न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

साहेबगंज जिला प्रशासन की बड़ी कार्रवाईः 8 अवैध क्रशर ध्वस्त, 25 सील

निर्धारित लीज से ज्यादा खनन करना पड़ेगा महंगा, वसूला जायेगा जुर्माना- एसडीओ

634

Sahebgunj: साहेबगंज जिला प्रशासन ने अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई करते हुए कई अवैध क्रशर को ध्वस्त किया, वही कुछ को सील किया गया. जिला मुख्यालय अंतर्गत तालझारी क्षेत्र के सकरीगली, बासकोला गदवा पहाड़ में संचालित अवैध क्रशर पर बुधवार को ये कार्रवाई हुई, जो देर शाम तक चलती रही.

इसे भी पढ़ेंःअब पाकुड़ की जनता कह रही कैसे डीसी के संरक्षण में हो रहा है अवैध खनन, सवालों पर डीसी चुप

ज्ञात हो कि बीते 17 अक्टूबर को राजमहल अनुमंडल पदाधिकारी कर्ण सत्यार्थी द्वारा गदवा पहाड़ में संचालित क्रशर की जांच के दौरान वहां कार्यरत मैनेजर के साथ कहासुनी हो गई थी. दरअसल एसडीओ ने क्रशर के पेपर की मांग की थी. इस दौरान एसडीओ के बॉडीगार्ड के साथ हाथापाई हुई थी. जिनको लेकर तालझारी थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई थी.

25 क्रशर के खिलाफ कार्रवाई

बताया जा रहा है कि राजमहल अनुमंडल पदाधिकारी द्वारा धारा 133 के तहत सकरीगली स्थित क्रशर ऑनर को नोटिस किया गया था. जिसमें सभी क्रशर ऑनर को खदान के सभी कागजात के साथ दिनांक 25 अक्टूबर को अनुमंडल न्यायालय में उपस्थित होने का आदेश दिया गया था. लेकिन मियाद पूरी होने से एक दिन पूर्व ही जिला प्रशासन ने कार्रवाई कर दी. इस दौरान राजमहल एसडीओ कर्ण सत्यार्थी एवं जिला खनन पदाधिकारी विभूति कुमार, जिला वन पदाधिकारी मनीष तिवारी, साहेबगंज एसडीओ अमित प्रकाश, राजमहल अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी सुनील सिंह, तालझरी अंचल अधिकारी शिवाजी भगत सहित तालझारी थाना के एसआई बी मांझी सहित जिले से अतिरिक्त तीन बसों में पुलिस-प्रशासन को लेकर क्रशर को ध्वस्त एवं सील कर दिया गया. टास्क फोर्स टीम ने तालझारी प्रखंड अंतर्गत सकरीगली गदवा मौजा में छापेमारी कर, वहां कागजातों के बगैर अवैध रूप से संचालित 25 क्रशर के खिलाफ कार्रवाई की.

इसे भी पढ़ेंःJPSC के सिलेबस में बड़े बदलाव की तैयारीः पहले मेंस से ऑप्सनल हटा- सीसेट रद्द हुआ, फिलहाल मेंस में जेनरल नॉलेज का पेपर

नहीं बख्शे जायेंगे पत्थर माफिया

एसडीओ ने कार्रवाई की जानकारी देते हुए बताया कि गदवा पहाड़ पर 25 क्रशर बिना कागजात के चल रहे थे. सभी लीजधारी क्रशर भूमि की मापन प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है. पहले बड़े लीज धारकों का मापन किया जाएगा. यदि क्रशर मालिकों ने कागजात प्रस्तुत नहीं किया तो, सभी क्रशर मालिकों पर अवैध रूप से क्रशर चलाने के आरोप में प्राथमिकी भी दर्ज कराई जाएगी. इधर मामले को लेकर इलाके के क्रशर संचालकों में हड़कंप मच गया है.

वही तालझारी के बीडीओ सह अंचलाधिकारी शिवाजी भगत ने बताया कि अवैध क्रशर को ध्वस्त किया जा रहा है.साथ ही क्रशर संचालकों के खिलाफ विधि सम्मत कार्रवाई की जाएगी. छापेमारी के दौरान ललन सिंह, पुतुल सिंह, गोवर्धन यादव के साथ दर्जनों क्रशर को सील कर दिया गया. वहीं पप्पू गुप्ता, मोहन सिंह, किशोर राय समेत 20 क्रशर संचालकों के क्रशर ध्वस्त कर दिया गया. गॉडेस के पूर्व विधायक संजय यादव का भी क्रेशर प्लांट सील किया गया हैं.

इसे भी पढ़ेंःबकोरिया कांडः डीजीपी के कारण गृहमंत्री की हैसियत से मुख्यमंत्री रघुवर दास भी आ सकते हैं जांच के…

क्रशर मालिकों में हड़कंप

क्रेशर मालिकों को समझ में नहीं आ रहा है कि जब प्रशासन ने 25 अक्टूबर को कागजात पेश करने को कहा था, तो एक दिन पहले ही कार्रवाई क्यों की गई. सूत्रों की मानें तो पत्थर व्यवसायियो के द्वारा अनुमंडल पदाधिकारी के ऊपर राजमहल न्यायालय में पीसीआर केस किया गया है. इन्हीं सब कारणों से ये कार्रवाई की जा रही है. जिसे सभी क्रशर ऑनर प्रतिशोध की भावना से की गई कार्रवाई मान रहे हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: