ChaibasaJharkhand

Chakradharpur : श‍िक्षक दिवस पर साहित्य सम्मान परिषद नई दिशा ने 84 सेवानिवृत्त शिक्षक – शिक्षिकाओं को किया सम्मानित

Chakradharpur : शिक्षक दिवस के अवसर पर साहित्य सम्मान परिषद नई दिशा चक्रधरपुर की ओर से सोमवार को रेलवे के पंच मोड़ स्थित श्री श्री राधा गोविंद मंदिर परिसर में सम्मान समारोह आयोजित कर 84 सेवानिवृत्त शिक्षक – शिक्षिकाओं को सम्मानित किया गया. सम्मान समारोह के मुख्य अतिथि के तौर पर जवाहरलाल नेहरु कॉलेज के सेवानिवृत्त प्रो एके त्रिपाठी, विशिष्ट अतिथि सेवानिवृत्त शिक्षक बीएन प्रसाद उपस्थित थे. समारोह का शुभारंभ सर्वपल्ली राधाकृष्णन की तस्वीर पर फूल माला चढ़ाकर व दीप प्रज्वलित कार्यक्रम का शुभारंभ किया. इस अवसर पर मुख्य अतिथि श्री त्रिपाठी ने कहा कि शिक्षकों का कर्तव्य आईपीएस-आईएएस बनाने की नहीं है. अच्छी शिक्षा देना हर शिक्षक का कर्तव्‍य है और उन्हें समाज में सामाजिक नागरिक बनाना है जो भलीभांति शिक्षकों ने निर्वाह किया है. उन्होंने साहित्य सम्मान परिषद नई दिशा की कार्यक्रम का सराहनीय किये.

वहीं विशिष्ट अतिथि बीएन प्रसाद ने कहा कि डॉ सर्वपल्ली राधाकृष्णन के मार्गदर्शन पर चलना शिक्षकों का कर्तव्य है. शिक्षक समाज को आदर्श नागरिक देने का कार्य करता है. वहीं भगेरिया फाउंडेशन के अध्यक्ष विनोद भगेरिया ने कहा कि शिक्षकों का सम्मान होना चाहिए. बच्चों का पहला गुरु माता-पिता होते हैं. बच्चों का संस्कार ही शिक्षकों को सम्मान दिलाता है. लेकिन मॉडर्न जमाने में बच्चे अपने गुरुजनों का सम्मान देना भूल रहे हैं. झारखंड अल्पसंख्यक आयोग के पूर्व उपाध्यक्ष अशोक षाड़ंगी ने कहा कि शिक्षा से ही संस्कार मिलता है. समाज में जो कुरितियां फैली है, अशिक्षा का कारण है. इस अवसर पर सेवानिवृत्त अतिथियों व 84 शिक्षकों को फूलों का गुलदस्ता, प्रमाण पत्र और शॉल ओढ़ाकर सम्मानित किया गया.
इनकी रही मौजूदगी


मौके पर मुख्यरुप से नई दिशा के निर्देशक श्रवण कुमार मिश्र, अध्यक्ष जेपी शेखर, प्रोजेक्ट मैनेजर श्याम त्रिपाठी, सचिव राजू प्रसाद कसेरा, तजम्मुल हुसैन, प्रशांति साह आदि मौजूद थे.

ये भी पढ़ें- Jamshedpur Accident: जमशेदपुर के डीसी कार्यालय से घर लौट रहे घाटशिला के शिक्षक सड़क दुर्घटना में घायल, घंटों पड़े रहे सड़क पर

Related Articles

Back to top button