं.

सेल के सीजीएम ने यह भी बताया कि लॉकडाउन के कारण कोयले की ट्रांसपोर्टिंग प्रभावित हुई है, जिसका असर कंपनी के ऊपर भी पड़ा है.  कुछ दिनों में ठेकेदार मजदूरों के बकाया वेतन का भुगतान नहीं करता है तो सेल प्रबंधन उनके बकाये वेतन का भुगतान करेगा.

इसे भी पढ़ेंः रांची के कोचिंग सेंटर लूट कथा-03 : Online पढ़ाने के लिये अनट्रेंड हैं स्थानीय कोचिंग संस्थानों के टीचर

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: