JharkhandJharkhand StoryLead NewsSahibganjTODAY'S NW TOP NEWSTop Story

साहिबगंज: पहाड़िया समुदाय के 10 महीने का अनाज विभाग ने डकारा,उपायुक्त ने दिए जांच का आदेश, 3 दिनों में अनाज का हो वितरण

Sahibganj: साहिबगंज के पतना प्रखंड में सैकड़ों पहाड़िया समुदाय के लोगों का 10 महीने का अनाज विभाग डकार गया है. इस मामले का खुलासा तब हुआ जब मीलों दूर पैदल चलकर पहाड़िया समुदाय के सैकड़ों महिला-पुरुष अपनी शिकायत लेकर उपायुक्त कार्यालय पहुंचे और उपायुक्त से इस संबंध में शिकायत की. उपायुक्त रामनिवास यादव से पहाड़िया समुदाय के लोगों ने बताया कि नवंबर 2021 से अगस्त 2022 तक का प्रधानमंत्री जनकल्याण योजना के तहत मिलने वाले मुफ्त अनाज उन्हें नहीं दिया गया है. इस योजना का डीलर जो उस प्रखंड के एमओ यानी मार्केटिंग ऑफिसर हैं,उन्होंने इन गरीब पहाड़ियों को अनाज वितरण नहीं किया. इस मामले की जानकारी मिलते ही तत्काल डीसी ने जिला आपूर्ति पदाधिकारी को मामले की जांच करने का आदेश दिया.

यह भी पढ़ें: रांची के कमांड कंट्रोल और कम्युनिकेशन सेंटर के उच्च तकनीक से रूबरू हो रहे हैं छात्र-छात्राएं

जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने माना,हुई है लापरवाही
जिला आपूर्ति पदाधिकारी जयदीप तिग्गा ने इस संबंध में बताया कि शुरूआती जांच में पता चला है कि ऑनलाइन सिस्टम में सभी पहाड़ियों के नाम से अनाज का वितरण हो चुका है ऐसे में अब यह जांच का विषय है कि जब पहाड़ियों को अनाज मिला ही नहीं तो फिर उनके नाम से अनाज का वितरण कहां हुआ और उनके खाते का अनाज किन्हें बांट दिया गया और क्यों. जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने जल्दी ही इस संबंध में मार्केटिंग ऑफिसर से पूछताछ करने और जांच करने की बात कही.

पहाड़िया समुदाय में है भारी नाराजगी
इस मामले के सामने आने के बाद से ही पहाड़ों में रहकर अपना जीवन गुजर-बसर करने वाले पहाड़िया समुदाय में भारी नाराजगी है. उनका कहना है कि एक तो उनके पहाड़ों पर पाए जाने वाले पत्थर,कोयला आदि प्राकृतिक संसाधन को सभी लोग लूट रहे हैं और अब प्रधानमंत्री व केंद्र सरकार द्वारा दिए जाने वाले मुफ्त अनाज को भी लोग डकार ले रहे हैं,पहाड़िया को देना नहीं चाहते. पहाड़िया समुदाय के सिमोन मालतो ने इस संबंध में जिला प्रशासन को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि यदि उनके हक का अनाज उन्हें नहीं मिला तो पहाड़िया समाज आने वाले दिनों में उग्र आंदोलन करेगी. अब देखना है कि जिला प्रशासन पहाड़िया समुदायों को अनाज दिला पाती है या फिर पहाड़िया समुदायों को आंदोलन पर उतरना होगा.

Sanjeevani

Related Articles

Back to top button